6 मार्च को भारत में लॉन्च होगा सैमसंग गैलेक्सी एस9 और एस9+, कंपनी ने भेजा मीडिया इन्वाईट

मोबाईल वर्ल्ड कांग्रेस 2018 में सैमसंग ने अपनी गैलेक्सी एस सीरीज़ का सबसे लेटेस्ट और दमदार स्मार्टफोन गैलेक्सी एस9 और एस9+ लॉन्च किया था। अंर्तराष्ट्रीय मंच पर फोन को पेश किए जाने के बाद से ही सैमसंग फैन्स को इंतजार था कि यह फोन भारतीय बाजार में कब लॉन्च किया जाएगा। वहीं अब स्वयं कपंनी ने मीडिया इन्वाईट भेजते हुए गैलेक्सी एस9 और एस9+ के इंडिया लॉन्च की तारीख का खुलासा कर दिया है। ये दोनों ही स्मार्टफोन मॉडल 6 मार्च को भारत में लॉन्च किए जाएंगे।

सैमसंग गैलेक्सी एस9 और एस9+ में मुख्य रूप से स्क्रीन और रैम का अंतर है। गैलेक्सी एस9 में जहां 5.8-इंच की स्क्रीन दी गई है। वहीं गैलेक्सी एस9+ में 6.2-इंच की स्क्रीन है। दोनों फोन में कंपनी ने 2960 x 1440 पिक्सल रेजल्यूशन के साथ 18.5:9 आसपेक्ट रेशियो वाली बेज़ल लेस सुपर एमोलेड डिसप्ले दी है, जो कोर्निंग गोरिल्ला ग्लास 5 प्रोटेक्टेड है। इस बार भी फोन डुअल कर्व्ड डिसप्ले के साथ पेश किए गए हैं।

एक्सक्लूसिव : देखें सैमसंग गैलेक्सी एस9 और गैलेक्सी एस9+ का इंडियन प्राइस

दोनों फोन 64जीबी, 128जीबी और 256जीबी की इंटरनल मैमारी के साथ उपलब्ध हैं। वहीं एस9 में 4जीबी रैम दी गई है जबकि एस9+ में 6जीबी की रैम मैमोरी मिलेगी। जहां तक भारत की बात है तो यहां सिर्फ 64जीबी और 256जीबी वाले वेरिएंट ही सेल के लिए उपलब्ध होंगे।

samsung-galaxy-s9-and-s9-plus-launch-india

गैलेक्सी एस9 और एस9+ क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 845 और एक्सनोस 9810 चिपसेट पर कार्य करता है। फोन में 2.8गीगाहट्र्ज का आॅक्टा-कोर प्रोसेसर दिया गया है। भारत में एक्सनोस चिपसेट वाला मॉडल उपलब्ध होगा।

सिर्फ 2,000 रुपये में करें सैमसंग गैलेक्सी एस9 और एस9+ को प्री-बुक, जानें कैसे करें आॅर्डर

एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 8.0 ओरियो पर कार्य करता है। इसमें 4जी वोएलटीई सपोर्ट है। डाटा ट्रांसफर और चार्जिंग के लिए यूएसबी टाइप-सी और एनएफसी भी दिया गया है। पावर बैकअप के लिए एस9 में आपको 3,300 एमएएच की बैटरी देखने को​ मिलेगी जबकि गैलेक्सी एस9+ में 3,500 एमएएच की बैटरी दी गई है।

SHARE
Previous articleसैमसंग गैलेक्सी एस9
Next articleइसे कहते हैं बैटरी का बाप, लॉन्च हुआ 16,000एमएएच बैटरी वाला फोन
मेरे लिखने से आपके पढ़ने तक, सब तकनीक है।Kamal Kant का मानना है कि तकनीक नई हो या पुरानी हर रोज़ कुछ न कुछ नया ​दिखाती है, सिखाती है। टेक्नोलॉजी के प्रति इसी सोच ने कमल को तकनीक जगत में आने के लिए प्रेरित किया। पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने 10 साल के अनुभव के दौरान ये विभिन्न प्रतिष्ठित संस्थानों से जुड़ते हुए मीडिया के तीनों मंच - प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक्स और डिजीटल मीडिया पर कार्य चुके हैं।