चार्जिंग के दौरान इन 5 ग​लतियों से आपका फोन हो सकता है जल्दी खराब

एंडरॉयड फोन की समस्या और उनका समाधान हिंदी में

भले ही आपका फोन 50 फीसदी से ज्यादा चार्ज हो लेकिन जैसे ही कोई चार्जर दिखाई देता है वैसे ही आपको लगता है कि अभी फोन को चार्जिंग में लगा दें। क्योंकि आज स्मार्टफोन में बैटरी खपत ज्यादा है और फोन कभी भी डिस्चार्ज हो जाता है। परंतु आपको बता दूं कि ऐसा कर आप अपने फोन के साथ खिलवाड़ करते हैं। कहीं भी अपना फोन चार्ज में नहीं लगाना चाहिए। इससे फोन को काफी नुकसान पहुंचता है। हालांकि सिर्फ इतना ही नहीं अपने फोन चार्जिंग को लेकर और भी कई तरह की गलतियां करते हैं जिससे फोन को खराब होने का खतरा बना होता है। आगे हमनें ऐसी ही कुछ गलतियों का जिक्र किया है।

1. मोबाइल केस लगाए हुए फोन को चार्ज करना
आज ज्यादातर फोन मैटल बॉडी के बने होते हैं और उपर से लोग फैंसी कवर लगा देते हैं। ऐसे में हो सकता है कि चार्जिंग के दौरान आपके फोन में गर्म होने की शिकायत हो सकती है। इसलिए यदि आपने फैंसी कवर लगया है जिसमें मैटल का काम है तो चार्जिंग के दौरान उसे निकाल दें। इतना ही नहीं कई कवर ऐसे होते हैं जिनकी वजह से चार्जर ठीक से कनेक्ट नहीं होता। यदि आपके फोन के साथ भी ऐसा है तो कवर को हटा ही दें। इससे

आपका शाओमी रेडमी नोट 4 हो रहा है गर्म तो जानें कैसे करें उसे ठीक

2. ज्यादा वायरलेस चार्जिंग का उपयोग
आज कई फोन में वायरलेस चार्जिंग सपोर्ट है। परंतु शायद मालूम नहीं कि फोन चार्ज करने के लिए ज्यादा वायरलेस चार्जिंग का उपयोग नहीं करना चाहिए। वायरलेस चार्जिंग के दौरान बैटरी और केस दोनों से तेज गर्मी (हीट) निकलती है। यही वजह है कि ज्यादा वायरलेस चार्जिंग का उपयोग फोन को खराब कर सकता है। ओवर हीटिंग से बचने के लिए फोन में पोर्टेबल चार्जिंग का उपयोग करें तो ज्यादा बेहतर होगा।

3. बैटरी को​ 100 फीसदी चार्ज
आप अपने फोन को चार्जिंग पर जब भी लगाते हैं कोशिश यही होती है कि वह सौ फीसदी तक चार्ज हो। परंतु आप नहीं जानते कि इससे बैटरी कपैसिटी कम होती है। बैटरी एक्सपर्ट का कहना है लीथियम आॅयन बैटरी 80-30 फीसदी तक चार्ज रखें। इससे फोन की पावर कपैसिटी बेहतर बनी होती है।

जानें वेबसाइट, मोबाइल, स्टोर और एसएमएस से कैसे प्रीबुक करें अपना जियोफोन

4. बैटरी बिल्कुल 0 करना
यदि आप अक्सर अपने फोन की बैटरी ​पूरी तरह से डिस्चार्ज कर देते हैं तो भी गलत है। इससे भी बैटरी खराब होने का खतरा बढ़ जाता है। लीथियम आयन बैटरी बार—बार डिस्चार्ज होने से परफॉर्मेंस पर असर पड़ता है। ?

5. नकली चार्जर का उपयोग
ब्रांडेड चार्जर महंगे होते हैं ऐसे में लोग सस्ते अनब्रांडेड चार्जर का उपयोग करते हैं। परंतु आपको मालूम नहीं है​ कि इससे बैटरी परफॉर्मेंस पर असर होता है। इन चार्जर का पावर सप्लाई का कोई स्टैंडर नहीं होता ऐसे में फोन को सही मात्रा में पावर नहीं मिलता। इस कारण फोन की बैटरी को नुकसान होता है और घटिया क्वालिटी के चार्जर फोन को नुकसान पहुंचा सकते हैं। हाल में शाओमी के फोन ब्लास्ट में यही मामला देखने को मिला था।

SHARE
Previous articleवीवो फिर ला रहा है दमदार सेल्फी फोन, दाम भी होगा कम
Next articleजियो ने बनाया रिकार्ड कुछ ही घंटों में बिके 30 लाख जियोफोन
टेक्नोलॉजी शौक नहीं इनका जुनून है और इसी जुनून ने इन्हें टेक जगत में आने के लिए प्रेरित किया। मुकेश कुमार सिंह उन चंद लोगों में से हैं जिन्होंने हिंदी में मोबाइल रिव्यू लिखने की शुरूआत की। अपने 15 सालों के प​त्रकारिता के सफर की शुरुआत इन्होंने हिंदी डेली से की और पिछले 13 सालों से ये मोबाइल तकनीकी क्षेत्र में सक्रिय हैं। अब तक ये मॉय मोबाइल मैगजीन और बीजीआर जैसे वेबसाइट के लिए कार्य कर चुके हैं। वहीं जागरण और नवभारत टाइम्स जैसे अखबारों में इनके लेख नियमित रूप से छपते रहते हैं।