अमेज़न से मंगाया था 34,000 हजार का म्यूज़िक सिस्टम, बॉक्स में निकले नारियल!

इस महीने की शुरूवात में ही देश की नामी शॉपिंग साइट अमेजन का नाम सुर्खियों में छाया था। इन सुर्खियों की वजह कोई शॉपिंग सेल या रिकॉर्ड तोड़ बिक्री नहीं थी, बल्कि वजह थी अमेज़न से मंगाए फोन के बॉक्स में साबुन का निकलना। अमेज़न पर आरोप लगे थे कि वेबसाइट से पैसे चुकाकर स्मार्टफोन मंगाने पर फोन के बॉक्स में साबुन डिलीवर किया गया था। इस वाकये से अमेजन पर सवालिया निशान खड़े हुए थे। लेकिन लगता है अमेज़न की साख पर लगी यह धूल अभी छंटने वाली नहीं है। यह मामला अभी ठंडा पड़ा भी नहीं था कि फिर से अमेज़न ने नाम एक और धोखाधड़ी का केस जुड़ गया है। नए मामले में अमेज़न से मंगाए सामान में 34,000 रुपये के म्यूज़िक सिस्टम की बजाय ‘नारियल’ निकला है।

शाओमी फिर बना देश का नंबर वन ब्रांड, सैमसंग यूजर्स की संख्या हुई कम

दिल्ली के रहने वाले ऋषभ गुलाटी ने 14 नवंबर को अमेज़न इंडिया से एक म्यूज़िक सिस्टम आॅर्डर किया था। यह म्यूज़िक सिस्टम बॉस कंपनी का था जिसकी कीमत 33,638 रुपये थी। ऋषभ ने वेबसाइट पर म्यूज़िक सिस्टम आॅर्डर करने के साथ ही पूरी राशि चुका दी थी। एक दिन बाद यानि 15 नवंबर को अमेज़न की ओर से यह म्यूज़िक सिस्टम दिल्ली के महारानी बाग इलाके में स्थित ऋषभ के घर पर डिलीवर कर दिया गया।

अमेजन की ओर सेे डिलीवर किए जाने के बाद जैसे ही ऋषभ ने म्यूज़िक सिस्टम का बॉक्स खोला तो वह दंग रह गए। अमेज़न की पैकिंग से लैस बॉक्स में म्यूज़िक सिस्टम नहीं था, ​बल्कि म्यूज़िक सिस्टम की जगह कुछ पुराने रद्दी कपड़े और दो नारियल थे। म्यूज़िक सिस्टम का बॉक्स हल्का न लगे और शक न हो इसलिए उस बॉक्स में दो नारियल रखे गए थे जो उस बॉक्स को वजनदार बना रहे थे।

शाओमी का तोहफा : कंपनी ने अपने 5 हिट स्मार्टफोन वेरिएंट्स की कीमतें की कम

ऋषभ ने अपने साथ हुई इस ठगी को सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक पर पोस्ट किया है और साथ ही उसमें अमेज़न इंडिया को भी टैग किया है। खबर लिखे जाने तक अमेज़न द्वारा ऋषभ से कोई भी कॉन्टेक्ट नहीं किया गया है। 33,638 रुपये जैसी बड़ी रकम चुकाने के बाद इस तरह का धोखा खाने से ऋषभ खुद को ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। बहरहाल अमेज़न इस तरह के फ्रॉड पर क्या ​कदम उठाएगी इस बारे में तो अभी कुछ नहीं कहा जा सकता है। लेकिन इस तरह के आॅनलाईन ठगी के मामले लगातार सामने आने से एक ओर जहां आॅनलाईन शॉपिंग से लोगों को विश्वास उठा रहा है वहीं दूसरी ओर डिजीटल इंडिया जैसे नारों का स्वर भी धीमा पड़ता नज़र आ रहा है।