जियोसिक्योरिटी ऐप से आपका फोन होगा और भी सुरक्षित

जिस तरह से इंटरनेट आधारित सेवाओं का विस्तार हो रहा है उससे कहीं ज्यादा तेजी से वायरस आपके मोबाइल में घर कर रहे हैं। आज हम मोबाइल से ईमेल, बैंकिंग सेवाएं और कई तरह के प्राइवेट ब्राउ​जिंग करते है लेंकिन उस वक्त हमेशा डाटा चोरी होने और हैकिंग का खतरा बना होता है। पंरतु अब शायद ऐसा नहीं होगा। यदि आप रिलायंस​ जियो के यूजर हैं तो आप अपने फोन में जियोसिक्योरिटी ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं। यह ऐप न सिर्फ आपको वायरस से सु​रक्षित रखेगा बल्कि आपके फोन में उपलब्ध दूसरे ऐप्स के बारे में भी उचित सलाह देगा।

जियो के इस सिक्योरिटी ऐप को प्रमुख डाटा सिक्योरिटी कंपनी नॉर्टन की ताकत प्रदान की गई है। यह ऐप आपको वेब ब्राउजिंग के दौरान होने वाले खतरों से बचाएगा और असु​र​क्षित ऐप और वायरस को आने से भी रोकेगा।

जियो ने बनाया विश्व रिकॉर्ड, कंपनी की सालगिरह पर अंबानी ने बताया

वर्ष 2016 जनवरी के बाद नॉर्टन बाई सिमेंटेक ने अपने मोबाइल में 6,464,472 नए मैलवेयर ऐप्स और 5,741,834 ग्रेवेयर एप्स की पहचान की जिन पर बिना यूजर के जानकारी के निजी डाटा चोरी करने का शक था।

नार्टन ने अपने सर्वे में पाया है कि भारत में ज्यादातर यूजर सुरक्षा और गोपनीयता की अनदेखी करते हैं। वहीं इस सर्वे में यह भी जानकारी दी गई है कि लगभग 50 प्रतिशत भारतीयों ने अपने स्मार्टफ़ोन पर 20 से अधिक ऐप डाउनलोड किए हैं। सर्वे में हर तीन उपभोक्ताओं में से एक उपभोक्ता ने यह स्वीकार किया कि उन्होंने जो ऐप डाउनलोड किए हैं वे निजी डाटा इकट्ठा कर सकते हैं। वहीं पांच में से एक यह कहते हैं कि वे किसी भी ऐसे ऐप को डाउनलोड करेंगे जो देखने में स्मार्ट हो उन्हें ऐप के ब्रैकग्राउंड से कोई मतलब नहीं है।

जियो का एक साल: 12 महीने, 12 कमाल

हालां​कि चौंकाने वाली बात यह थी कि 36 फीसदी लोगों ने यह स्वीकर किया कि वे बिना सोचे ऐप्स को डाटा की अनुमती दे देते हैं। उन्हें मालूम नहीं ​ऐप्स कौन से आंकड़े इकट्ठा कर रहा है। सिर्फ 8 फीसदी लोग ऐसे थे जिन्होंने बताया कि जहां जोखिम की बात आती है तो वे अस्विकार कर देते हैं।

हर दो में से एक यूजर कॉन्टैक्ट्स की अनुमती दे देते हैं जबकि 50 प्रतिशत प्रमोशनल मैसेज के भजने की। करीब 40 फीसदी यूजर कैमरे, बुकमार्क और ब्राउज़र हिस्ट्री की अनुमती दी है। वहीं 30 प्रतिशत लोगों ने लोकेशन की। ऐसे में आप सोच सकते हैं कि एक गलत ऐप आपको किस कदर परेशान कर सकता है। आपके कॉन्टैक्ट्स मैसेज और कैमरे तक का डाटा उसके पास होता है। ऐसे में जियो का यह नया ऐप जियो ​यूजर के लिए काफी कारगर होगा।

जियोसिक्योरिटी ऐप आपको आने वाले संभावित खतरों से पहले ही अगाह कर देगा। साथ ही आपके फोन को एक बेहतर सुरक्षा प्रादान करेगा। इस ऐप को आप मुफ्त गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं।

SHARE
Previous article6जीबी रैम के साथ वीवो एक्स20 हुआ लीक
Next articleनहीं किया यह काम तो आपका मोबाइल नंबर हो सकता है बंद
टेक्नोलॉजी शौक नहीं इनका जुनून है और इसी जुनून ने इन्हें टेक जगत में आने के लिए प्रेरित किया। मुकेश कुमार सिंह उन चंद लोगों में से हैं जिन्होंने हिंदी में मोबाइल रिव्यू लिखने की शुरूआत की। अपने 15 सालों के प​त्रकारिता के सफर की शुरुआत इन्होंने हिंदी डेली से की और पिछले 13 सालों से ये मोबाइल तकनीकी क्षेत्र में सक्रिय हैं। अब तक ये मॉय मोबाइल मैगजीन और बीजीआर जैसे वेबसाइट के लिए कार्य कर चुके हैं। वहीं जागरण और नवभारत टाइम्स जैसे अखबारों में इनके लेख नियमित रूप से छपते रहते हैं।