ठन-ठन गोपाल बना देंगे आपके फोन में मौजूद ये ऐप्स, पूरी लिस्ट देख अभी करें डिलीट

यह बात आज सबको पता है कि स्मार्टफोन आज हमारी जिंदगी में सांस लेने जितना अहम हो गया है। इसी फोन के साथ हम काफी हद तक ऐप और गेम्स के भी आदि हो चुके हैं। लेकिन, क्या आप जानते हैं कई बार बिना सोचे-समझे डाउनलोड की गई ऐप्स ही हमारी सुरक्षा में सेंध लगा जाती हैं। इसी समस्या को हल करने के लिए गूगल बीच-बीच में अपने प्ले स्टोर से ऐसे ऐप्स को हटाता रहता है जो फेक होती हैं और यूजर्स का डाटा चुराने का काम करती हैं। वहीं, अब McAfee Mobile Research ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि एक नए मैलवेयर को 8 Android ऐप में छिपाया गया था, जो Southeast Asia और Arabian Peninsula में यूजर्स को टारगेट कर रहे थे। यह संदेवनशील ऐप्स फोटो एडिटर, वॉलपेपर, पजल्स, कीबोर्ड स्किन्स और अन्य कैमरा-संबंधित ऐप हैं, जिन्हें मोबाइल यूजर डाउनलोड कर ही लेता है।

7,00,000 बार डाउनलोड हुए ये ऐप

रिपोर्ट के अनुसार इन ऐप्स के 7,00,000 से अधिक डाउनलोड हैं। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि हैकर्स इन ऐप की मदद से यूजर्स की प्राइवेसी में कितना अंदर तक घुस चुके हैं। इसके अलावा रिपोर्ट में बताया गया है कि ऐप्स में एम्बेडेड मैलवेयर एसएमएस मैसेज नोटिफिकेशन को हाईजैक करता है और फिर अनऑथराइज्ड खरीदारी करता है। अगर गलती से आपने ऊपर बताए गए एप्स को डाउनलोड कर लिया है तो इन्हें तुरंत अपने से हटा लें। इसे भी पढ़ें: मोबाइल हैकिंग और डाटा लीक के बढ़ रहे हैं केस, डरें नहीं बचाव करें, जानें कैसे

mobile-app

ये हैं वो 8 ऐप्स की लिस्ट

  • com.studio.keypaper2021
  • com.pip.editor.camera
  • org.my.favorites.up.keypaper
  • com.super.color.hairdryer
  • com.ce1ab3.app.photo.editor
  • com.hit.camera.pip
  • com.daynight.keyboard.wallpaper
  • Com.super.star.ringtones

वायरस की पहचान

ये वायरस कुछ ऐसे फॉर्म में आपके फोन घर बसा लेता है कि इसे पहचानना आसान नहीं है। रिपोर्ट में बताया गया है कि यह मैलवेयर खुद ही किसी url को ओपन करता है और अनअथोराइज्ड शॉपिंग करता है। इतना ही नहीं यह मैलवेयर आपके नोटिफिकेशन की निगरानी भी करता है और फोन के SMS को भी चुरा लेता है।

how-to-keep-your-phone-secure-from-data-leak-mobile-hacking-protection-tips-in-hindi

ऐप्स डलाते हैं प्राइवेसी में डाका

इस विशेष मैलवेयर के बारे में जागरूकता के बावजूद भी यूजर्स इन ऐप्स को डाउनलोड कर लेते हैं। दरअसल ये ऐप्स आपकी प्राइवेंसी में सेंध लगाते हैं। यानी स्मार्टफोन्स का डाटा कलेक्ट करते थे। इनमें एसएमस मैसेज, कॉन्टैक्ट लिस्ट और डिवाइस की जानकारी शामिल है। इसे भी पढ़ें: क्या है 5G, कितना तेज होगा इंटरनेट, जानें इसकी स्पीड

Note: अगर आपके फोन में भी इनमें से कोई ऐप हैं तो इन्हें फौरन डिलीट कर दें क्योंकि ये ऐप्स आपके निजी डाटा चोरी करने का काम कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY