अरे वाह! कटहल से चार्ज होगा आपका स्मार्टफोन, जानें क्या है यह टेक्नीक

अब तक आप और हम अपना फोन चार्ज करने के लिए मोबाइल फोन का चार्जर पावर प्लग से कनेक्ट कर चार्ज करते थे। लेकिन क्या आपको मालूम है आप अपने फोन को कटहल से भी चार्ज कर सकते हैं। वैसे ये सुनने में थोड़ा अजीब है कि सब्जी से फोन कैसे चार्ज किया जा सकता है। कुछ समय पहले आलू से फोन को चार्ज करने की खबर ऑनलाइन प्रकाशित हुईं थी। वहीं, इस टेक्नीक का प्रदर्शन यूट्यूब पर कई वीडियो के माध्यम से दिखाया गया था। दरअसल, इस बार आस्ट्रेलियाई शोधकर्ताओं ने एक ऐसा तरीका विकसित किया है जिससे फलों के अवशेषों से बिजली तैयार की जा सकती है।

ये है सुपर-कैपेसिटर तकनीक

सब्जियों से बनना वाली सुपर-कैपेसिटर ऊर्जा की मदद बिजली को बनाया जा सकता है। वहीं, इस ऊर्जा का इस्तेमाल किसी प्रोडक्ट की छोटी बैटरी को चार्ज किया जा सकता है। इस ऊर्जा की मदद से इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट जैसे मोबाइल फोन, टैबलेट और लैपटॉप को चार्ज किया जा सकता है।
how to make your android smartphone iphone battery backup last longer know 10 tips and tricks
जानें कहां हुआ रिसर्च में खुलासा

यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी के रिसर्चर का यह स्टडी जर्नल ऑफ एनर्जी स्टोरेज में पब्लिश हुई है। इस स्टडी से सामने आया है कि कटहल और डूरियन सब्जी से बिजली स्टोर की जा सकती है और इसका इस्तेमाल छोटे इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट को चार्ज करने के लिए किया जा सकता है। इस रिसर्च में बताया गया है कि फलों और सब्जी को सुपर कैपेसिटर में बदला जा सकता है।

क्या बिजली के मोटे बिलों से मिलेगा छुटकारा

हालांकि, शोधकर्ताओं ने बिजली तैयार करने के लिए अभी कटहल और डूरियन नामक फलों का ही उपयोग किया है। इस बिजली की मदद से आप अपने मोबाइल फोन को भी चार्ज कर सकते हैं। अगर इस तकनीक को आने वाले समय में इंडिया में अपनाया जाएगा तो बिजली के मोटे बिलों से जनता को छुटकारा मिल सकता है।

how to make your android smartphone iphone battery backup last longer know 10 tips and tricks
Photo: fromthegrapevin

बता दें कि ऑस्ट्रेलिया की एक यूनिवर्सिटी की रिपोर्ट में सामने आया है कि स्कूल ऑफ केमिकल एंड बायोमोलेक्युलर इंजीनियरिंग के एकेडमिक एसोसिएट प्रोफेसर विंसेंट गोम्स ने कटहल को सुपर-कैपेसिटर में बदलने में कामयाबी हासिल की है। प्रोफेसर का कहना है सुपर-कैपेसिटर ऊर्जा जलाशयों की तरह हैं जो ऊर्जा को आराम से बाहर निकालते हैं। इसी ऊर्जा की मदद से किसी छोटे इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट तो चार्ज किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY