FAU-G गेम के निर्माता के खिलाफ पुलिस केस दर्ज, कहीं बन न जाए Freedom 251 फोन वाली कहानी

GOQii nCore games publisher FAU-G founder Vishal Gondal summoned by the police in Faridabad

FAU-G गेम का नाम आज इंडिया में हर कोई जानता है। चीनी कंपनी के साथ जुड़े होने की वजह से जब PUBG को इंडिया में बैन कर दिया गया था तो FAU-G गेम मोबाइल गेमर्स के लिए नया और शानदार ऑप्शन बनकर आया था। Made In India होने के चलते और भारतीय सेना को शौर्य को दर्शाने वाले इस मोबाइल गेम को इंडियन यूजर द्वारा का खासा पसंद किया गया है। लेकिन अब इस गेम को पसंद करने वाले लोगों के लिए झटका देने वाली खबर सामने आई है। इस गेम के सह-निर्माता के खिलाफ पुलिस केस दर्ज हुआ है और उन्हें अदालत में पेश होना भी पड़ सकता है।

FAU-G गेम को बनाने वाली टेक कंपनी nCore games के इन्वेस्टर और गेम के डेवलेपर विशाल गोंडल विवादों के घेरे में आ फंसे हैं। मामला कुछ ऐसा है कि कुछ दिनों पहले विशाल ने एक आर्टिकल में लिखा था कि, भारत में गेमिंग के नाम पर गैम्बलिंग को बढ़ावा मिल रहा है। इस आर्टिकल में उन्होंने रम्मी जैसे गेम की ओर ईशारा करते हुए रियलमी मनी गेमिंग को बुरा बताया था। गौरतलब है कि इस आर्टिकल के बाद पिछले कुछ दिनों में उन्हें तकरीबन 6 मानहानि नोटिस प्राप्त हो चुके हैं।

लेकिन बात सिर्फ मानहानि नोटिस तक ही नहीं रूकी बल्कि अब फरीदाबाद में विशाल के खिलाफ पुलिस केस भी दर्ज हो गया है और उनके लिए सम्मन भी जारी कर दिया गया है। विशाल के खिलाफ दर्ज हुए केस पर उन पर मानहानि के साथ साथ धार्मिक भावनाओं को आहत करने का भी आरोप लगाया गया है। इस सम्मन के मुताबिक विशाल को सराय ख्वाजा पुलिस स्टेशन में 5 अप्रैल को पेश होना पड़ेगा। वहीं दूसरी ओर FAU-G गेम पर इस मामले का कितना और क्या प्रभाव पड़ेगा यह देखना बाकी है।

FAU-G

इस ऐप के फॉर्मेट की बात करें तो इसमें आप गलवान घाटी समेत चीन से सटी सीमाओं पर दुश्मनों से लोहा लेते और सीमा की रक्षा करते दिखाई देंगे। प्लेयर इंडियन कॉम्बैट का हिस्सा बनकर देश को दुश्मनों से बचाते नजर आएंगे। FAU-G गेम में बैटल रॉयल गेमप्ले मोड नहीं मिलेगा। बाद में बैटल रॉयल और मल्टीप्लेयर दोनों ही मोड इसमें जोड़े जा सकेंगे। कुल मिलाकर अगर आप भी पबजी बैन होने के बाद एक देशी बैटल रॉयल गेम की तलाश में हैं तो वह पूरी तरह से खत्म हो चुका है।

LEAVE A REPLY