चोरी का तो नहीं सेकेंड हैंड फोन, खरीदने से पहले इस वेबसाइट पर चेक करें डिटेल

Pic Credit : Mrwhosetheboss

देश में स्मार्टफोन की बिक्री तेजी से बढ़ी रही है और साथ-ही-साथ सेकंड-हैंड स्मार्टफोन (Second-Hand Smartphone) की भी बिक्री में भी इजाफा देखा जा रहा है। पिछले महीने एक रिपोर्ट सामने आई थी, जिसमें बताया गया था कि कोरोना काल में लोगो ने जमकर सेकेंड हैंड फोन्स खरीदे हैं। दरअसल, सेकंड हैंड फोन काफी कम कीमत में मिल जाता है। लेकिन पुराना फोन खरीदते समय आपको कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए। साथ ही यह भी चेक करना चाहिए कि जो फोन आप किसी से खरीद रहे हैं कि कहीं वो फोन चोरी का तो नहीं है। इस ही को लेकर दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट किया है।

दिल्ली पुलिस ने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है कि सेकेंड हैंड यानी पुराना स्मार्टफोन खरीदते समय सावधान रहे हैं। हो सकता है कि डिवाइस चोरी का हो या उस फोन का उपयोग किसी क्राइम में किया गया हो। चोरी या अपराध में उपयोग किए गए फोन के IMEI नंबर को Zipnet वेबसाइट पर अपलोड किया गया है।

how to check fake imei number

इन नंबर को ब्लॉक करने के लिए @DoT_India के साथ शेयर किया गया है। यदि आप भी पुराना स्मार्टफोन खरीदने जा रहे हैं, तो उससे पहले फोन के IMEI नंबर को Zipnet वेबसाइट पर जरूर चेक करें। इस वेबसाइट पर फोन का IMEI नंबर डालकर यह चेक किया जा सकता है।

ऐसे करें मोबाइल का IMEI नंबर वेबसाइट पर चेक

    • IMEI नंबर चेक करने के लिए सबसे पहले Zipnet वेबसाइट अपने फोन या लैपटॉप पर ओपन करें।
    • वेबसाइट पर मौजूद सर्च बार में जो फोन आप खरीद रहे हैं उस मोबाइल का IMEI नंबर एंटर करें।
    • यदि फोन चोरी, गुम या किसी अपराध में इस्तेमाल हुआ होगा, तो आपको उसका IMEI नंबर वेबसाइट पर मिल जाएगा

कहां मिलेगा IMEI नंबर

IMEI नंबर आपके फोन के बॉक्स पर होता है। यदि बॉक्स साथ में नहीं है तो फिर आप अपने फोन की सेटिंग में जाकर अबाउट के अंदर से पता कर सकते हैं। वहीं एक शॉर्टकट भी है। आप अपने फोन से *#06# डायल करें। इसके साथ ही आपके फोन का IMEI नंबर फोन की स्क्रीन पर आ जाएगा।

how to check fake imei number

क्या होता है IMEI नंबर

IMEI नंबर का आशय है International Mobile Equipment Identity, अर्थात यह मोबाइल फोन की पहचान है। हरेक मोबाइल फोन में 15 अंकों का एक सिरियल नंबर होता है जो यूनिक होता है। यानि कि वह दूसरे डिवाइस से अलग होता है। अगर फोन डुअल सिम है तो उसमें दो IMEI नंबर होंगे।

जब आप अपने फोन का उपयोग करते हैं तो इसी नंबर द्वारा नेटवर्क ऑपरेटर आपके फोन की पहचान करता है। जो भी डिवाइस सेल्यूलर नेटवर्क सपोर्ट करेंगे उनमें IMEI नंबर होगा। मोबाइल फोन चोरी होने या खोने की स्थिति में नेटवर्क ऑपरेटर इसी नंबर के माध्यम से उसे ब्लॉक कर सकते हैं और उसका पता लगा सकते हैं।

LEAVE A REPLY