जानें क्यों बदल जाएगा आपका मोबाइल नंबर

आपको यदि आपना मोबाइल नंबर बहुत प्यारा है तो शायद ये आपके लिए थोड़ी निराशा भरी खबर हो सकती है। क्योंकि जल्द आपका मोबाइल नंबर बदल सकता है। यह भविश्यवाणी नहीं है बल्कि हकिकत है। भारत सरकार कुछ ऐसा ही प्लान कर रही है। देश में मोबाइल उपभोक्ताओं की संख्या में बेतहाशा वृद्धि हो रही है और इस वजह मोबाइल नंबर का शंकट पैदा हो रहा है। ऐसे में सरकार मोबाइल नंबर में नया सीरीज जोड़ सकती है।

जानकारी के मुताबिक भारत की कुल आबादी 125 करोड़ के बराबर है और मोबाइल फोन उपभोक्ता की संख्या 98 करोड़ हो गई है। इसके अलावा 30 करोड़ इंटरनेट कनेक्शन हैं। यह कनेक्शन भी विशेष नंबर पर चलते हैं और इंटरनेट डॉन्गल में तो मोबाइल की तरह ही नंबर भी होता है। वहीं इस साल के अंत तक मोबाइल फोन उपभोक्ताओं की संख्या 100 करोड़ तक होने की उम्मीद है। वहीं आगे के दो सालों में इंटरनेट कनेक्शन की संख्या 50 करोड़ तक होने की संभावना है। ऐसे में मोबाइल कंपनियों को संभावना यह है कि मोबाइल कंपनियों के बाद उपभोक्ताओं को देने के लिए 10 डिजिट का नंबर ही नहीं होगा।

सभी गैलेक्सी नोट 7 को अब खुद ही नष्ट करेगी सैमसंग

यही कारण है कि सरकार 10 नंबर के बजाए 11 अंको का मोबाइल नंबर जारी कर सकती है। मोबाइल नंबर की सीरीज में एक अतिरिक्त नंबर जोड़ दिया जाएगा और इससे नंबर 11 अंको का हो जाएगा और ज्यादा मोबाइल नंबर जारी किए जा सकेंगे।

इंटेक्स ने लॉन्च किया बेहद ही सस्ता फिंगरप्रिंट वाला एंडरॉयड स्मार्टफोन

इस तरह की एक कोशिश पहले भी देखने को मिली है। हालांकि यह अंतराष्ट्रीय स्तर पर था। इंटरनेट के ​लिए आईपी4 संस्करण का उपयोग होता था और इस संस्करण में विश्व भर में सिर्फ 4बिलियन लोगों को ही आईपी नंबर जारी किया जा सकता था। जबकि आईपी6 में नंबर क्षमता कई गुणा तक बढ़ गया और आईपी एड्रेस की समस्या से निजात मिला।

SHARE
Previous articleइंटेक्स ने लॉन्च किया बेहद ही सस्ता फिंगरप्रिंट वाला एंडरॉयड स्मार्टफोन
Next articleतो क्या रिलायंस जियो नहीं देगी मुफ्त कॉलिंग
टेक्नोलॉजी शौक नहीं इनका जुनून है और इसी जुनून ने इन्हें टेक जगत में आने के लिए प्रेरित किया। मुकेश कुमार सिंह उन चंद लोगों में से हैं जिन्होंने हिंदी में मोबाइल रिव्यू लिखने की शुरूआत की। अपने 11 सालों के प​त्रकारिता के सफर की शुरुआत इन्होंने हिंदी डेली से की और पिछले 10 सालों से ये मोबाइल तकनीकी क्षेत्र में सक्रिय हैं। अब तक ये मॉय मोबाइल मैगजीन और बीजीआर जैसे वेबसाइट के लिए कार्य कर चुके हैं। वहीं जागरण और नवभारत टाइम्स जैसे अखबारों में इनके लेख नियमित रूप से छपते रहते हैं।