इस हैकर्स ग्रुप ने मोदी और राहुल गांधी के बारे में किया बड़ा खुलासा

+92 and +99 country code number scam

आपको याद होगा कि अभी कुछ दिन पहले ही काग्रेंस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और इंडियन नेशनल कांग्रेस का ​ट्विटर अकाउंट हैक हो गया था। इसके बाद भारतीय राजनीति जगत में हड़कंप मच गया था। परंतु आपको यह जानकर हैरानी होगी कि एक हैकर्स ग्रुप ने इन अकाउंट को हैक किया था। लीजन हैकर ग्रुप ने स्वीकार किया है कि उसने न सिर्फ राहुल गांधी और कांग्रेस के ट्विटर और मेल सर्वर को हैक किया था बल्कि वह विजय माल्या और बरखा दत्त सहित कई नामी गिरामी हस्तियों के अकाउंट हैक कर चुका है।

एक इंटरव्यू के दौरान लीजन हैकर ग्रुप ने खुलासा किया कि भारतीय राजनेताओं के सोशल अकांउट और सरकारी संगठनों की अनेंको वेबसाईट्स पर उनकी नज़र है जिन्हें कभी भी हैक किया जा सकता है। इतना ही नहीं उनका अगला निशाना भारतीय संसद की आॅफिशियल वेबसाईट sansad.nic.in हो सकती है। इस हैकर्स ग्रुप का कहना है कि sansad.nic.in भारत के सरकारी अफसरों को ईमेल सर्विसेज मुहैया कराती है। यहां बड़ी मछलियां है। यहां उन्हें कई ऐसी जानकारियां मिल सकती हैं जो अब तक छुपी हुई हैं।

फैक्ट्रीडेली को एक एनक्रिप्टेड इंस्टेंट-मेसेजिंग सॉफ्टवेयर के माध्यम से चैट इंटरव्यू देते हुए लीजन समूह ने कहा कि वह अपोलो अस्पताल के सर्वर तक अपनी पहुंचकर वहां के आकंड़ें जमा कर चुके हैं।

hacker-3

लीजन ग्रुप ने दावा किया है कि अपोलो अस्पताल समूह के बारे में उसे सबकुछ पता है और उन्होंने जितना डाटा इकट्ठा किया है य​दि वह सार्वजनिक हो जाए तो भारत में हड़कंप मच सकता है। गौरतलब है की अपोलो वही अस्पताल है जहां तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय जयललिता काफी दिनों तक भर्ती थीं और बाद में निधन हो गया। जयललिता के मौत पर पहले से ही कई बातें उठ रही हैं ऐसे में लीजन ग्रुप का यह दावा और संशय पैदा करता है।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के ट्विटर आकाउंट हैक होने पर भारत में काफी खलबली मची थी और कुछ विपक्षियों ने सत्ता पक्ष पर दोष भी मढ़ा था। इंटरव्यू के दौरान इस हैकर्स ग्रुप से इस पर भी सवाल किया गया। पूछा गया कि क्या राहुल गांधी के अकाउंट हैक होने पर प्रधानमंत्री मोदी द्वारा फंड किए गया था?

5 ट्रिक्स से धीमे वाईफाई को कर सकते हैं सुपरफास्ट

इस सवाल के जवाब पर पर लीजन ग्रुप ने हसते हुए सिरे से नकार दिया और कहा कि मोदी के पास और भी जरूरी काम हैं। इसके साथ ही बीजेपी के अकांउट अब तक हैक न किए जाने पर लीजन समूह का पहला जवाब यह था कि बीजेपी अकांउट में उन्हें ड्रग्स करने के लिए पर्याप्त पैसे नहीं मिल पाएंगे।

गौरतलब है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के ट्विटर अकाउंट को हैक करने के बाद लीजन समूह भारत में भी कुख्यात होता जा रहा है तथा देश के साईबर वर्ल्ड में अपनी पैठ बना रहा है। आपकों बता दें कि राहुल गांधी के अकाउंट को हैकर्स ने स्वीडन, रोमानिया, अमेरिका, कनाडा और थाइलैंड से संचालित किया था।

hacker-2

लीजन समूह ने इंटरव्यू में माना कि वह डिजिटल इंडिया को सपोर्ट करने को तैयार है बशर्ते वह छिपे हुए धन पर आधारित हो। इसके अलावा भारतीय बैंकिंग प्रणाली पर सवालिया निशान खड़े करते हुए ​लीजन समूह ने कहा कि अगर वह चाहे तो भारतीय बैंक के सर्वर को उनका ग्रुप बेहद आसानी से हैक कर सकते हैं। परंतु उनका ऐसा करने का कोई ईरादा नहीं है।

फैक्ट्रीडेली के प्रबंध संपादक जयदेवन पीके के पूछने पर लीजन समूह ने बताया कि उनका खुद का कोई ​ट्विटर अकांउट नहीं है और ना ही वह किसी अन्य समूह से जुड़कर काम करते है। लीजन समूह अपना काम न तो पैसों के लिए करता और न ही किसी से कोई फंड लेता है।

क्या है लीजन समूह
लीजन ऑफ डूम (एलओडी) नाम का यह हैकर ग्रुप 1980 के दशक से 2000 के शुरुआती दशक तक अमेरिका में बेहद सक्रिय था। इस हैकर ग्रुप को बनाने वाले का नाम लेक्स लुथर था। लीजन ऑफ डूम को टेक्नोलॉजी के इतिहास का सबसे अधिक शातिर हैकिंग ग्रुप माना जाता है।