प्राइवेट टेलीकॉम कंपनियों को आगे बढ़ाने के चक्कर में BSNL हो रही इग्नोर! क्या है इस मुद्दे पर आपकी राय?

union budget 2022 government provide 44720 crore rupee to bsnl 4g spectrum restructuring

इस वक्त इंडिया में कुल चार ही टेलीकॉम कंपनियां बची है। इनमें Reliance Jio, Airtel और Vodafone Idea जहां प्राइवेट कंपनियां हैं वहीं भारत संचार निगम लिमिटेड यानी BSNL ही एकमात्र सरकारी दूरसंचार कंपनी है। निजी कंपनियां जहां इन दिनों पूरे दल-बल के साथ 5G Trials में जुटी है वहीं बीएसएनएल अभी भी 4G Network पाने की जद्दोजहद में लगी है। बीते दिनों सभी निजी कंपनियों ने अपने टैरिफ प्लान्स की दरें बढ़ा दी है लेकिन बीएसएनएल अभी भी कई मायनों में सबसे सस्ते प्लान्स पेश कर रही है। लेकिन इन सबके बीच BSNL की दुर्दशा पर सवाल उठ रहे हैं कि क्या सच में सरकार प्राइवेट टेलीकॉम कंपनियों को शह देने के चक्कर में बीएसएनएल को दबा रही है।

91मोबाइल्स के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अक्सर इस तरह के कमेंट्स आते रहते हैं जहां BSNL को बेहतर सर्विस प्रोवाइडर बताया जाता है तथा Jio, Airtel और Vi की सेवाओं और पॉलिसी के प्रति नकारात्मक विचार रखे जाते हैं। लेकिन अब यह लोकमत इतना आगे पहुॅंच चुका है कि एक राजनेता द्रमुक सांसद दयानिधि मारन ने बीएसएनएल के पिछड़ेपन के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहरा दिया है और लोकसभा में सवाल उठाते हुए आरोप लगाया है कि प्राइवेट कंपनियों को फायदा पहुॅंचाने के लिए BSNL को नजरअंदाज किया जा रहा है।

bsnl bad conditions in india govt favouring jio airtel vi private telecom 4g 5g service

Jio को प्राप्त सरकार का साथ

सबसे पहले दयानिधि मारन द्वारा उठाए गए मुद्दे की ही बात करें तो उन्होंने कहा है कि बीएसएनएल की 4G और 5G सर्विस का कुछ भी अता-पता नहीं है और इसके लिए सरकार ही दोषी है। मारन ने कहा है कि BSNL के यूजर्स को सर्विस न मिल पाने की वजह से लोग Jio नेटवर्क से जुड़ रहे हैं और सरकार इसका समर्थन करती है। सांसद ने यह तक कह डाला है कि जियो के विज्ञापन में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीरों का इस्तेमाल किया जाता है और सरकार इससे भी गुरेज़ नहीं करती। यह भी पढ़ें : BSNL Rs 247 या फिर Jio Rs 249, जानें किसका प्लान है बेस्ट और क्यों ?

4G के लिए तरसती BSNL

रिलायंस जियो, एयरटेल और वोडाफोन आइडिया इस वक्त देश में 5जी ट्रायल्स रन कर रही है और इसके लिए सरकार की ओर से उन्हें स्पेक्ट्रम भी उपलब्ध कराए गए हैं। लेकिन वहीं दूसरी ओर इस वक्त बीएसएनएल के पास 4जी नेटवर्क तक नहीं है। हाल ही में कंपनी की ओर से अनाउंसमेंट की गई थी कि अगले साल यानी 2022 में सितंबर महीने तक पूरे देश में बीएसएनएल की 4जी सर्विस लॉन्च कर दी जाएगी। बीएसएनएल का कहना है कि 4G Service चालू होने से कंपनी को 900 करोड़ रुपये तक का मुनाफा हो सकता है।

BSNL STV 94 Plan with 75 days validity 100 minutes free calling offer

इन दिनों दुनिया के बहुत से राष्ट्र 5जी नेटवर्क पर हाईस्पीड 5जी इंटरनेट चला रहे हैं तथा कई देश तो अभी से 6G की रेस में जुड़ चुके हैं। ऐसे में इंडियन गवर्नमेंट के तहत काम करने वाली टेलीकॉम कंपनी 4जी नेटवर्क के लिए तरस रही है, जो बेहद शर्मनाक है। वहीं दूसरी ओर 5जी के दौर में अगर बीएसएनएल 4जी सेवा देकर 900 करोड़ के फायदे का दावा करती है तो, यह बात गौर करने वाली है कि अगर इस कंपनी के पास 2-3 साल पहले 4G Network आ चुका होता तो बीएसएनएल समेत इंडियन टेलीकॉम इंडस्ट्री की सूरत ही कुछ ओर होती। यह भी पढ़ें : क्या अब 23 दिनों का होगा मंथली प्लान, कंपनियों के मनमानी के आगे बेबस यूजर्स

निजी कंपनियों की मनमानी

रिलायंस जियो, एयरटेल और वोडफोन आइडिया ने बीते दिनों अपने प्रीपेड प्लान्स की कीमतें बढ़ाते हुए उन्हें महंगा कर दिया है। एक ही हफ्ते में तीनों कंपनियां अपने दाम बढ़ा चुकी है जिसका सीधा प्रभाव आम मोबाइल यूजर पर पड़ा है। यूजर्स के पास ऑप्शन्स कम बचे हैं और बीएसएनएल की दुर्दशा के चलते लोग 4जी नेटवर्क छोड़कर बीएसएलएल के 3जी नेटवर्क पर स्वीच करने में हिचकिचा रहे हैं।

bsnl bad conditions in india govt favouring jio airtel vi private telecom 4g 5g service

प्लान्स की कीमतें बढ़ाने के साथ ही प्राइवेट टेलीकॉम कंपनियों ने प्लान्स की वैलिडिटी के साथ ही छेड़छाड़ करनी शुरू कर दी है। अभी तक जो प्लान्स 28 दिनों की वैधता के साथ आते थे, उन्हें 24 दिन, 23 दिन, 21 दिन, 18 दिन और 15 दिन का कर दिया गया है। भोलाभाला उपभोक्ता अपनी जरूरत के लिए मजबूरी में रिचार्ज तो करवा रहा है लेकिन इसका सीधे असर उसकी जेब पर पड़ रहा है। मोबाइल यूज़ करने का खर्चा सोनो के भाव बढ़ रहा है और टेलीकॉम कंपनियां की चांदी हो रही है।

5 COMMENTS

  1. बिलकुल सही बात है, बीएसएनएल को सरकार की अनदेखी का सामना करना पड़ रहा है नहीं तो आज बीएसएनएल की सूरत कुछ और होती।
    देश में निजीकरण को बढ़ावा देने के कारण सरकार बीएसएनएल पर बिलकुल भी ध्यान नहीं दे रही और ये भी एक कारण हो सकता है की विपक्ष सरकार को पूंजीपतियों की सरकार कहती है।!!!!

  2. बीएसएनएल की ग्रामीण क्षेत्रों में हालत खराब है आये दिन ofc केबल कटने व बिजली बंद होते ही टावर बंद हो जाते है सुदूर ग्रामीण क्षेत्र ने नेटवर्क की कमी है ।उपभोक्ता मजबूर होकर निजी कंपनी की सीम का उपयोग करते है ।

  3. Sarkar janta ka chutiya bna rhi h private compny s ko 4g network diye pr inke plan gtiya. Mhina 30 dn ka or plan 24 / 28 dn ka bs or vo bhi 249 / 299 rs m or speed k nam pr ghntaa BSNL ko 4g ntwork speed di jaye taki inki akl tikane aaye

  4. बीलकुल सही बात घर को लगा दी आग घर के चिरागों ने
    इनके करती ही ले के डुबे है BSNL को

  5. हमको किसी भी हालत में बीएसएनएल को अपनाना होगा कम से कम मोबाइल मे आपको एक सिम बीएसएनएल की रखनी चाहिए और उसमे कभी रिचार्ज खत्म ना हो बीएसएनएल को आगे बढ़ाया

LEAVE A REPLY