Corona टेस्ट के लिए नहीं जाना होगा अस्पताल, फोन पर छींकने से लगेगा वायरस का पता

google search assistant maps showing nearest covid-19 testing labs locations
गूगल से ली गई प्रतिरूपक फोटो

कोरोना वायरस महामारी से लड़ाई में टेस्टिंग एक बड़ा हथियार है। टेस्टिंग से ही पता लग पाता है कि कोरोना का वायरस आपके शरीर में है या नहीं। जितना यह वायरस नया है उतना ही इसके टेस्ट भी नया है। कोरोना टेस्ट करने के लिए संदिग्‍ध के नाक या गले से सैंपल लिया जाता है। इस टेस्ट की इंडिया में कीमत 4500 रुपए है। लेकिन, अमेरिका में मौजूद एक रिसर्च टीम ऐसे सेंसर पर काम कर रही है, जिससे आप कोरोना का टेस्ट अस्पताल या लैब जाए बिना सिर्फ फोन पर छींकने से हो सकेगा। सुनने में यह हैरान करने वाला लगता है। लेकिन, भविष्य में यह मुमकिन हो सकता है।

मोबाइल पर छींकने या खांसने से ही कोरोना वायरस का पता लगाने का दावा अमेरिकी रिसर्च टीम ने किया है। दरअसल, टीम एक सेंसर पर काम कर रही है, जिसे आपके फोन के साथ अटैच किया जा सकता है और यह 60 सेकंड के अंदर कोरोना वायरस का पता लगा लेगा। उम्मीद है कि इस सेंसर को अगले 3 महीने में मार्केट में उपलब्ध करा दिया जाएगा। इसे भी पढ़ें: परिवार या पड़ोस में है कोरोना मरीज होने का संदेह तो ऐसे करें सरकार को सूचित, जरूर पढ़ें यह काम की टिप्स

how to inform government about covid19 patient and know about corona red green orange zone
गूगल से ली गई प्रतिरूपक फोटो

उम्मीद की जा रही है कि यह सेंसर कोरोना टेस्ट करने वाली किट से सस्ता होगा। इस डिवाइस की कीमत करीब 55 डॉलर (करीब 4,100 रुपए) हो सकती है। हालांकि, इसे इंडिया में कब तक पेश किया जाएगा। इस बारे में कोई जानकारी सामने नहीं आई है। वहीं, दूसरी ओर कोरोना वायरस की वैक्सीन पर भी पूरे विश्व में काम चल रहा है।

इस सेंसर पर काम कर रही टीम के प्रोजेक्ट लीडर प्रोफेसर मसूद तबीब-अजहर का कहना है कि कोरोना वायरस को ट्रैक करने में इस सेंसर की बड़ी भूमिका होगी। प्रोफेसर मसूद, अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ यूटॉ में इंजीनियर हैं। इस गैजेट को पहले जीका वायरस से मुकाबला करने के लिए तैयार किया गया था। प्रोफेसर का कहना है कि हमने लगभग 12 महीने पहले जीका वायरस के लिए इस सेंसर को बनाना शुरु किया था। वहीं, अब हम कोविड-19 का पता लगाने के लिए इस सेंसर को बना रहे हैँ। इसे भी पढ़ें: कोरोना की वजह से हो रही है चाइनीज मोबाइल से नफरत, क्या है गिर जाएगी सेल?

5g towers burning uk coronavirus conspiracy theory 5g causes the covid 19 pandemic

बता दें कि कोविड-19 वायरस, अलग-अलग लोगों को अलग-अलग तरह से प्रभावित करता है। संक्रमित हुए ज़्यादातर लोगों को अलग-अलग लक्षण दिखाई देते हैं। इनमें से ज़्यादा सामान्य लक्षण हैं, बुखार, सूखी खांसी और थकान वहीं, गंभीर लक्षणों में सांस लेने में कठिनाई या सांस की तकलीफ और सीने में दर्द या दबाव। यदि आप में गंभीर लक्षण दिखाई देते हैं, तो जल्द से जल्द डॉक्टर को दिखाएं।

सोर्स

LEAVE A REPLY