वैज्ञानिकों ने भेजे एलियन्स को रेडियो मैसेज, क्या मिलेगा जवाब ?

‘कोई मिल गया’ का जादू तो सबको याद ही होगा। और आप यह भी नहीं भूले होंगे कि किस तरह से ‘ओउम’ की धुन के जरिये दूसरे ग्रह पर रहने वाले लोगों से संपर्क किया गया था। लेकिन अब यह मनोरंजक फिल्म का किस्सा रोमांचक वास्तविकता का रूप ले चुका है। पृथ्वी के वैज्ञानिकों ने परग्रहियों यानि एलियन्स को रेडियो संदेश भेजा है और अब इसके जवाब का इंतजार है।

पृथ्वी से दूर स्थित एक ग्रह पर पानी और जीवन के संकेत मिलने के बाद मैसेजिंग एक्स्ट्राटेरेसट्रायल इंटेलिजेंस (एमईटीआई) के खगोलविदों ने उस ग्रह पर संदेश भेज दिया है। यह ग्रह दूसरे सौरमंडल का हिस्सा है जो पृथ्वी से करीब 25 हजार प्रकाश वर्ष दूर है। इस ग्रह का नाम ‘जीजे 273बी’ रखा गया है जो ‘ल्यूटन’ तारें के चक्कर लगाता है।

aliens-1

वैज्ञानिकों को मानना है कि GJ 273b पर भी जीवन है और वहां रहने वाले एलियन हमारें भेजे गए मैसेज को समझकर उसका जवाब जरूर देंगे। इस मैसेज में घड़ी में समय कैसे देखा जाता है इससे जुड़ी बात कही गई है। यदि एलियन इस मैसेज को समझकर इस जवाब देते हैं तो इससे यह तो साफ होगा ही कि उस ग्रह पर कौनसा समय या साल चल रहा है और साथ ही यह भी पता लग जाएगा कि वहां के लोग हम इंसानों के लिए खतरनाक तो साबित नहीं होंगे।

कलाई पर भी बंध सकेगा सैमसंग का फोल्डेबल स्मार्टफोन गैलेक्सी एक्स

यह मैसेज 16 से 18 अक्टूबर के बीच नार्वे से भेजे गए थे तथा इस बात को बेहद ही खुफिया रखा गया था। वैज्ञानिकों ने बताया है कि जिस ग्रह पर संदेश भेजा गया है वह हमारी पृथ्वी से इतना दूर है कि यह मैसेज वहां तक पहॅुंचने में तकरीबन 12 साल का समय लगेगा और उसके बाद एलियन्स का जवाब वापस आने में भी अन्य 12 साल का समय लगेगा। वहीं दूसरी ओर पृथ्वी के वैज्ञानिकों ने अपने अनुमान तथा मौजूदा तकनीक के आधार पर मैसेज तो भेज दिए हैं, लेकिन सवाल है कि उस ग्रह पर रहने वाले लोग कैसे होंगे।

10 नोकिया फोन जिन्हें आज भी आप खरीदना चाहेंगे

वो हम इंसानों के आकार के होंगे भी कुछ ऐसा रूप होगा जो हमनें आज तक ख्यालों में भी न सोचा हो। एक तरफ जहां ये सब सवाल खड़े हो रहे हैं वहीं दूसरी ओर यह डर भी छाया हुआ है कि कहीं आज जो चीज इंसानों को बड़ी उपलब्धि लग रही है कल को एलियन्स का जवाब आने के बाद वह कोई बड़ी गलती न साबित हो जाए। और क्या पता जो मैसेज इंसान 12 सालों में वहां तक पहॅुंचा रहे हैं, उसका जवाब उन एलियन्स की तकनीक सिर्फ 12 मिनट में पृथ्वी तक पहॅुंचा दे।