इस राज्य में Electric Car खरीदना हुआ महंगा, 1.15 लाख रुपए तक की सब्सिडी बंद

electric car charging cost in India

इस समय इंडिया ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में Electric Car को ज्यादा से ज्यादा लॉन्च व ग्राहकों द्वारा पसंद भी किया जा रहा है। ग्राहकों का पसंद करने के कई कारण है, जिनमें से सरकार की ओर से मिलनी वाली सब्सिडी एक है। लेकिन, अगर आप दिल्ली के रहने वाले हैं तो आपको यह जानकारी हैरानी और झटका लगेगा कि अब दिल्ली में Electric Car खरीदना महंगा हो सकता है क्योंकि दिल्ली सरकार ने इन पर इंसेटिंव नहीं देने का फैसला किया है। कुछ दिनों पहले दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा कि इलेक्ट्रिक कारों की खरीदारी पर सब्सिडी योजना को आगे बढ़ाने की कोई योजना नहीं है।

Electric Car In Delhi

आपको याद दिला दें कि Delhi Electric Vehicle Policy 2020 को देश की राजधानी में इलेक्ट्रिक व्हीकल के उपयोग को बढ़ाने के उद्देश्य से शुरू किया गया था। सरकार की योजना वर्ष 2024 तक सभी नए वाहनों में 25 प्रतिशत बैटरी चालित वाहनों को तैनात करने की है। लेकिन, अब राजधानी दिल्ली में एक हजार इलेक्ट्रिक कारों की पहले ही बिक्री हो चुकी है तो ऐसे में दिल्ली सरकार ने अब नए खरीदरों को सब्सिडी नहीं देने का फैसला किया है।

ev-subsidy-in-india

इन EV पर मिलेगी सब्सिडी

चार पहिया इलेक्ट्रिक के अलावा दिल्ली सरकार की ओर से दी जाने वाले सब्सिडी दोपहिया, तिपहिया और माल ढोने वाले इलेक्ट्रिक व्हीकल पर मिलती रहेगी। इन गाड़ियों पर 5 हजार रुपये प्रति किलोवॉट घंटा (बैटरी क्षमता) के हिसाब से 30 हजार रुपये तक की सब्सिडी मिलेगी।

लेटेस्ट वीडियो

इलेक्ट्रिक कार पर मिलती थी इतनी सब्सिडी

दिल्ली सरकार अपनी सब्सिडी योजना के तहत इलेक्ट्रिक कार की खरीदारी पर 10 हजार रुपये प्रति किलोवॉट घंटा (बैटरी क्षमता) के हिसाब से सब्सिडी दिया जाता था। EV खरीदार को अधिकतम 1.15 लाख रुपए की सब्सिडी मिलती थी। इसके अलावा इन गाड़ियों पर रोड टैक्स और रजिस्ट्रेशन चार्ज भी नहीं देना पड़ता था। वहीं, अब दूसरे राज्यों में इलेक्ट्रिक कार खरीदना दिल्ली से सस्ता होगा।

LEAVE A REPLY