जानें PUBG और Call Of Duty में कौन किस पर पड़ता है भारी

pubg-vs-call-of-duty

आज मोबाइल गेम का नाम आते ही सबसे पहले लोग PUBG की बात करते हैं। परंतु हाल के दिनों में देखा गया है कि Call Of Duty भी काफी लोकप्रिय हुआ है। सबसे पहले 2003 में इस गेम को पीसी के लिए लॉन्च किया गया था लेकिन हाल में इसका मोबाइल वर्जन भी लॉन्च किया गया है और लोग इसे भी काफी पसंद कर रहे हैं। ऐसे में जो मोबाइल गेमर हैं वह इन दोनों प्रचलित गेम को लेकर थोड़े असमंजस में हैं। कई लोगों का सवाल है कि PUBG और Call Of Duty दोनों गेम में कौन बेहतर है? मोबाइल यूजर के इन्हीं क्न्फ्यूजन को दूर करने के लिए मैंने एक छोटा सा कम्पैरिजन बनाया है जिसमें आप जान सकते हैं कि कौन कहां बेहतर है।

यहां दोनों हैं बराबर
pubg-vs-call-of-duty

PUBG और Call Of Duty दो अलग-अलग मोबाइल गेम हैं लेकिन दोनों में कई समानताएं भी हैं। दोनों गेम की स्टोरी लाइन एक जैसी है। ये दोनों गेम बैटल रोयॉल थीम पर आधारित हैं और खेलने का तरीका वही है। इसमें बैटल ग्राउंड या मैप्स एक जैसे हैं और आपको अपने दुश्मनों का खत्मा करना है। कंट्रोल वहीं हैं और ऑनलाइन ही खेल सकते हैं। मल्टी प्लेयर गेम है और दोनों में एक ही काम है ढूंढ़-ढूंढ कर मारना। ग्राफिक्स भी लगभग एक जैसे हैं और हथियार भी लगभग समान हैं। इन समानताओं के बावजूद दोनों गेम में कई अंतर हैं, कहीं पबजी बेहतर है तो कहीं Call Of Duty। इसे भी पढ़ें: LG C9 OLED65C9 रिव्यू: देखकर आंखे रह जाएंगी खुली

यहां Call Of Duty है मजेदार
best-battle-game-like-pubg-for-mobile-user-battlelands-royale-free-fire-rules-of-survival-call-of-duty

5 VS 5 डेथ: Call Of Duty का 5 VS 5 डेथ मोड काफी शानदार है। PUBG में यह फीचर नहीं है और इस मोड की वजह से ज्यादातर लोग Call Of Duty को पसंद करते हैं। इसमें ऑनलाइन गेम को खेल रहे लोगों के दो ग्रुप बन जाते हैं जिसमें 5-5 लोग होते हैं और फिर वह दुश्मनों को मारते हैं। जो ग्रुप पहले 50 लोगों को मारता है वह विजेता होता। इस टारगेट को पूरा करने के लिए अंधाधुंध गोलियां चलती हैं और भयानक लड़ाई होती है। ऐसे में काफी मजा आता है। इसे भी पढ़ें: Mi Smart Water Purifier (RO + UV) रिव्यू: स्मार्ट भी और बेहतर भी

अडवांस मोड: अडवांस मोड भी Call Of Duty को पबजी से आगे खड़ा करता है। इस मोड में आपको दुश्मनों पर हमला करने के लिए ड्रोन मिलेगा और आप एयर स्ट्राइक भी कर सकते हैं। यह बहुत ही मजेदार लगता है। ये चीजें हम पबजी में मिस कर करते हैं।

फाइल साइज: इसमें कोई दो राय नहीं है कि आज PUBG सबसे पॉप्युलर गेम है लेकिन इस बात से भी आप इनकार नहीं कर सकते कि बड़ी फाइल साइज इसकी परेशानी है। PUBG लगभग ढाई जीबी का है। वहीं Call Of Duty इसके आधे स्टोरेज में आ जाता है। अर्थात लगभग 1 जीबी की फाइल है।

क्विक ऐक्शन: Call Of Duty को इस लिए भी पसंद किया जा रहा है क्योंकि पजबी की तुलना में यह थोड़ा फास्ट है। अर्थात आप गोली चलाते हैं या कोई भी ऐक्शन है तो इस गेम में आपको ज्यादा तेज नजर आएगा जबकि पबजी थोड़ा धीमा लगता है। इसे भी पढ़ें: Xiaomi Redmi 8 या Motorola One Macro, स्पेसिफिकेशन्स पढ़कर बताएं कौन-सा फोन बिकेगा ज्यादा?

इन मामलों में PUBG पड़ता है भारी
pubg-4
मिलेंगे सारे हथियार: कुछ मामलों में Call Of Duty आगे है लेकिन ऐसा नहीं है कि PUBG में अब कुछ बचा ही नहीं। बल्कि PUBG में कई ऐसी चीजें हैं जिन्हें यूजर बहुत पसंद करते हैं। इनमें सबसे पहला है कि शुरू से ही आपके पास सारे गन होंगे। आप जिस हथियार का उपयोग करना चाहेंगे मिल जाएगा। जबकि Call Of Duty में जैसे-जैसे मोड अनलॉक होगा वैसे-वैसे नए हथियार मिलेंगे।

बड़ा प्लेयर बेस: पबजी मोबाइल का प्लेयर बेस Call Of Duty के मुकाबले काफी बड़ा है ऐसे में आपको अलग-अलग एक्सपर्ट लोगों के साथ खेलने को मिलता है और यह काफी मजेदार हो जाता है।

मैप्स अपडेट: पबजी मोबाइल गेम में मैप्स काफी जल्दी-जल्दी अपडेट होते हैं। ऐसे में इसमें आपको काफी नयापन मिलेगा। इस मामले में Call Of Duty काफी पीछे है।

वेरायटी: PUBG की एक और खासियत है कि अक्सर आपको अलग-अलग चीजें परोसेगा जिससे और भी मजेदार हो जाता है। जैसे कोई हॉलीवुड मूवी लॉन्च हो रही हो, कोई बड़ा कैरेक्टर या कोई बड़ा इवेंट हो तो इससे जुड़ी चीजें आपको गेम में मिलेंगी।

ग्राफिक्स: हालांकि दोनों गेम के ग्राफिक्स एक जैसे बनाए हैं गए हैं लेकिन कुछ मामलों मे PUBG, Call Of Duty से बेहतर साबित होता है।

SHARE
Previous articleVivo V19 Pro, X50, X5 Pro और कई स्मार्टफोन होंगे लॉन्च, WIPO पर हुए स्पॉट
Next articleXiaomi Redmi Note 8T शॉपिंग साइट पर लिस्ट, वेरिएंट्स के साथ हुआ कीमत का खुलासा
टेक्नोलॉजी शौक नहीं इनका जुनून है और इसी जुनून ने इन्हें टेक जगत में आने के लिए प्रेरित किया। मुकेश कुमार सिंह उन चंद लोगों में से हैं जिन्होंने हिंदी में मोबाइल रिव्यू लिखने की शुरूआत की। अपने 11 सालों के प​त्रकारिता के सफर की शुरुआत इन्होंने हिंदी डेली से की और पिछले 10 सालों से ये मोबाइल तकनीकी क्षेत्र में सक्रिय हैं। अब तक ये मॉय मोबाइल मैगजीन और बीजीआर जैसे वेबसाइट के लिए कार्य कर चुके हैं। वहीं जागरण और नवभारत टाइम्स जैसे अखबारों में इनके लेख नियमित रूप से छपते रहते हैं।

LEAVE A REPLY