मैमोरी कार्ड नहीं कर रहा है डिटेक्ट तो जानें कैसे करें ठीक

एक छोटा सा मैमोरी कार्ड कितना उपयोगी होता है यह हर कोई जानता है। यह न सिर्फ फोन का बोझ कम करने का कार्य करता है बल्कि डाटा हस्तांतरण में भी काफी उपयोगी होता है। शुरुआत में तो 128 और 256एमबी वाले मैमोरी कार्ड आते थे लेकिन आज 1टीबी तक के कार्ड उपलब्ध हैं। हालांकि फोन में ज्यादातर लोग 8जीबी, 16जीबी और 32जीबी तक के मैमोरी कार्ड का उपयोग करते हैं जिनमें, सैंकड़ो गाने के साथ ढेर सारे वीडियो और हजारों फोटो आ जाते हैं। पंरतु कई बार इन डाटा की वजह से ही मैमोरी कार्ड में समस्या हो जाती है और वह न तो फोन में न ही कंप्यूटर में डिटेक्ट करता है। जैसे-जैसे मैमोरी कार्ड का उपयोग बढ़ा है वैसे-वैसे इसमें ज्यादा समस्या सुनने को भी मिलती है। यदि आपके मैमोरी कार्ड में भी डिटेक्ट न होने की समस्या हो रही है तो आप इसे आसानी से ठीक कर सकते हैं। आगे हमने इसकी तरीका बताया है।

कंप्यूटर में कार्ड डिटेक्ट की समस्या
आज कंप्यूटर और लैपटॉप में यूएसबी कनेक्टिविटी के अलावा कार्ड स्लॉट भी उपलब्ध होता है। ऐसे में लोग अपने स्मार्टफोन और कैमरे के कार्ड का उपयोग सीधा कंप्यूटर में ही कर लेते हैं। परंतु कनेक्ट करने पर पता चलता है कि कार्ड डिटेक्ट ही नहीं हो रहा है। यदि आपके पीसी में भी ऐसी ही समस्या हो रही है तो उसके लिए तीन समाधान हैं।

1. सबसे पहले अपने कार्ड को अच्छी तरह से साफ सुथरा कर लें। क्योंकि कार्ड पुराना होने की वजह से उसके मैटल पर ब्लैक स्पॉट आ जाते हैं और इससे भी समस्या होती है। अपने मैमोरी कार्ड को आप पेट्रोल या स्प्रिट से साफ कर सकते हैं। इसके बाद लगाएं सही हो जाएगा। उसे अलग-अलग दो तीन पीसी में चेक करें। यदि फिर भी नहीं कार्य कर रहा है तो समझें कि कार्ड करप्ट हो चुका है।
microsd-anf-usb
2. दूसरा समाधान थोड़ा तकनीकी है। इसके लिए सबसे पहले आपको अपने कंप्यूटर या लैपटॉप को ओपेन करना है और इसके बाद कार्ड लगाना है। कार्ड डिटेक्ट नहीं करने की स्थिति में आपको अपने पीसी के सिस्टम प्रोपर्टीज को ओपेन करना है। यदि आपके पास विंडोज 10 है तो माई पीसी पर राइट क्लिक करते ही मैनेज का विकल्प मिलेगा। आपको उस पर क्लिक करना है। यहां आपको सभी डिस्क की पूरी लिस्ट दिखाई देगी। वहीं दाईं ओर आपको माइक्रोएसडी कार्ड का आॅप्शन भी मिलेगा। आपको कार्ड पर राइट क्लिक करना है। इसमें चेंज ड्राइव लेटर एंड पाथ का आॅप्शन होगा आपको उस पर क्लिक कर देना है।

इसके साथ ही एक नया विंडोज खुल कर आ जाएगा। आपको उसमें ऐड का विकल्प मिलेगा। सबसे पहले आपको उसे क्लिक करना है। इसके बाद आपको माइक्रोमएसडी कार्ड को अनचाहा अल्फाबेट का नाम देना है। आप ई, एफ या जी सहित कोई भी नाम दे सकते हैं। इसे फिनिश करने के साथ ही समस्या का समाधान हो जाएगा। अब आप माई पीसी में जाएंगे तो अपको आपको माइक्रोएसडी कार्ड दिखाई देगा।

3. इसका एक तीसरा समाधान भी है। इसके लिए सबसे पहले आपको अपने पीसी या लैपटॉप के सिस्टम प्रोपर्टीज को ओपेन करना है। इसमें बाईं ओर टास्क बार में डिवाइस मैनेजर मिलेगा उसे ओपेन करें। यहां आपको यूएसबी कंट्रोलर पर क्लिक करना है।

इसके साथ ही आपको पीले रंग में एक्सलेमेनेशन चिन्ह दिखाई देगा। आप उस पर राइट क्लिक करके अपडेट ड्राइवर कर दें। इसके बाद आपके पीसी का ड्राइवर वह खुद ही इंटरनेट के माध्यम से यूएसबी ड्राइवर को अपडेट कर देगा। इसके बाद एक बार अपने पीसी को रीबूट कर दें। इससे आपकी समस्या का समाधान हो जाएगा।

फोन में कार्ड डिटेक्ट नहीं कर रहा
अक्सर देखने को मिलता है कि मोबाइल में आप मैमोरी कार्ड लगाते हैं और वह भी डिटेक्ट नहीं कर रहा है। परंतु इस समस्या का समाधान आसान है। इसके लिए सबसे पहले आप अपने मैमोरी कार्ड को एक बार फॉर्मेट कर लें। यहां ध्यान देना जरूरी है कि कार्ड फॉर्मेट के दौरान सारा डाटा नष्ट हो जाएगा। ऐसे में पहले पीसी पर कार्ड का बैकअप ले लें और फिर फॉर्मेट करें। अब मैमोरी कार्ड कंप्यूटर से कनेक्ट कर फैट32 सेटिंग पर फॉर्मेट करें।
sim-card
हालांकि कई बार लोग अपने कार्ड को फोन में अनमाउंट कर देते हैं और भूल जाते हैं। ऐसे में कोई भी काम करने से पहले एक बार आप अपने एंडरॉयड फोन की सेटिंग में जाएं और वहां से मैमोरी का चुनाव करें। इसमें माइक्रोएसडी कार्ड का विकल्प मिलेगा। वहां से चेक कर लें कि कहीं अनमाउंट तो नहीं कर रखा है।

SHARE
Previous articleजानें क्या है मोबाइल बैटरी कैलिब्रेशन और क्यों है जरूरी
Next articleकल्ट एम्बिशन: बड़े स्पेसिफिकेशन – छोटा परफॉर्मेंस
टेक्नोलॉजी शौक नहीं इनका जुनून है और इसी जुनून ने इन्हें टेक जगत में आने के लिए प्रेरित किया। मुकेश कुमार सिंह उन चंद लोगों में से हैं जिन्होंने हिंदी में मोबाइल रिव्यू लिखने की शुरूआत की। अपने 15 सालों के प​त्रकारिता के सफर की शुरुआत इन्होंने हिंदी डेली से की और पिछले 13 सालों से ये मोबाइल तकनीकी क्षेत्र में सक्रिय हैं। अब तक ये मॉय मोबाइल मैगजीन और बीजीआर जैसे वेबसाइट के लिए कार्य कर चुके हैं। वहीं जागरण और नवभारत टाइम्स जैसे अखबारों में इनके लेख नियमित रूप से छपते रहते हैं।