4जी फोन की खरीदारी से पहले इन 5 बातों का जरूर रखें ख्याल

आज आप स्मार्टफोन की खरीदारी कर रहे हैं तो जाहिर है 4जी सपोर्ट न हो तो आप उसे नहीं खरीदेंगे। परंतु किसी भी 4जी फोन को उठा लेना क्या सही है? या यूं कहें कि 4जी फोन के नाम किसी भी फोन को ले लेना सही है? नहीं, आपको बता दूं कि 4जी फोन का मतलब है ऐसा फोन जिस पर सुपर फास्ट इंटरनेट चला सकें, तेजी से डाटा सेवाओं का उपयोग कर सकें और बिना बफर के इंटरनेट चला सकें। इसलिए यदि आप 4जी फोन की खरीदारी कर रहे हैं तो कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है। आगे हमने इन्हीं बातों का जिक्र किया है।

1. बैंड
spectrum
​​4जी फोन की खरीदारी से पहले आप इस बात को जरूरी ध्यान दें कि फोन में 4जी के लिए कौन—कौन से बैंड सपोर्ट हैं। भारत में एयरटेल, वोडाफोन, आइडिया, आरकॉम और रिलायंस जियो द्वारा मुख्य रूप से 2300 मेगाहट्र्ज स्पेक्ट्रम बैंड और 1800 मेगाहट्र्ज स्पेक्ट्रम बैंड पर 4जी सेवाएं दी हा रही हैं। 4जी सेवा के लिए 1800 स्पेक्ट्रम बैंड 3 कहा जाता है ज​बकि 2300 मेगाहट्र्ज बैंड 30 है। ऐसे भारत 4जी फोन की खरीदारी से पहले यह जरूर जान लें कि यह फोन किस-किस बैंड पर 4जी सर्विस दे सकता है। यदि इससे ज्यादा है तो और बेहतर है वह भारत के बाहर भी कुछ देशों में 4जी सर्विस सपोर्ट करने में सक्षम होगा।

आपका एंडरॉयड फोन हो गया है पुराना जानें 9 बेहतरीन उपयोग

2. कैट.
speed-2
अक्सर आपने 4जी फोन में कैट. का जिक्र सुना होगा। परंतु आपने सोचा है कि यह कैट. है क्या? यदि आप एक अच्छे 4जी फोन की तलाश कर रहे हैं तो आपको इसके बारे में जानना जरूरी है। कैट. आपके 4जी फोन की स्पीड को बताता है। अर्थात वह 4जी पर कितने गति से डाटा ट्रांसफर करने में सक्षम है। यदि किसी फोन में कैट.3 सपोर्ट है तो वह 100 एमबीपीएस तक की गति से ही डाटा हस्तांतरण करने में सक्षम है। इसी तरह यदि कैट.4 है तो 150 एमबीपीएस, कैट.6 है तो 300 एमबीपीएस, कैट.9 है तो 450 एमबीपीएस और यदि कैट. 11 है तो 4जी नेटवर्क पर 600 एमबीपीएस तक की गति से डाटा हस्तांतरण करने में सक्षम होगा।

3. वोएलटीई सपोर्ट
smartphone-calling-4 91Mobiles
हाल के दिनों में आपने 4जी के साथ वोएलटीई के बारे में जरूर सुना होगा। वोएलटीई आशय है वॉयस ओवर एलटीई अर्थात एलटीई नेटवर्क के उपर वॉयस का उपयोग करना। एलटीई विशेष तौर से डाटा के लिए जाना जाता है लेकिन वोएलटीई में सिस्टम के माध्यम से एलटीई नेटवर्क पर वॉयस का उपयोग किया जाता है। रिलायंस जियो ने अपनी 4जी सर्विस शुरू करने के साथ ही वोएलटीई कॉलिंग को लाइफ टाइम के लिए मुफ्त कर दिया है। वहीं खबर है कि एयरटेल भी वोएलटीई सर्विस शुरू कर सकता है। ऐसे में यदि आप भारत में 4जी फोन की खरीदारी कर रहे हैं तो वोएलटीई जरूर देखें।

आपके स्मार्टफोन की स्क्रीन टूट गई है तो पीसी से कर सकते हैं उसका उपयोग, जानें कैसे

4. प्रोसेसर
asus-zenfone-3-zoom-display-processor
यदि आप बेहतर 4जी फोन की खरीदारी करना चाहते हैं तो फोन का प्रोसेसर ताकतवर होना जरूरी है। कोशिश करें कि ज्यादा क्लॉकस्पीड वाला प्रोसेसर हो। जैसे 1.5गीगाहट्र्ज या इससे उपर का ही हो। वहीं यदि आॅक्टाकोर प्रोसेसर लेते हैं तो और भी बेहतर है। ताकतवर चिपसेट होने से आपके फोन तेजी से प्रोसेस करेगा और आप तेजी फोन का उपयोग कर जाएंगे।

5. रैम व रोम
4gb-ram
यदि बिना किसी रोक टोक आप अपने फोन पर फास्ट 4जी सर्विस का उपयोग करना चाहते हैं तो कोशिश करें कि फोन में रैम मैमोरी और रोम मैमोरी बड़ी हो। एंडरॉयड फोन में आज 10,000 रुपये से कम के बजट में 3जीबी रैम और 32जीबी मैमोरी वाले फोन उपलब्ध हैं। ऐसे में कोशिश करें कि कम से कम इस स्पेसिफिकेशन के फोन लें। इससे फोन हैंग होने, अटकने और क्रैश होने जैसी शिकायत कम मिलेगी।

बोनस
उपर दिए गए स्पे​सिफिकेशन के अलावा यदि आप बड़ी बैटरी और बड़ी स्क्रीन का ध्यान रखते हैं तो भी ज्यादा बेहतर है।

SHARE
Previous articleशाओमी के पाइनकोन प्रोसेसर से लैस होगा मी 5सी
Next article22 फरवरी को एलजी भारत में लॉन्च करेगी चार नए स्मार्टफोन
टेक्नोलॉजी शौक नहीं इनका जुनून है और इसी जुनून ने इन्हें टेक जगत में आने के लिए प्रेरित किया। मुकेश कुमार सिंह उन चंद लोगों में से हैं जिन्होंने हिंदी में मोबाइल रिव्यू लिखने की शुरूआत की। अपने 11 सालों के प​त्रकारिता के सफर की शुरुआत इन्होंने हिंदी डेली से की और पिछले 10 सालों से ये मोबाइल तकनीकी क्षेत्र में सक्रिय हैं। अब तक ये मॉय मोबाइल मैगजीन और बीजीआर जैसे वेबसाइट के लिए कार्य कर चुके हैं। वहीं जागरण और नवभारत टाइम्स जैसे अखबारों में इनके लेख नियमित रूप से छपते रहते हैं।