एप्पल पुराने आईफोन 6 के बदले दे रहा है नया एप्पल आईफोन, जानें क्यों

5 point to keep in mind when purchasing and selling a Second Hand Smartphone

मोबाईल जगत में अलग पहचान बनाए हुए एप्पल न सिर्फ अपने बेहतरीन डिवाईस के लिए जाना जाता है वरन् साथ ही अपने ग्राहकों का विश्वास बनाए रखने के लिए यह अपनी ​कन्जयूमर सर्विस और संतुष्टि का भी पूरा ध्यान रखता है। इसका ताजा उदाहरण चीन में देखने को मिल रहा है जहां एक तय समय के दौरान निर्मित डिवाईस के आई खामियों के चलते उन डिवाईसेज़ को कंपनी द्वारा रिप्लेस किया जा रहा है।

दरअसल एप्पल को सूचना मिली थी कि सितंबर-अक्टूबर 2015 के दौरान निर्मित एप्पल आईफोन 6 की बैटरी में खराबी आ रही है। इन फोन्स में की पावर 30 प्रतिशत होने पर कुछ ही सेकेंड में बैटरी ​जीरों प्रतिशत तक हो जा रही है तथा फोन बंद हो रहे हैं। तथा फोन को चार्जिंग पर लगाने के बाद बैटरी 30 प्रतिशत पावर से ही चार्ज होना शुरू करती है।

iphone6

कंपनी द्वारा निरीक्षण करने पर बैटरी में मैन्युफैक्चरिंग खामियां पाई गई। कंपनी ने बताया कि निर्माण में हुई चूक के चलते बैटरी में अतिरिक्त जगह रह गई है, जिससे बैटरी में हवा का भर जाती है और एक लिमिट तक पहुंचने के बाद फोन की बैटरी डिस्चार्ज हो जाती है। हालांकि कुछ टेक्नों एक्सपर्ट्स का कहना है कि ऐसी स्थिति में बैटरी का बंद हो जाना फोन के इंटरनल पार्ट्स और सर्किट्स को बड़े नुकसान से बचाता है।

खराब फोन की जांच कराने और रिप्लेसमेंट के लिए एप्पल की ओर से सर्पोट पेज उपलब्ध कराया गया है जहां आईफोन यूजर्स अपने हैंडसेट का सीरियल नंबर डाल कर पता कर सकते हैं कि आपके फोन में भी निर्माण के दौरान कोई कमी रह गई थी या नहीं।

2017 में लॉन्च हो सकते हैं आईफोन 7एस और आईफोन 7एस प्लस

फिलहाल तो एप्पल की ओर से खराब आईफोन को ठीक करने के लिए मुहिम चलाई जा रही है। परंतु मंहगे डिवाईस तथा ऊंचा नाम होने के बावजूद इस तरह की खामियां कंपनी की साख पर बट्टा लगाती है। खासकर तब जब आप अपने ब्रांड की दसवीं सालगिरह के करीब हो।