Jio 5G vs Airtel 5G: जानें दोनों में क्या है अंतर और किसका 5जी है सबसे फास्ट

भारत में 5G की शुरुआत को लेकर पिछले कुछ दिनों से काफी कुछ अच्छी खबरें सुनने को मिल रही हैं। दरअसल, इस हफ्ते की शुरुआत में ही खबर सामने आई थी, जिसके अनुसार 3.5GHz बैंड पर काम करने वाले Airtel 5G नेटवर्क का गुरुग्राम में ट्रायल शुरू कर दिया है। इतना ही नहीं, एक वीडियो में एयरटेल के 5जी नेटवर्क की स्पीड भी दिखाई गई थी। इसके अलावा दो दिन बाद खबर आई कि मुंबई में दिग्गज कंपनी रिलायंस जियो ने भी 5G ट्रायल की शुरुआत कर दी है। लेकिन, अब इन दोनों के 5G ट्रायल के बाद इस बात को लेकर सवाल शुरू हो गए हैं कि किसका 5G बेस्ट होगा, कौनसी कंपनी ज्यादा बेहतर 5G सर्विस उपलब्ध कराएगी और दोनों कंपनी के 5G में क्या अंतर है। इन्हीं सवालों को देखते हुए आज हम अपने इस लेख में कोशिश करेंगे कि आपको यह जानकारी दे पाएं कि आखिर Jio और Airtel के 5G में अंतर क्या है।

Jio 5G Vs Airtel 5G: डाउनलोड और अपलोड स्पीड

एयरटेल 5जी ट्रायल के दौरान 1,000 एमबीपीएस (1 जीबीपीएस) तक की डाउनलोड स्पीड मिल थी। वहीं, इस ट्रायल में 100 एमबीपीएस की अपलोड स्पीड देखी गई थी। हालांकि, जियो के 5G ट्रायल में स्पीड को लेकर कोई जानकारी सामने नहीं आई थी। लेकिन, पिछले साल अमेरिका में जियो द्वारा की गई 5G ट्रायल के दौरान 1 Gbps की स्पीड दर्ज की गई थी। इसके अलावा Ookla की लेटेस्ट रिपोर्ट के मुताबिक मोबाइल इंटरनेट स्पीड की लिस्ट में भारत 130वें पायदान पर है। हालांकि, 5G आने के बाद इस रैंकिंग में सुधार होने की उम्मीद की जा सकती है। इसे भी पढ़ें: 5G नहीं, भारत में आएगा 5Gi, जानें क्यों खास है यह तकनीक

airtel-5g

Jio 5G Vs Airtel 5G: टेक्नोलॉजी

Reliance Jio मुंबई में 5G ट्रायल कर रही है और इस ट्रायल के लिए घरेलू तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है। भले ही कंपनी मुंबई ट्रायल के लिए घरेलू तकनीक का इस्तेमाल कर रही हो, लेकिन रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली और पुणे में 5G ट्रायल के लिए कंपनी ने क्रमश: Ericsson और Nokia के साथ हाथ मिलाया है। इसके अलावा गुजरात में कंपनी Samsung के साथ मिलकर 5G ट्रायल शुरू करने की योजना बना रही है। वहीं, एयरटेल का ट्रायल फिलहाल गुरुग्राम साइबर हब में चल रहा है। 5जी के ट्रायल के लिए Airtel ने स्वीडन की कंपनी Ericsson के साथ साझेदारी की है। गुरुग्राम के अलावा कंपनी की प्लानिंग जल्द ही मुंबई में भी 5जी की टेस्टिंग की है।

Jio 5G Vs Airtel 5G: बैंड

Airtel 5G का जिस साइट पर यह ट्रायल चल रहा है, वह 3500 MHz बैंड पर काम कर रही है। आपको याद दिला दें कि इस साल की शुरुआत में, एयरटेल 1800 मेगाहर्ट्ज बैंड में लिबरलाइज्ड स्पेक्ट्रम का उपयोग करके लाइव नेटवर्क पर 5G का परीक्षण करने वाला भारत का पहला टेल्को बना था। वहीं, दूसरी कंपनी जिसने एयरटेल के बाद 5G का ट्रायल किया वह खिताब Jio के पास गया है। जियो ने मुंबई में फील्ड टेस्ट के लिए मिड (सब -6GHz) और mmWave ट्रायल स्पेक्ट्रम का इस्तेमाल किया है। इसके अलावा दूरसंचार विभाग ने Jio और Airtel को 5G ट्रायल के लिए 700MHz, 3.2GHz से 3.6GHz और 24.25Ghz से 28.5GHz बैंड्स मुहैया कराए हैं।

jio-5g

Jio 5G Vs Airtel 5G: स्पैक्ट्रम सिटी

जियो ने दिल्ली, हैदराबाद और गुजरात में ट्रायल के लिए भी आवेदन किया है। दूसरी ओर, प्रतिद्वंद्वी एयरटेल के पास दिल्ली-एनसीआर, मुंबई, कोलकाता और बेंगलुरु में 5जी स्पेक्ट्रम है। वहीं, DoT ने टेलीकॉम आपरेटर्स को शहरी क्षेत्रों के अलावा ग्रामीण और छोटे शहरों में भी 5G का ट्रायल करने को कहा है, ताकि 5G तकनीक का लाभ पूरे देश को मिले।

Jio 5G Vs Airtel 5G: सस्ता 5G फोन

Jio 24 जून को अपनी वार्षिक मीट AGM को आयोजित कर रही है, जिसमें 5G फीचर्स और ‘किफायती’ 5G स्मार्टफोन के बारे में भी कुछ घषणाएं हो सकती हैं। इस फोन के लिए जियो ने गूगल के साथ साझेदारी की है। हालांकि, एयरटेल को लेकर अभी ऐसी कोई जानकारी नहीं है। लेकिन, जियोफोन के लॉन्च के कुछ समय बाद तक ऐसी खबरें सामने आई थीं कि एयरटेल भी अपना सस्ता 4G फोन ला सकती है। इसे भी पढ़ें: 5G का रास्ता हुआ साफ, Jio, Airtel, Vodafone Idea और MTNL को मिला स्पेक्ट्रम

Jio 5G Vs Airtel 5G: कब मिलेगा फास्ट इंटरनेट

फिलहाल, एयरटेल और जियो के ग्राहकों को ट्रायल के दौरान 5जी नेटवर्क का अनुभव प्राप्त नहीं होगा, भले ही उनके पास 5जी सपोर्ट वाला स्मार्टफोन हो। दरअसल, सरकार ने फिलहाल कंपनियों को ग्राहकों के साथ टेस्टिंग की अनुमति नहीं दी है। ऐसी टेस्टिंग के लिए ऑपरेटर जिन डिवाइस का इस्तेमाल करते हैं, उन्हें अपने निर्माता के साइड से एक खास सॉफ्टवेयर अपडेट की जरूरत होती है, ताकि इस नेटवर्क के पब्लिक रोलआउट से पहले इसकी टेस्ट किया जा सके।

LEAVE A REPLY