नोट प्रतिबंध के चलते मोबाइल-वॉलेट कारोबार में होगा 50 प्रतिशत तक का ईजाफ़ा

केंद्र सरकार द्वारा 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोटों को चलन से वापस लेने के बाद देशभर से ​तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं सामने आ रही है। नए नोट पाने तथा एक्सचेंज कराने की आपाधापी मची हुई है लेकिन इन सबके के बीच इस बात को कतई नहीं नकारा जा सकता कि नोटों पर प्रतिबंध के बाद भारतीयों द्वारा की जाने वाली आॅनलाईन ख़रीददारी तथा कार्ड के जरिये पेमेंट के तरीकों में काफी वृद्धि दर्ज की गई है। इंटरनेट बैंकिंग, कार्ड स्वैप तथा वॉलेट के जरिये भुगतान लोगों द्वारा सर्वाधिक प्रयोग में लाए जा रहे हैं। इसी के चलते छह महीने में भारती एयरटेल, वोडाफोन इंडिया और आइडिया सेलुलर जैसी टेलिकॉम कंपनियों के मोबाइल वॉलेट ट्रांजेक्शंस में 40-50 पर्सेंट की बढ़ोतरी होने का अनुमान है।

टेलिकॉम सेक्टर को ट्रैक करने वाली कंपनी क्रिसिल रिसर्च के डायरेक्टर अजय श्रीनिवासन के अनुसार नोट प्रतिबंध होना एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया के वॉलेट बिजनस के लिए काफी सकारात्मक है। फिलहाल एक टेलिकॉम कंपनी के कुल रेवेन्यू में वॉलेट सर्विस की हिस्सेदारी लगभग दो पर्सेंट की है लेकिन आने वाले 6 महिनों में इन कंपनियों की संयुक्त मोबाइल वॉलेट ट्रांजैक्शन्स में 40 से 50 प्र​तिशत तक की बढ़ोतरी हो सकती है। जिससे बड़ी टेलिकॉम कंपनियों को अपने मिड और टॉप-ऐंड कस्टमर्स को बरकरार रखने में मदद मिलेगी।

बैंक और एटीएम बंद, जानें कैसे करें आॅनलाइन पैसे ट्रांसफर

ऐनालिस्ट्स और इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स के अनुसार पुराने बड़े नोटों का बंद होना वॉलेट सर्विसेज में अचानक ही बड़ी वृद्धि तो नहीं ला सकता लेकिन वॉलेट सर्विसेज मौजूद होने से कस्टमर्स कंपनी के साथ बने रहना पसंद करेंगे।

mobile-wallet-1

बहरहाल टेलिकॉम कंपनी भारती एयरटेल ने फिलहाल अपने वॉलेट सर्विसेज बिजनस की संभावित ग्रोथ का आंकड़ा निजी ही रखा है लेकिन कंपनी यह जरूर कहना है कि नोट प्रतिबंध से डिजिटल पेमेंट्स को काफी बढ़ावा मिलेगा और देश एक डिजिटली इंटीग्रेटेड कैशलेस इकनॉमी बनने के रास्ते पर तेजी से बढ़ेगा।

वहीं दूसरी ओर एयरटेल पेमेंट्स बैंक के मैनेजिंग डायरेक्टर शशि अरोड़ा ने कहा ​है कि एयरटेल की वॉलेट सर्विसेज में और भी मर्चेंट्स जोड़े जा रहे हैं। एयरटेल की योजना जल्द ही बैंकिंग सर्विसेज भी लॉन्च करने की है। इस मामले पर वोडाफोन इंडिया ने भी अपने एम-पैसा मोबाइल मनी बिजनस के जरिए फाइनैंशल इनक्लूजन को हकीकत बनाने के लिए खुद को प्रतिबद्ध बताया है।

आपको ज्ञात करा दें कि वॉलेट सर्विसेज आमतौर पर टेलिकॉम कंपनियों की ओर से ऑफर की जाती हैं। वॉलेट एक ऐप होता है जो स्मार्टफोन में वर्चुअल कंटेनर की तरह रहता है। इसमें कैश को डिजिटल रूप से स्टोर किया जाता है तथा यूटिलिटी बिल, किसी भी तरह का टिकट खरीदने, मोबाइल रिचार्ज और डीटीएच टॉप-अप तथा अन्य पेमेंट भुगतान के लिए इसका प्रयोग किया जाता है।