ColorOS 11 रिव्यू : 7 प्वाइंट्स में जानें इसकी सारी खूबियां

oppo-coloros-11-best-features-with-android-11-find-x2

इंडिया का मोबाइल बाजार विश्व के सबसे बड़े स्मार्टफोन मार्केट में शुमार है। अनेंको टेक कंपनियां व ब्रांड हर महीने अपनी तकनीक का प्रदर्शन करते हैं और नए-नए स्मार्टफोंस लॉन्च करते हैं। लोगों की जरूरत के अनुसार लो बजट से लेकर फ्लैगशिप सेग्मेंट तक सभी प्राइस रेंज में अच्छे खासे ऑप्शन्स मौजूद हैं। जब स्मार्टफोन चुनने की बारी आती है तो अक्सर देखा जाता है कि अलग-अलग ब्रांड्स के कई ऐसे स्मार्टफोंस होते हैं जिनकी कीमत भी एक जैसी होती है और स्पेसिफिकेशन्स भी एक समान होती है। ऐसे में सवाल उठता है कि फोन में डिजाईन, डिसप्ले, रैम, स्टोरेज, कैमरा, प्रोसेसर व बैटरी सब बराबर होने के बाद भी वो एक दूसरे से अलग कैसे हुए ? तो आपको बता दें कि सभी स्पेसिफिकेशन्स एक जैसी होने के बाद भी जो चीज अलग बनाती है वह है OS यानि ऑपरेटिंग सिस्टम। हाल ही में OPPO ने नया अपना ऑपरेटिंग सिस्टम ColorOS 11 इंडिया में लॉन्च किया है, जो बेहद ही आर्कषक और एडवांस फीचर्स व टूल्स से लैस है। इस नए वर्ज़न को परखने के लिए हमनें भी कलरओएस 11 से लैस हो चुके OPPO Find X2 का यूज़ किया और जाना कि कैसा है यह नया OPPO ColorOS 11 और औरों से कितना है खास।

एंडरॉयड 11 का साथ

सबसे पहली बात तो आपको यही बता दें कि ओपो द्वारा पेश किया गया है ColorOS 11 स्मार्टफोन में Android 11 के साथ काम करता है। एडवांस फीचर्स के साथ ही यह फोन की परफॉर्मेंस को भी फास्ट और स्मूथ बनाने में मदद करता है। कंपनी के अनुसार कलरओएस 11 की मदद से फोन में रैम का यूज़ 45 प्रतिशत तक बढ़ता है। इसी तरह रिस्पांस रेट में 32 प्रतिशत और फ्रेम रेट स्टेबिलिटी 17 प्रतिशत तक फास्ट होने का दावा कंपनी की ओर से किया गया है। वहीं फोन में यूज़ के दौरान OPPO के दावे सही साबित हुए। फोन का यूज़, ऐप लॉन्च, ट्रांजिशन और टच रिस्पांस वाकई में स्मूथ और फास्ट रहा।

Personalization में पूरी होगी हर इच्छा

हर कोई चाहता है कि वह अपने स्मार्टफोन को सिर्फ बाहरी लुक से नहीं बल्कि अंदर से भी सजाकर रखे। अपने मूड के हिसाब से फोन की थीम, वॉलपेपर, फॉन्ट, आइकन, कलर, ले आउट इत्यादि सेट करके रखना पसंद सभी करते हैं और ऐसा करने की सहूलियत देता है OPPO ColorOS 11. फोन सेटिंग्स खोलते ही ‘Personalization’ की टैब दी गई है, जिसे इंटरनल लुक और स्टाईल का गढ़ कर सकते हैं। यहां यूजर्स को सभी वो ऑप्शन्स मिलेंगे जिनके यूज़ से वह अपने फोन की लुक और स्टाईल पूरी तरह से बदल सकते हैं। ‘थीम स्टोर’ में यूजर्स अपने स्टाईल और स्वैग के हिसाब से अनेंको थीम और वॉलपेपर्स चुन सकते हैं।

यह भी पढ़ें : Samsung Galaxy F41 और Galaxy M31s में है सीधी टक्कर, 6000mAh बैटरी और 64MP कैमरे के साथ देखें कौन मारेगा बाजी

हर उम्र के लिए बेस्ट एक्सपीरियंस

अक्सर देखने को मिलता है कि स्मार्टफोन का स्क्रीन साईज़ बड़ा होता है तो एक हाथ से उसका यूज़ थोड़ा मुश्किल हो जाता है। वहीं कुछ लोग जहां बारीक यानि छोटे आइकन और टेक्स्ट पसंद करते हैं, वहीं कुछ लोग अपनी आई विजिबलिटी के हिसाब से बड़े टेक्स्ट और आइकन यूज़ करना चाहते हैं। ColorOS 11 में यूजर न सिर्फ आइकन स्टाईल बदल सकते हैं बल्कि साथ ही ‘App Layout’ फीचर में अपने कम्फर्ट के हिसाब से चुन सकते हैं कि उन्हें स्क्रीन पर कितने कॉलम और किनती रो चाहिए। इसी तरह सहुलियत के अनुसार कलर्स को भी बदला जा सकता है।

Always-On Display

ऑलवेज-ऑन डिसप्ले को अगर नया ट्रेंड कहा जाए तो गलत नहीं होगा। पिछले साल से ही यह फीचर चर्चा में है और इन दिनों ऑलवेज-ऑन डिसप्ले का क्रेज टॉप पर है। ColorOS 11 भी ओपो स्मार्टफोंस में यह फीचर परोसता है लेकिन थोड़े अधिक तड़के के साथ। कलरओएस 11 में इस फीचर के साथ ही यूजर्स अपनी पसंदानुसार टेक्स्ट और ईमेज लगा सकते हैं, स्टाईलिश घड़ी चुन सकते हैं, अपना मंत्र यानि फेवरेट क्वॉट या डायलॉग लिख सकते हैं तथा साथ ही ओएस में मौजूद ढ़ेरों आर्कषक पैटर्न को भी ऑलवेज-ऑन डिसप्ले पर लगा सकते हैं।

यह भी पढ़ें : OPPO A73 5G की फुल डिटेल आई सामने, लॉन्च से पहले ही देखें डिजाईन, फीचर्स और स्पेसिफिकेशन्स

उंगलियों पर होगी हर लेंग्वेज की ट्रांसलेशन

आमतौर पर कोई जब कुछ पढ़ते-पढ़ते या चैटिंग के दौरान कोई विदेशी भाषा सामने आ जाए तो उसका मतलब जानने के लिए पहले उस टेक्स्ट को कॉपी किया जाता है, फिर से इंटरनेट ब्राउजर में जाकर गूगल ट्रांसलेशन खोला जाता है और फिर उसमें वह कॉपी किया हुआ टेक्स्ट पेस्ट किया जाता है। और इसके उस विदेशी लेंग्वेज का मतलब पता चलता है। लेकिन नए ColorOS यह काम बेहद ही ज्यादा आसान हो गया है। डिसप्ले पर तीन उंगलियों से प्रैस करने पर वह टेक्स्ट सलेक्ट हो जाएगा और नीचे ट्रांसलेट का ऑप्शन आ जाएगा। इस पर क्लिक करते ही वह सलेक्टेड टेक्स्ट ट्रांसलेट हो जाएगा। OPPO ColorOS 11 का यह फीचर वाकई में हमें बेहद इम्प्रेसिव लगा।

3 फिंगर टच

Three-Finger Translate की बात आई तो 3 फिंगर स्क्रीनशॉट का भी जिक्र करना बनता है। हालांकि यह फीचर पुराने ColorOS में भी मौजूद था, लेकिन यह इतना काम है कि पाठको को फिर से बताना जरूरी है। ColorOS 11 में स्क्रीनशॉट लेना बेहद ही ईज़ी एंड एडवांस हो गया है। इस फीचर में 3 उंगलियों को फोन स्क्रीन पर टच और स्क्रॉल डाउन करने से ही स्क्रीनशॉट कैप्चर हो जाएगा। आमतौर पर स्क्रीनशॉट में जो डिसप्ले कंटेंट सामने विजिबल है सिर्फ वही कैप्चर होता है, लेकिन ओपो के कलरओएस डिसप्ले को स्क्रॉल करने भी सिर्फ सामने मौजूद कंटेंट को नहीं बल्कि नीचे दिए गए कंटेंट को भी स्क्रीनशॉट में कैप्चर हो किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें : सस्ते हुए Samsung, Realme और OnePlus के ये स्मार्टफोन्स, यहां देखें पूरी लिस्ट

Customizable Dark Mode

Dark mode यूं तो अब आम हो चला है और लगभग सभी फोंस में देखने को मिलता है लेकिन OPPO ने ColorOS 11 में डार्क मोड को और भी एडवांस तरीके से अपडेट किया है। इस ऑपरेटिंग सिस्टम में डार्क मोड के साथ 3 कॉन्ट्रास्ट लेवल दिए गए हैं। ओएस में मौजूद ऑटो ब्राइटनेस फीचर के जरिये यूजर के आसपास मौजूद रोशनी के अनुसार ही डार्कनेस एडजेस्ट हो जाती है। ‘आई कंफर्ट’ मोड डिसप्ले की सेच्युरेशन संतुलित रखता है और ‘अल्ट्रा विज़न इंजन’ स्मूथ वीडियो क्वॉलिटी प्रदान करता है। ColorOS 11 पर अपडेटेड OPPO Find X2 में हमें ‘ऐज़ लाइटिंग’ फीचर बेहद ही शानदार लगा, जो फोन को अलग ही लुक प्रदान करता है।

LEAVE A REPLY