सोते वक्त हुआ फोन में ब्लास्ट, बेड पर ही हुई मौत

odisha-man-dies-after-mobile-phone-blast-near-head-while-sleeping
गूगल से ली गई प्रतिरूपक फोटो

स्मार्टफोन आज मोबाइल यूजर्स की पहली जरूरत बन चुके हैं। दिन की शुरूआत से लेकर रात में सोने तक व्यक्ति हर वक्त स्मार्टफोन आपने साथ रखता है। लेकिन मोबाइल का यह यूज़ अक्सर खतरनाक भी साबित होता रहता है। स्मार्टफोंस की बैटरी में ब्लास्ट होने या आग लगने की खबरें आती रहती है। इस तरह के हादसे लोगों में खौफ तो पैदा करते ही रहते हैं लेकिन अब एक और ऐसी दुर्घटना घटी है जिसमें स्मार्टफोन में ब्लास्ट होने की वजह से यूजर्स को अपनी जान गंवानी पड़ी है।

यह सनसनीखेज़ मामला मलेशिया का है। जहां नाज़रीन हसन नाम के एक व्यक्ति की मौत उसी के फोन में ब्लास्ट होने से हो गई। मीडिया रिपोर्ट्स से पता चला है कि नाज़रीन मलेशियन वित्त मंत्रालय के लिए काम करते थे और क्रैडल फंड नााम की एक संस्था के सीईओ थे। खबर के मुताबिक नाज़रीन अपना स्मार्टफोन चार्जिंग पर लगाकर सोए थे और फोन ब्लास्ट होने से उनकी मौत हो गई।

nazrin-hassan

रिपार्ट्स के अनुसार नाज़रीन के पास ब्लैकबेरी और हुआवई के दो स्मार्टफोन ​​थे। नाज़रीन ये दोनों ही स्मार्टफोन चार्जिंग पर लगाकर सो रहे थे कि अचानक से एक फोन में ब्लास्ट हो गया। ब्लास्ट के बाद उठी लपटों से बैडरूम में रखे गद्दों में आग लग गई। आग लगने से सारा घर धुआं धुआं हो गया और दम घुटने से नाज़रीन की मौत हो गई। हालां​कि दोनों में से किस फोन में ब्लास्ट हुआ यह अभी तक साफ नहीं हो पाया है।

आईफोन 10 से भी महंगा है यह स्मार्टफोन, 1,33,000 रुपये से भी ज्यादा कीमत वाले इस फोन को देखते ही हो जाएंगे फिदा

वहीं दूसरी ओर नाज़रीन के घर वालों का कहना है कि उनकी मौत दम घुटने से नहीं हुई है। मृतक के परिवार वालों के अनुसार फोन में ब्लास्ट हुआ था और उसके कुछ देर बाद घर में आग लग गई। जैसे ही फोन में धमाका हुआ तो फोन के कुछ टुकड़े नाज़रीन के सिर में चुभ गए और उस चोट की वजह से घर में धुआं फैलने से पहले ही उनकी मौत हो गई थी।

शाओमी ने भारत में खोला 1,000वां सर्विस सेंटर, 600 शहरों में कंपनी दे रही है अपनी सेवा

बहरहाल स्थानिय पुलिस इस मामले की छानबीन करने में जुटी है कि नाज़रीन के कौन से स्मार्टफोन में पहले ब्लास्ट हुआ था और उनकी मौत कैस हुई। इस तरह से हादसों से बचने के लिए 91मोबाइल्स की टीम आपको राय देता चाहती है कि अपने स्मार्टफोन को ओवरहिट होने से बचाए तथा चार्जिंग इत्यादि के लिए कंपनी की आॅरिजनल एक्सेसरीज़ का ही इस्तेमाल करें।