बिना किसी ऐप के एंडरॉयड स्मार्टफोन में देख सकते हैं सीपीयू परफॉर्मेंस और रैम यूसेज, जानें तरीका

फोन की खरीदारी के दौरान आपका बजट कुछ भी हो लेकिन कोशिश यही होती है कि बाजार में उपलब्ध सबसे बेस्ट फोन का ही चुनाव करें। इसके लिए आप फोन के स्पेसिफिकेशन और फीचर्स पर बारीकी से नजर रखते हैं। बजट के अनुसार डिसप्ले, मैमोरी, रैम और ताकतवर प्रोसेसर देखकर आप फोन की खरीदारी कर लेते हैं। कुछ दिन तो सबकुछ ठीक होता है लेकिन थोड़े समय में ही आपका फोन धीमा हो जाता है और हैंग की समस्या भी होने लगती है। ऐसे में आप फोन के हार्डवेयर को कोसने लगते हैं। परंतु आपको मालूम नहीं कि यह समस्या सॉफ्टवेयर की वजह से भी हो सकती है।

जानें गूगल पिक्सल 2 एक्सएल की 10 बड़ी विशेषताएं

फोन धीमा होते ही आप अपने फोन में उपलब्ध डाटा को डिलीट करना शुरू कर देते हैं और कैशे मैमोरी और इंटरनल मैमोरी को खाली करने की को​शिश करते हैं। पंरतु इससे भी बहुत फायदा नहीं होता है। परफॉर्मेंस वैसा का वैसा ही रहता है। इसलिए जब आपका फोन धीमा हो तो डाटा डिलीट करने से पहले आप उन ऐप्स को ढूढ़ने की कोशिश करें जो आपके फोन को धीमा कर रहे हैं और बता दूं कि यह तरीका बेहद ही आसान है। आगे हमने फोन के फोन के मैमोरी मैनेजमेंट और सीपीयू मैनेजमेंट देखने का तरीका बताया है। खास बात यह कही जा सकती है कि इसके लिए आपको अलग से कोई सॉफ्टवेयर डाउनलोड करने की आवश्यकता नहीं है बल्कि फोन की सेटिंग में ही बदलाव कर आप इसे देख सकते हैं।

देखें सीपीयू यूसेज
यदि आपके फोन में सीपीयू यूसेज बहुत ज्यादा है तो जाहिर है कि फोन धीमा हो जाएगा। सीपीयू यूसेज को आप साधारण सेटिंग से नहीं देख सकते इसे आपको आॅन करना होगा। सीपीयू यूसेज फंक्शनालिटी को आॅन करने के लिए सबसे पहले

1. सेटिंग में जाएं और वहां से बिल्कुल नीचे स्क्रॉल करें।

2. यहां अबाउट फोन का आॅप्शन मिलेगा उस क्लिक करें।

3. अबाउट फोन सेक्शन में जाने पर थोड़ा नीचे स्क्रॉल करेंगे तो बिल्ड नंबर दिखाई देगा उस पर 5-7 बार क्लिक करने पर डेवलपर्स आॅप्शन आॅन होने का मैसेज आएगा।

4. अब आप फिर से सेटिंग में आएं। यहां ​डेवलपर्स आॅप्शन दिखाई देगा उसे ओपेन करें।

5. इसमें कई से​टिंग होते हैं आप नीचे स्क्रॉल करेंगे तो शो सीपीयू यूसेज दिखाई देगा उसे आॅन कर दें।

smartphone-2

इसके साथ ही फोन पर आपको सीपीयू यूसेज सं​बंधित जानकारी मिलने लगेगी। इसमें हरे, लाल और ब्लू सहित तीन रंगों का उपयोग उपर में मिलेगा फोन के अलग-अलग फंक्शनालिटी को बताते हैं। यह जानकारी आपके लिए तभी उपयोगी है जब आप सीपीयू आर्किटेक्चर को समझते हों। बावजूद इसके फोन का सीपीयू यूसेज देखा जा सकता है। इस फीचर को आॅन करने के बाद स्क्रीन पर ही सीपीयू के हर सेकेंड के उपयोग को दर्शाता रहेगा।

अब नोकिया ला रहा है सस्ता 4जी फीचर फोन, जियोफोन और एयरटेल 4जी फोन को मिलेगी टक्कर

रैम यूसेज
यह सेग्मेंट आपके लिए काफी फायदेमंद है और आप बहुत कुछ जान सकते हैं और धीमे फोन को फास्ट कर सकते हैं। इसके साथ ही हैंग होने की समस्या को ठीक कर सकते हैं।

रैम यूसेज देखने के लिए सबसे पहले

1. फोन की सेटिंग में जाएं और मैमोरी आॅप्शन को क्लिक करें।

2. यहां से आप पता कर सकते हैं कि पिछले कुछ घंटों में कितनी रैम का यूज़ हुई है।

3. यहां नीचे मैमोरी यूज़ बाई ऐप्स का आॅप्शन दिखाई देगा आप इसे क्लिक करें।

4. ओपेन होते ही फोन में यूज होने वाले सभी ऐप्लिकेशन की पूरी लिस्ट सामने आ जाएगी और साथ ही जानकारी भी होगी कि कौन सी ऐप्लिकेशन कितनी मैमोरी ले रही है। जो ऐप्लिकेशन ज्यादा रैम का उपयोग कर रही है उसे अनइंस्टॉल कर सकते हैं। यही ऐप फोन को धीमा करते हैं।

गौरतबल है कि रैम आॅप्टिमाइजेशन का यह फीचर एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 6.0 मार्शमेलो या इससे उपर संस्करण में उपलब्ध है।

mobile-phones 91Mobiles

इस ट्रिक्स से आप पता कर सकते हैं कि कौन सा ​ऐप्लिकेशन सबसे ज्यादा रैम मैमोरी का उपयोग कर रहा है और वही आपके फोन को धीमा कर रहा है। आप यहां से रैम को आॅप्टिमाइज कर सकते हैं। इसके अलावा देखा जा सकता है कि पिछले 3-4 घंटों में किस ऐप्लिकेशन ने अधिकतम रैम मैमोरी का उपयोग किया है। यदि रैम का उपयोग ज्यादा हो रहा है तो इससे फोन के परफॉर्मेंस प्रभाव पर असर पड़ेगा।

सिर्फ 5,999 रुपये में लॉन्च हुआ अल्काटेल यू5 एचडी, 4जी वोएलटीई के साथ कैमरा सेग्मेंट भी है दमदार

जानें कैसे देखें मैमोरी यूसेज
आप अपने फोन के इंटरनल मैमोरी यूसेज को भी देख सकते हैं और उसे आॅप्टिमाइज भी कर सकते हैं। इसके लिए

1. आपको फोन की सेटिंग में जाना है और वहां से स्टोरेज एंड मैमोरी का चुनाव करना है।

2. यहां दो विकल्प होंगे आपको स्टोरेज देखना है।

3. यदि मैमोरी कार्ड का उपयोग करते हैं तो फिर दो आॅप्शन मिलेंगे इंटरनल और मैमोरी कार्ड। आप बारी-बारी से दोनोंं मैमोरी को चेक कर सकते हैं।

स्टोरेज में आपको कैशे मैमोरी, ऐप्स, ईमेज़, वीडियो, आॅडियो और अन्य फोल्डर होंगे। आप ऐप्स पर क्लिक कर जान सकते हैं कि कौन सी ऐप फोन की कितनी मैमोरी ले रहा है। कोई ऐसा ऐप है जिसका उपयोग आप नहीं करते और वह मैमोरी ज्यादा ले रहा है ताे उसे हटा देना या ही बेहतर है।