सुप्रीम कोर्ट को अहम फैसाला, सिम के लिए जरूरी नहीं होगा आधार कार्ड, जानें कहां है आधार जरूरी और कहां नहीं

know how to download e aadhaar card online in hindi

आधार कार्ड को लेकर अक्सर सरकार, जनता और कोर्ट के बीच खींच तान बनी होती है। इसी के बीच सुप्रीम कोर्ट ने आधार कार्ड को लेकर कुछ अहम फैसला सुनाया है जो न सिर्फ जनता को राहत देने वाली है बल्कि आधार का उपयोग कहां होगा और कहां नहीं होगा इस बारे में भी स्पष्ट कर दिया गया है। इस फैसले से सबसे बड़ी राहत मोबाइल फोन यूजर्स को मिली है अब आपको सिम की खरीदारी के लिए आधार कार्ड देने की जरूरत नहीं है बल्कि किसी दूसरे पहचान पत्र का सहारा ले सकते हैं।

कोर्ट का फैसला
सुप्रीम कोर्ट को अहम फैसाला, सिम के लिए जरूरी नहीं होगा आधार कार्ड, जानें कहां है आधार जरूरी और कहां नहीं
अब तक सरकार ने मोबाइल सिम लेने के लिए आधार को जरूरी कर रखा था। यहां तक यदि किसी ने पहले से मोबाइल सिम की खरीदारी कर रखी है तो उसे भी ईकेवाईसी माध्यम से अपना आधार वेरिफिकेशन करना जरूरी था। परंतु कोर्ट के इस फैसले के बाद यह अनिवार्यता खत्म हो गई है। हां, इस फैसले ने जरूर मोबाइल कंपनियों के लिए सिर दर्दी बढ़ा दी है क्योंकि उन्होंन ईकेवाईसी की पूरी सेटअप तैयार कर रखी है और आधार कार्ड न देने पर अब फिर से नया सिम लेने पर ग्राहकों का फिजिकल वेरिफिकेशन करना पड़ सकता है। 10जीबी रैम से लैस होगा विश्व का सबसे पावरफुल फोन ओपो फाइंड एक्स

सबसे खास बात यह कही जा सकती है कि सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को अपने इस अहम् फैसले में केन्द्र की महत्वाकांक्षी योजना आधार को संवैधानिक रूप से वैध करार दिया है जिसकी वैधता को लेकर काफी समय से सवाल उठ रहे थे। परंतु इस फैसले के साथ ही कोर्ट ने यह भी साफ कर दिया कि बैंक खाता, मोबाइल फोन, स्कूल दाखिला और परिक्षा के दौरान आधार की अनिवार्यता नहीं होगी। भूल जाएंगे सैमसंग और सोनी, शाओमी ने लॉन्च किए 3 नए स्मार्ट टीवी

आधार के वैधता की को लेकर यह फैसला सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा के नेतृत्व वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने ली है। हालांकि इसके साथ ही कोर्ट ने आयकर रिटर्न भरने और पैन कार्ड बनाने और सरकारी योजनाओं का लाभ लेने में आधार की अनिवार्यता को बरकरार रखा है।

टेलीकॉम कंपनियों की परेशानी
सर्विस सेंटर में फोन देने से पहले इन 12 बातों का जरूर रखें ध्यान
सुप्रीम कोर्ट द्वारा निजी कंपनियों के आधार के इस्तेमाल पर लगाये गये प्रतिबंध से टेलीकॉम, बैंकिंग और ई-वॉलेट जैसी कंपनियां प्रभावित होंगी। माना जा रहा है कि आधार सत्यापन न होने से पुराना फिजिकल वेरिफिकेशन प्र​क्रिया अपनाने में खर्च दस गुणा ज्यादा बढ़ जाएगा। पहले आप अपने वोटर आईटी, पैन कार्ड या फिर राशन कार्ड सहित किसी दूसरे पहचान पत्र को दिखाकर सिम ले लेते थे और कंपनियों को घर या दिए गए पते पर जाकर फिजिकल वेरिफिकेशन करना होता था। इस प्रकिया में लंबा चौड़ा फार्म भरने से लेकर पूरी प्रकिया में कागज का काफी उपयोग होता था।

वहीं ई​वेरिफिकेशन में सिर्फ आपका आधार नंबर मांगा जाता था और अगूठा लगाने के साथ ही पूरी वेरिफिकेशन हो जाती है। अलग से फिजिकल वेरिफिकेशन की जरूरत नहीं होती है। ऐसे में यह प्रकिया टेलीकॉम कं​पनियों के लिए काफी आसान हो गई थी। अब कोर्ट ने निजी कंपनियां को आधार डाटा ऐक्सेसे पर रोक लगाने के लिए इस तरह का कदम उठाया है।

हालांकि इस आदेश के बाद इंडियन सेल्यूलर ऑपरेटर एसोसिएशन (सीओएआई) का कहना है कि हम सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का सम्मान करते हैं लेकिन इससे टेलीकॉम कंपनियों को पर अतिरिक्त बोझ वित्तीय बोझ बढ़ेगा जो कि पहले से 7.8 लाख करोड़ के कर्ज में डूबी हैं।

ग्राहकों को क्या होगा फायदा
aadhar-card-app
सुप्रीम कोर्ट के इस फैसेल के बाद आम लोगों के लिए राहत की बात है कि अब वे फिर से वोटर आईडी या पैन कार्ड सहित दूसरे पहचान पत्र का सहारा ले सकते हैं। वे चाहें तो आधार कार्ड नंबर शेयर नहीं कर सकते हैं। आधार कार्ड में बैंक डिटेल सहित कई निजी जाकारियां होती हैं और जिसके दुरुपयोग का हमेश डर लगा होता है।

ग्राहकों को क्या होगा नुकसान
how to see services link with aadhar card
हालांकि ईवेरिफिकेशन बंद होने से ग्राहकों को सबसे बड़ा नुकसान यह होगा कि फिर से लंबी प्रकिया से गुजरना होगा। इसके साथ ही यदि सिम खरीद भी लेते हैं तो उसे एक्टिवेशन में थोड़ा ज्यादा समय लग सकता है। इतना ही नहीं अब कंपरियां सिम चार्ज को भी बढ़ा सकती हैं क्योंकि उनके खर्चे बढ़ जाएंगे।

सरकार यह है कहना
सूचना-प्रौद्योगिकी एवं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद
इस बारे में सूचना-प्रौद्योगिकी एवं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद का कहना है कि केंद्र सरकार कानून में थोड़ा बदलाव कर सकती है और इसके लिए कानून ला सकती है जिससे कि निजी कंपनियां कुछ हद तक आधार का उपयोग कर सके लेकिन निजी डाटा का गलत उपयोग न हो। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि यह एक लंबी प्रकिया है और इसमें थोड़ा समय लग सगता है।

किन कामों के लिए होगा आधार कार्ड जरूरी
1. यदि आप पैन कार्ड बनाने जा रहे हैं तो आधार नंबर देना अनिवार्य होगा।
2. वहीं इनकम टैक्स रिटर्न भरने के दौरान भी आधार नंबर देना जरूरी है।
3. इसके साथ ही यदि आप सरकार की लाभकारी योजनाओं और सब्सिडी आदि का लाभ लेना चाहते हैं तो आधार नंबर देना ही पड़ेगा।

किन कामों के लिए अब आधार कार्ड नहीं है जरूरी
1. जैसा कि हम पहले ही जिक्र कर चुके हैं मोबाइल सिम लेने के दौरान अब आपको आधार नंबर देना अनिवार्य नहीं है।
2. हाल में स​रकार ने बैंक अकाउंट के लिए आधार को अनिवर्य कर दिया था लेकिन कोर्ट ने साफ कर दिया है कि बैंक अकाउंट खुलवाने के लिए आधार नंबर की ज़रूरत अब नहीं होगी।
3. छात्रों के लिए सबसे अच्छी खबर है। सीबीएसई, यूजीसी, निफ़्ट और कॉलेज आदि में अब आपको आधार नंबर देने की जरूरत नहीं है।
4. यदि किसी स्कूल में दाखिला लेना चाहते हैं तो अब आधार की अनिवार्यता नहीं होगी।
5. कोर्ट ने अपने फैसले में सपष्ट रूप से कहा है कि किसी भी बच्चे को आधार न होने पर सरकारी योजनाओं का लाभ देने से इनकार नहीं किया जा सकता है।