ब्रांड Samsung की अनकही कहानी: जानें कैसे बना ट्रेडिंग कंपनी से विश्व का नंबर एक मोबाइल निर्माता!

मोबाइल का बाजार बहुत बड़ा है और यहां हर रोज नए इनोवेशन देखने को मिलते हैं। बाजार के आकार को देखते हुए आए दिन नए ब्रांड यहां दस्तक देते हैं परंतु कुछ ही हैं जो लंबे समय तक टिक पाते हैं। अनुभव की कमी कहें या फिर गलत रणनीति, उपभोक्ता नब्ज को भांपने में सफल नहीं होते। एक बात तो मोबाइल इंडस्ट्री की आप भी मानेंगे कि हर छह महीने में पूरा बाजार बदल जाता है। ऐसे में गायब होने का खतरा सिर्फ नए ब्रांडों पर ही नहीं होता, बल्कि कई बार पुराने और अनुभवी खिलाड़ियों को भी हार माननी पड़ी है। आपको याद होगा एक समय मोबाइल बाजार की दशा और दिशा Nokia, Motorola और Soni जैसे ब्रांड तय करते थे लेकिन अब ये ब्रांड कहीं खो चुके हैं। किसी तरह जी तो रहे हैं लेकिन किस हाल में आप भी जानते हैं। वहीं Blackberry जैसा ब्रांड तो पूरी तरह से खत्म हो गया।

हालांकि परिस्थि​ती चाहे जो भी हो एक ब्रांड है जिसने न सिर्फ उपभोक्ता की नब्ज को समझा बल्कि समय के अनुसार अपने आप को बदला और आज भी विश्व का नंबर एक मोबाइल निर्माता बनकर खड़ा है। जी हां! आप सही समझ रहे हैं मैं बात कर रहा हूं Samsung की। मोबाइल जगत में की यह इकलौती कंपनी है जो 40 साल से ज्यादा समय गुजार चुकी है ​और आज भी यूजर्स की पहली पसंद बनी हुई है तो चलिए आज मैं आपको ब्रांड सैमसंग की ऐसी ही एक अनकही कहानी बताने जा रहा हूं। कैसे कंपनी ने अर्श से फर्श का सफर तय किया है। इसे भी पढ़े: क्या है आरोग्य सेतु ऐप और कैसे करती है काम, क्यूं मोदी ने डाउनलोड करने पर दिया जोर, जानें इस ऐप के बारे में सबकुछ

ब्रांड सैमसंग
samsung-mobile-phone-history-in-hindi
इसमें कोई शक नहीं कि Samsung Mobile सेग्मेंट बहुत बड़ा है और कंपनी कई इनोवेशंस के लिए जानी जाती है लेकिन एक नजर सैमसंग को ब्राड सैमसंग बनने पर डाल लेते हैं। सैमसंग दक्षिण कोरिया की कंपनी है जिसका हेड ऑफिस सियोल में स्थित है। कोरियन नाम के अनुसार सैमसंग का आशय होता है “थ्री स्टार” अर्थात तीन सितारा और अपने नाम के अनुसार ही यह कंपनी आज चमक रही है। इसकी स्थापना 1938 में ली ब्यंग चुल {Lee Byung-chul) द्वारा की गई थी और उस वक्त यह ट्रेडिंग कंपनी के तौर पर रजिस्टर हुई थी। परंतु अगले तीन दशकों में Samsung बड़ी तेजी से उभरा और कई क्षेत्रों में कदम रखा। जिनमें फुड प्रोसेसिंग, टेक्सटाइल्स, इंस्योरेंस, सिक्योरिटी और रिटेल प्रमुख हैं। 1970 के दशक तक कंपनी ​शिप बिल्डिंग और कंस्ट्रक्शन में भी आ चुकी थी। 1969 में सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स की शुरुआत हुई थी लेकिन उस वक्त कंपनी इस क्षेत्र में काफी छोटी थी। हालांकि 70 के दशक में Samsung ने जापानी कंपनी सान्यो और एनईसी के साथ टीवी और सेमिकंडक्टर निर्माण क्षेत्र में आई और 1981 तक कंपनी 10 मिलियन से ज्यादा ब्लैक एंड वाइट टीवी का निर्माण कर चुकी थी। इसे भी पढ़े: इस साल में इन धमाकेदार मोबाइल गेम्स ने तोड़ा रिकॉर्ड, क्या आपने भी खेलें है ये गेम्स?

यह एक तरीके से कंपनी के इलेक्ट्रॉनिक निर्माण की शुरुआत थी। 1980 के बाद सैमसंग ने DRAM और ROM, ​डिजिटल चिप वाले मैमोरी निर्माण में कदम रखा और आज स्थिति यह है कि कंपनी विश्व की नंबर एक ​चिप निर्माता कंपनी बन गई है।

Samsung donates free smartphones to quarantined coronavirus patients tablet device

दूसरी ओर डिसप्ले सग्मेंट में भी सैमसंग ने अपना परचम फहराया। 1995 में पहली बार कंपनी द्वारा एलसीडी डिसप्ले पैनल को पेश किया गया जिसका उपयोग बड़े पैमाने पर टीवी, कम्पयूटर स्क्रीन और मोबाइल सहित दूसरे डिसप्ले के लिए किया गया। इसे भी पढ़े: Samsung Galaxy S20+ रिव्यू: प्रीमियम डिजाइन, शानदार कैमरा और दमदार परफॉर्मेंस लेकिन थोड़ा महंगा

सैमसंग मोबाइल फोन
samsung-mobile-phone-history-in-hindi
जैसा कि हमने बताया कि 80 के दशक में कंपनी सेमिकंडक्टर और डिजिटल मैमोरी चिप निर्माण के क्षेत्र में दस्तक दे चुकी थी और यहीं से मोबाइल की भी शुरुआत हुई। कंपनी ने 1988 में पहला मोबाइल फोन लॉन्च किया जिसका मॉडल था SH-100, इस फोन को कोरिया में ही लॉन्च किया गया था।

इसी साल Samsung द्वारा SGH-200 को पेश किया गया और यह कंपनी का पहला फोन था जिसे कोरिया के बाहर यूरोप में भी लॉन्च किया गया था। हालांकि उस वक्त यह फोन कुछ खास नहीं कर सका। आपको जानकर थोड़ी हैरानी भी होगी कि उस वक्त 60 फीसदी बाजार पर मोटोराला का कब्जा था और 10 फीसदी पर ही सैमसंग सिमटा हुआ था। परंतु कंपनी ने इनोवेशन में हार नहीं मानी और निरंतर कुछ न कुछ नया लेकर आती रही।

1994 में सैमसंग द्वारा SH-770 मॉडल पेश किया गया। यह कंपनी का पहला तीन लाइन डिसप्ले वाला फोन था जिसमें सबसे उपर आईकॉन, उसके नीचे नंबर ​और सबसे नीचे मेन्यू का ऑप्शन था। यहां से मानों कंपनी को पर लगने लगे। 1996 में सैमसग ने SCH-100 को पेश किया जो कि कंपनी का पहला सीडीएमए फोन था। इसी तरह 1998 में SCH-800 आया और यहां से सैमसंग के फोन मैसेज भेजने मे सफल हो गए थे।

samsung-mobile-phone-history-in-hindi

यह वही दौर था जब विश्व भर में मोबाइल यूजर की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा था, भारत में भी मोबाइल सेवा शुरू हो गई थी, काल रेट गिरने लगे थे और मोबाइल फोन में इनोवेशन आने लगे थे। वर्ष 1999 सैमसंग मोबाइल के लिए बेहद ही अहम रहा जहां कंपनी ने एक के बाद एक कई इनोवेशन पेश किए। 1999 में कंपनी ने पहला फोन पेश किया था​ जिसमें एमपी3 गाने स्टोर हो सकते थे और प्ले बैक का भी ऑप्शन था।

samsung-mobile-phone-history-in-hindi

परंतु इससे भी बड़ा इनोवेशन था सैमसंग ‘वॉच फोन’ का। जी हां आज स्मार्टवॉच की बात हो रही है लेकिन 1999 में कंपनी ने SPH-WP10 को पेश किया इस फोन को आप कलाई पर बांध सकते थे। हालांकि यह थोड़ा बड़ा था लेकिन मजेदार था।

samsung-mobile-phone-history-in-hindi

इसी तरह 1999 में ही सैमसंग SPH-M220 फोन आया जो​ कि कंपनी का पहला टीवी फोन था। इसमें एनालॉग टीवी आप चला सकते थे। फोन में एंटीना दिया गया था। यह अपने आप में बहुत बड़ी बात कही जा सकती थी।

samsung-mobile-phone-history-in-hindi

अगले साल 2000 में कंपनी ने SCH-A2000 मॉडल पेश किया। यह एक फ्लैप डिजाइन वाला फोन था जिसमें अंदर के साथ बाहर कवर पर भी एक डिसप्ले दिया गया था जो टाइम के साथ कॉल और मैसेज बताने में सक्षम था। एक तरीके से डुअल डिसप्ले की शुरुआत यहीं से हुई थी।

samsung-mobile-phone-history-in-hindi

इसी साल कंपनी ने SPH-V200 फोन पेश किया और यह सैमसंग का पहला फोन था​ जिसमें डिजिटल कैमरा दिया गया था। हालांकि यह विश्व का पहला कैमरे वाला फोन नहीं था।

samsung-mobile-phone-history-in-hindi

इसके बाद 2002 का वह अहम साल आया जब कंपनी ने अपना पहला कलर डिसप्ले वाला फोन लॉन्च किया। इसके बाद सैमसंग का रंग लेगों पर छाने लगा। कंपनी ने SCH-X430 मॉडल को उतारा जिसमें फ्लैप डिजाइन के साथ कलर डिसप्ले दिया गया था। इसी साल कंपनी ने एक और रिकॉर्ड बनाया सैमसंग का SGH-T100 मॉडल 10 मिलियन सेल होने वाला पहला फोन बना। 2002 में कंपनी एक और नया इनोवेशन लेकर आई कंपनी ने SCH-V300 मॉडल पेश किया जिसमें वीडियो ऑन डिमांड सर्विस सपोर्ट था।

samsung-mobile-phone-history-in-hindi

ऐसे ही कदम दर कदम सैमसंग आगे बढ़ रहा था और 2004 में कंपनी के मोबाइल इतिहास में एक और नया अध्याय जुड़ गया। सैमसंग ने इस साल SCH-A790 मॉडल को पेश किया जो एक डुअल सिम फोन था और इमसें जीएसएम के साथ सीडीएमए सपोर्ट दिया गया था। इसी साल SGH-V500 मोबाइल फोन को पेश किया गया। अपने रोटेटिंग डिसप्ले की वजह से इस फोन को काफी सराहा गया था। इतने में ही यह साल खत्म नहीं हुआ। वर्ष 2004 में सैमसंग द्वारा SPH-S2300 हैंडसेट पेश किया गया। यह पहला फोन था जिसमें 3.2एक्स ऑप्टिकल ज़ूम का उपयोग किया गया था। जिस जूम की बातें आज हो रही हैं कंपनी उसे 16 साल पहले ही पेश कर चुकी है।

samsung-mobile-phone-history-in-hindi

2005 में कंपनी का एक और फोन चर्चा मे रहा और इसका मॉडल नंबर था SCH-B250। यह कंपनी का पहला फोन था जिसमें 2.2 इंच का 262के कलर स्क्रीन दिया गया था। यह फोन डीवीएम तकनीक से लैस था और लाइव टीवी स्ट्रीम करने में सक्षम था। वहीं इस साल कंपनी ने एक बेहद ही इनोवेटिव फोन Samsung SGH-E910 को पेश किया ​जो सीरीन नाम से जाना गया।इसमें फोन की तरह डायलर दिया गया था। अब जमाना टच स्क्रीन की ओर बढ़ रहा था।

samsung-mobile-phone-history-in-hindi

साल 2007 में कंपनी ने पहला टच स्क्रीन फोन T919 Behold को पेश किया। इसके बाद Samsung F700 जैसे मॉडल लॉन्च किए गए। टच स्क्रीन में कंपनी के मैटल सीरीज काफी पॉपुलर हुए थे। इसके अलावा सैमसंग कॉर्बी और ओमनिया सीरीज को विश्व भर में सराहना मिली। परंतु इतिहास लिखने का काम गैलेक्सी फोन ने किया। कंपनी ने सबसे 2009 में Samsung GT-I7500 Galaxy को पेश किया। एंडरॉयड ऑपरेटिंग पर लॉन्च होने वाला यह पहला फोन था। हालांकि 2009 सैमसंग के लिए इतिहास लिखने वाला समय ही था। इसी साल कंपनी ने SCH-W850 के पेश किया जिसमें एमोलेड डिसप्ले था। इससे पहले नोकिया एन85 के साथ एमोलेड डिसप्ले ला चुका था। परंतु यहां से सैमसंग ने एमोलेड डिसप्ले पर जैसे अपना अधिकार ही कर लिया।

samsung-mobile-phone-history-in-hindi

वर्ष 2010 सैमसंग के लिए फिर से एक अहम साल साबित हुआ। यहां से Galasy S सीरीज की शुरुआत हुइ और यह पहला फोन था जिसमें Super AMOLED पैनल का उपयोग किया गया था। वहीं 2011 एक ऐसा मोड़ आया जब सैमसंग का सबसे बड़ा इनोवेशन सामने आया और यह था Samsung Galaxy Note, ये दोनों सीरीज अब तक लगातार लॉन्च हो रहे हैं।

samsung-mobile-phone-history-in-hindi

2012 में आए Galaxy S3 में एचडी सुपर एमोलेड और 2013 में Galaxy S4 के साथ फुल एचडी सुपर एमोलेड पैनल को पेश किया गया। साल 2012 कंपनी के लिए बेहद ही खास रहा था। यही वह साल है जब सैमसंग ने नोकिया की बादशाहत को खत्म कर विश्व की नंबर एक स्मार्टफोन निर्माता कंपनी बन गई।

samsung-mobile-phone-history-in-hindi

2014 में कंपनी ने Galaxy S5 के साथ फोन में हार्ट रेट सेंसर को पेश किया गया। 2015 में कंपनी ने Galaxy S6 को लॉन्च किया और यह फोन वाटर और डस्ट प्रूफ था। कंपनी ने कदम दर कदम इनोवेशन को काफी प्रमुखता से पेश किया है। वहीं नोट और स्मार्ट हो गया और एसपेन न सिर्फ रिमोर्ट कंट्रोल फीचर से लैस हो गया बल्कि मल्टी टास्क करने में सक्षम है। 2017 में कंपनी ने Galaxy S8 के साथ इनफिनिटी डिसप्ले की शुरुआत की और वहां से डिसप्ले का बाजार ही बदल गया।

samsung-mobile-phone-history-in-hindi

2018 में सैमसंग ने गैलेक्सी एस9 मॉडल को पेश किया था। आपको याद है वह फोन किस लिए पॉपुलर हुआ? नहीं चलिए मैं बता देता हूं। इस फोन में पहली बार कैमरे के साथ डुअल अपर्चर पेश किया गया था। एक ही सेंसर दो अपर्चर सपोर्ट करता था।

सैमसंग गैलेक्सी एस9 प्लस की पहली झलक

2019 का साल भी सैमसंग के लिए काफी खास रहा है। कंपनी ने विश्व का पहला 5जी फोन गैलैक्सी एस10 को पेश किया था। इसके साथ ही फोल्डेबल डिसप्ले की शुरुआत भी यहीं से हुई। कंपनी ने गैलेक्सी फोल्ड को उतारा जो कि साल का सबसे इनोवेटिव फोन में से एक माना गया।

exclusive-samsung-galaxy-s10-real-image-dual-punch-hole-display-quad-rear-camera-in-hindi

2020 में भले ही पूरा विश्व कोरोना को लेकर जंग में लगा हो लेकिन इससे पहले ही कंपनी अपनी इनोवेशन को दिखा चुकी थी। सैमसंग द्वारा इस साल गैलेक्सी एस20 सीरीज को पेश किय गया जिसमें 108 मेगापिक्सल का कैमरा 100 एक्स जूम सपोर्ट के साथ है। इसके अलावा गैलेक्सी जेड़ फ्लिप जैसा इनोवेटिव फोन भी लोगों द्वारा काफी पसंद किया जा रहा है।

Samsung Galaxy S20 Ultra top 5 feature that make most powerful smartphone in tech world flagship review

सैमसंग ने मोबाइल जगत में अब तक जिस तरह का इनोवेशन किया और जितना लंबा सफर तय किया है आशा है कंपनी आगे भी इसी उत्साह के साथ आगे बढ़ती रहेगी।

LEAVE A REPLY