जानें एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 7.1 नुगट के 10 फीचर्स जो मार्शमेलो में नहीं हैं

गूगल हर बार एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम का नया अपडेट देता है और कंपनी इसके साथ ही कुछ नए फीचर्स भी जोड़ती है। यही वजह है कि स्मार्टफोन की खरीदारी के दौरान यह जानकारी दी जाती है​ कि आप सबसे अपडेट आॅपरेटिंग सिस्टम वाला फोन लें। फिलहाल एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 7.1 नुगट सबसे नया है। ऐसे में उपभोक्ताओं के दिमाग में हमेशा यह सवाल आता है कि आखिर इस आॅपरेटिंग सिस्टम में क्या नया है जो पुराने में नहीं है। तो ​चलिए आपको हम बताते हैं एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 7.1 नुगट के 10 फीचर्स हो 6.0 मार्शमेलो में नहीं है।

1. मल्टी विंडोज फंक्शनालिटी
एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 7.1 नुगट में आप मल्टी विंडोज फीचर का उपयोग कर सकते हैं। इस फीचर की मदद से आप साइड बाई साइड दो ऐप को एक साथ रन कर सकते हैं। जैसे यूट्यूब वीडियो देखते हुए इमेल मैसेजिंग आदि कर सकते हैं। अब यह फीचर सैमसंग गैलेक्सी नोट सहित कुछ फोन था लेकिन उसे थर्ड पार्टी ऐप से किया जाता था। जबकि नुगट में इसे ओएस के साथ पेश किया गया है। मल्टी विंडोज फीचर आपको एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 6.0 मार्शमेलो में नहीं मिलेगा।

2. डाटा सेवर
एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 6.0 मार्शमेलो में डाटा सेवर का फीचर आपको ब्राउजर में मिलता है जबकि नुगट आॅपरेटिंग सिस्टम के साथ गूगल ने इसे ओएस में रखा है। अब आप डाटा सेटिंग में जाकर डाटा सेवर को आॅन कर सकते हैं।

3. न्यू क्विक सेटिंग
क्विक सेटिंग का विकल्प एंडरॉयड आपरेटिंग ​सिस्टम में बहुत पहले से है लेकिन 6.0 मार्शमेलो में कंपनी ने इसमें थोड़ा एडिट का आॅप्शन दिया था। वहीं 7.0 नुगट में इसकी उपयोगिता और बढ़ गई है। इमसें आपको ज्यादा कस्टमाइजेशन मिलेगा। अब आप खुद से सेट कर सकते हैं कि किस एप्लिकेशन को कहां रखना है। इसके अलावा आप स्वाइप कर दो पेज पर भी इसे देख सकते हैं। मार्शमेलो में आपको यह नहीं मिलेगा।

4. क्विक ऐप स्विच
ऐप मैनेजर फीचर एंडरॉयड में कॉफी पहले से है जहां हम एक साथ उन सभी ऐप्स को देख सकते हैं जिन्हें ओपेन किया था। आप वहां से ऐप को स्विच कर सकते हैं। परंतु एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 7.0 नुगट में आप क्विक ऐप स्विचिंग का उपयोग कर सकते हैं। मल्टी टास्क बटन पर आप दो बार क्लिक करते हैं तो लास्ट दो ऐप आपके सामने खुलकर आ जाएंगे। यह फीचर मार्शमेलो में नहीं है।

5. नंबर कर सकते हैं ब्लॉक
आपको यह जानकर हैरानी होगी कि अब तक एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम में किसी नंबर को ब्लॉक करने का फीचर नहीं था। हालांकि थर्ड पार्टी ऐप से आप किसी नंबर को ब्लॉक कर सकते हैं लेकिन एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 7.0 नुगट में कंपनी ने इसे ओएस के साथ पेश किया गया है।

6. नोटिफिकेशन बंच
नोटिफिकेशन सेवा तो एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 6.0 में भी मिलेगी लेकिन नुगट में कंपनी ने इसे काफी अच्छा बदलाव किया है। अब सभी एक तरह के नोटिफिकेशन एक बंडल में मिलेंगे। अर्थात यदि व्हाट्सऐप के नोटिफिकेशन आए हैं तो एक ही जगह मिलेंगे, वहीं फेसबुक के नोटिफिकेशन एक बंच में। दूसरे ऐप के नोटिफिकेशन के साथ भी ऐसा ही है। इसे आप नोटिफिकेशन फिल्टर भी कह सकते हैं। जबकि मार्शमेलो में आपको एक के बाद एक नोटिफिकेशन मिलेंगे।

7. एंडरॉयड टीवी रिकॉर्डिंग
एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 7.0 नुगट का एक्सक्लूसिव फीचर है पिक्चर इन पिक्चर मोड। वहीं एंडरॅयड नुगट में आप एंडरॉयड टीवी से कंटेंट को रिकॉर्ड कर सकते हैं। न्यू एपीआई रिकॉर्डिंग में कंपनी ने यह सपोर्ट दिया है।

8. जिफ़ इमेज
हालांकि कहा जा सकता है​ कि एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 6.0 मार्शमेलो नुगट की अपेक्षा बहुत पीछे नहीं है लेकिन थोड़े-थोड़े ऐसे कई बदलाव हैं जो नुगट को ज्यादा बेहतर बनाते हैं। ऐसा ही एक फीचर है जिफ़ इमेज का। गूगल ने एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 7.0 नुगट में जिफ़ इमेज फीचर को कीबोर्ड में ही पेश किया है। मैसेज और चैटिंग में आप इस जिफ़ इमेज का उपयोग कर सकते हैं। मार्शमेलो में आपको थर्ड पार्टी ऐप का सहारा लेना होगा।

9. पाथ ऐप इंस्टॉल
बड़े—बड़े ऐप इंस्टॉल होने में काफी समय लग जाते हैं। ऐसे में एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 7.0 नुगट को कंपनी ने क्विक पाथ एप इंस्टॉल सपोर्ट है। जहां बड़े-बड़े ऐप भी बेहद कम समय में इंस्टॉल होंगे। इस फीचर की वजह से ऐप अपडेट में भी काफी कम समय लगेगा। यह फीचर मार्शमेलो में नहीं मिलेगा।

10. डायरेक्ट बूट
नुगट का यह फीचर भी बेहद शानदार है यह आपको मार्शमेलो में नहीं मिलेगा। क्रोम ब्राउजर में आपने गौर किया होगा कि यदि किसी कारणवश ब्राउजर अचानक से बंद हो जात है तो आप उसे फिर वहीं से स्टार्ट कर सकते हैं। एंडरॉयड नुगट में भी गूगल ने इस फीचर को पेश किया है जिसे डायरेक्ट बूट के नाम से जाना जाता है। यदि आपका फोन हैंग हो गया या किसी कारणवश आप उपयोग नहीं कर पा रहे हैं तो डायरेक्ट बूट से फोन को रिस्टार्ट कर सकते हैं। इसमें बूट होने के बाद सभी सेवाएं वैसी ही होंगी जैसे आपने पहले छोड़ी थीं।