चाइनीज कंपनियों को जबरदस्त टक्कर दे रहे हैं इंडियन ब्रांड्स, चुनौतियों के साथ अवसर भी लाया 2023

    भारतीय कंपनियां Lava, Boat, Noise और Fire Bollt के साथ 2023 में कई चुनौतियां हैं। इसके साथ ही यह साल कई अवसर भी लेकर आया है।

    Highlights
    • सबसे सस्ता 5G स्मार्टफोन लॉन्च कर भारतीय कंपनी Lava ने चाइनीज कंपनी को दी थी टक्कर
    • वीयरेबल मार्केट में भारतीय कंपनियों के साथ टक्कर में चाइनीज ब्रांड हुए पस्त
    • boAt, Noise और Fire Boltt ने किफायती प्रोडक्ट लॉन्च कर चाइनीज कंपनियों का पछाड़ा

    2023 में हम सभी की नज़रें इंडियन स्मार्टफ़ोन और वियरेबल कंपनियों पर रहेगी। साल 2022 में भारतीय मोबाइल फ़ोन कंपनी Lava ने सबसे कम कीमत सबसे 5G स्मार्टफ़ोन लॉन्च कर धमाका कर दिया था। इंडियन स्मार्टफोन मार्केट में जहां चाइनीज़ कंपनियों का बोलबाला है तो वियरेबल्स में भारतीय कंपनियों मार्केट में राज कर रही हैं। आज हम आपको इंडियन ब्रांड्स के बारे में जानकारी दे रहे हैं, जिनसे साल 2023 में बड़ी उम्मीदें हैं।

    Lava से बड़ी उम्मीदें

    इंडियन स्मार्टफ़ोन मार्केट में चाइनीज़ कंपनियों की बढ़ते जाल और मज़बूत उपस्थिति के बीच भारतीय कंपनियां बहुत पहले ही दम तोड़ चुकी हैं। यह सुखद रहा कि साल 2022 में चाइनीज़ कंपनियों को Lava ने मज़बूत टक्कर देने की कोशिश की है। कंपनी ने Lava Blaze 5G स्मार्टफोन लॉन्च कर खूब सुर्ख़ियां बटोरी, यह फ़ोन सबसे कम क़ीमत में 5G कनेक्टिविटी सपोर्ट के साथ आने वाला पहला स्मार्टफ़ोन था।

    लावा ने साल 2022 में चाइनीज़ कंपनियों को माथें पर शिकन की लकीरें ज़रूर पैदा की हैं। ऐसे में हम सभी को साल 2023 में लावा से ऐसे कुछ धमाके की उम्मीद हैं। लावा 2023 में क्या करेगा क्या नहीं यह तो भविष्य के गर्म लेकिन वीयरेबल मार्केट में इंडियन कंपनियों से काफ़ी उम्मीदें हैं। साल 2022 में वीयरेबल सेग्मेंट में इंडियन कंपनियों ने चाइनीज़ कंपनियों सर उठाने का मौक़ा नहीं दिया। सेल रिपोर्ट्स तो कुछ ऐसा ही कहती हैं। यह भी पढ़ें : Best Lava Phones in India : सस्ते में 5G से लेकर दमदार परफ़ॉर्मेंस वाले लावा के सबसे बेस्ट स्मार्टफ़ोन

    वीयरेबल मार्केट में इंडियन ब्रांड्स की धमक

    वीयरेबल मार्केट में भारतीय ब्रांड्स ने चाइनीज कंपनियों को खूब परेशान किया है। सेल रिपोर्ट्स की माने तो बोट, नॉइस और फायर-बोल्ट जैसी कंपनियों का अकेले 54.8 प्रतिशत भारतीय मार्केट में हिस्सेदारी रही है। इंडियन कंपनी BoAt इस मामले में सबसे ऊपर रही। भारतीय वीयरेबल्स मार्केट में कंपनी का मार्केट शेयर 32.1 प्रतिशत था और कंपनी की साल दर साल ग्रोथ 19.5 प्रतिशत रही।

    indian-brands

    दूसरे नंबर पर Noise का सब-ब्रांड Nexxbase रहा। वीयरेबल मार्केट में कंपनी की हिस्सेदारी 13.8 प्रतिशत की रही। वहीं एक और इंडियन कंपनी Fire-Boltt इस मार्केट में 8.9 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ तीसरे पायदन पर रहा। यह आकड़ें नवंबर 2022 तक के हैं।

    BoAt

    BoAt की पहचान साउंड डिवाइसेस के लिए होती रही लेकिन कंपनी के वीयरेबल भी भारतीयों को खूब पसंद आ रहे हैं। वीयरबेल्स में इयरब्ड्स के साथ फ़िटनेस ट्रेकर भी शामिल है। बीते कुछ सालों में कंपनी ने अपनी भरोसेमंद छवि बनाते हुए इंडियन मार्केट में चाइनीज़ कंपनियों को जो धोबी पछाड़ दी है। उससे उम्मीद है कि साल 2023 में भी यह जलवा क़ायम रहे।

    Noise

    स्मार्टवॉच के मामले Noise ने इंडियन मार्केट में अपनी पकड़ काफ़ी मज़बूत की है। कंपनी के प्रोडक्ट लोगों को खूब पसंद आते हैं। इसका प्रमुख कारण अफोर्डेबल क़ीमत और लेटेस्ट ट्रेंडिंग फ़ीचर्स हैं। कंपनी की मार्केटिंग स्किल का नतीजा है कि नॉइस ने चाइनीज़ कंपनियों को डटकर मुक़ाबला करने के साथ-साथ कम क़ीमत में डिवाइसेंस लॉन्च किए और अपनी मज़बूत दावेदारी पेश करने के साथ अपनी स्थिति को भी मज़बूत बनाया है।

    Fire-Boltt

    वीयरेबल मार्केट में इंडियन कंपनी Fire-Boltt तीसरे पायदान पर है। कंपनी स्मार्ट वॉच और इयरबड्स लॉन्च करती आई हैं। नॉइस और बोट की तरह फायर-बोल्ट भी कम कीमत में लेटेस्ट फीचर्स वाले प्रोडक्ट को लॉन्च कर मार्केट में टिकी रही और चाइनीज कंपनियों को इस सेग्मेंट में टक्कर दी है।

    indian-brands-lava

    साल 2022 की तरह 2023 में भी हमारी उम्मीद Lava, BoAt, Noise और Fire Boltt जैसी भारतीय कंपनियों से हैं। 2023 में कंपनियों के सामने नई चुनौतियां और अवसर होंगे। अब यह देखना होगा कि कंपनियों की क्या रणनीति होगी।

    चुनौतियां और अवसर

    भारतीय कंपनियों के सामने चुनौती सिर्फ़ और सिर्फ़ चाइनीज़ कंपनियां है। पिछले कुछ सालों में इन कंपनियों ने चीनी कंपनियों के साथ जम कर लोहा लिया है। इस दौड़ में कुछ कंपनियों का हौसला टूट गया लेकिन कुछ रेस में बनी रहीं। लेकिन साल 2023 में भारतीय कंपनियों के पास कई अवसर भी हैं। बढ़ती मांग और ग्लोबल मार्केट में सप्लाई चैन में चाइनीज ब्रांड्स की बढ़ती मुश्किल भी भारतीय कंपनियों के लिए अवसर बन सकते हैं। यह भी पढ़ें : BGMI 2.4 Beta Update : लेटेस्ट वर्जन, रिलीज डेट, डाउनलोड, यहां जानें सब कुछ

    भारत में 5G सेवाएं धीरे-धीरे प्रसार कर रही हैं। ऐसे में भारतीय यूज़र्स के बीच में स्मार्ट डिवाइसेस का ट्रेंड बढ़ेगा। भारतीय कंपनियों को इस ओर भी अपनी नज़र रखनी चाहिए और नए नए डिवाइसेस लॉन्च पर ज़ोर देना चाहिए। वहीं चीन में कोरोना की नई लहर से वहां मैन्यूफ़ैक्चरिंग पर बूरा प्रभाव पड़ा है। ऐसे में भारतीय कंपनियों प्रोडक्शन बढ़ाने और नए डिवाइसेस लॉन्च कर रेस में अपनी स्थिति को मजूबत करने पर ज़ोर दे सकती हैं।

    LEAVE A REPLY