5G का रास्ता हुआ साफ, Jio, Airtel, Vodafone Idea और MTNL को मिला स्पेक्ट्रम

5g network allocated to jio airtel vodafone and mtnl for testing purpose

भारत में 5G सर्विस को लेकर कई तरह की बातें हो रही हैं उसी बीच DoT डिपार्टमेंट ऑफ टेलिकॉम ने शुक्रवार को देश में 5G सर्सिस की टेस्टिंग के लिए टेलीकॉम ऑपरेटरों को स्पेक्ट्रम आवंटित कर दिया है। 5जी सर्विस की टेस्टिंग के लिए स्पेक्ट्रम का आवंटन Jio, Airtel, Vodafone Idea और MTNL को किया गया है। अब ये कंपनी बड़े तौर पर इस टेस्टिंग को शुरू कर सकेंगी। दी गई जानकारी के अनुसार टेलीकॉम ऑपरेटर्स को 700 मेगाहर्ट्ज बैंड, 3.3-3.6 गीगाहर्ट्ज़ बैंड के अलावा 24.25-28.5 गीगाहर्ट्ज़ बैंड का आवंटन देश के अलग—अलग हिस्सों में किया गया है। स्पेक्ट्राम के आवंटन के बाद आशा है कि भारत में 5G सर्विस के लिए यह परीक्षण दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, बेंगलुरु, गुजरात, हैदराबाद सहित विभिन्न स्थानों पर आयोजित किया जाए।

हालांकि परमीशन लेटर में सरकार द्वारा यह स्पष्ट रूप से निर्देश दिया गया है कि टेलीकॉम ऑपरेटर्स को 5G की यह टेस्टिंग शहरी की क्षेत्र के अलावा ग्रामीण और अर्ध-शहरी में क्षेत्रों में भी करना होगा जिससे कि 5G तकनीक का लाभ पूरे देश में मिल सके औ यह सिर्फ शहरी क्षेत्रों तक ही सीमित न रहे। इसमें सबसे खास बात यह कही जा सकती है कि DoT द्वारा इस परिक्षण से चाइनीज कंपनियों को दूर रखा गया है और 5G टेस्टिंग की अनुमती Reliance Jio, Bharti Airtel और Vodafone Idea के अलावा MTNL को दिया गया है। इसे भी पढ़ेंः क्या सच में 5G से हो रही है ऑक्सीजन की कमी? रेडिएशन घोल रही है हवा में ज़हर, जानें पूरी सच्चाई

इन भारतीय ऑपरेटरों को DoT ने एरिक्सन, नोकिया, सैमसंग और सी-डॉट के 5G टेक्नोलॉजी सर्विस की टेस्टिंग करने की अनुमती दी है। वहीं इस ट्रायल की सबसे खास बात यह है कि Reliance Jio Infocomm 5G परिक्षण के लिए अपनी स्वदेशी तकनीक का उपयोग करेगा। इसे भी पढ़ेंः Jio कंपनी से यूजर्स की मांग, 5G बेशक देर से लाओ लेकिन पहले 4G की स्पीड तो बढ़ाओ

लेटेस्ट वीडियोः Infinix Hot 10S Gaming Test | Battery drain test | Heating test

सरकार को उम्मीद है कि 5G सर्विस में 4G के मुकाबले दस गुना बेहतर डाउनलोड स्पीड और तीन गुना बेहतर स्पेक्ट्रम इफिशियेंसी मिलेगी। इस ट्रायल में टेली-मेडिसिन, टेली-एजुकेशन और ड्रोन-आधारित कृषि निगरानी सर्विसेज पर फोकस होगा जिससे कि 5जी आने के बाद इनमें बेहतर सुधार किया जा सके। फिलहाल परीक्षणों की अवधि छह महीने के लिए है जिसमें उपकरणों की खरीद और उसके स्थापना के लिए दो महीने का समय शामिल किया गया है।

LEAVE A REPLY