खुशखबरी: और सस्ता होगी कॉलिंग, ट्राई ने घटाए इंटरकनेक्शन चार्ज

रिलायंस जियो सर्विस भारत में लॉन्च होने के साथ ही डाटा और कॉल दर में भारी गिरावट देखने को मिली है। कई आॅपरेटर्स से अनलिमिटेड कॉलिंक का आॅफर पेश किया है। हालांकि महीने भर के लिए अनलिमिटेड कॉलिंग का प्लान अब भी 300 रुपये से उपर का है लेकिन अब ये दर और कम हो सकते हैं। क्योंकि भारतीय दूरसंचार नियामक (ट्राई) ने हाल में जानकारी दी है कि अगले महीने से टर्मिनेशन शुल्क को कम किया जाएगा। इस शुल्क में कटौती की वजह से आॅपरेटर्स को काफी फायदा होगा कॉल दर और कम होने की संभावना भी है।

ट्राई पहले कॉल टर्मिनेशन शुल्क को 14 पैसे वसूलता था जो अब घटाकर छह पैसे प्रति मिनट कर दिया गया है। नई शुल्क पहली अक्टूबर से लागू होगी। इतना ही नहीं ट्राई ने इसे लेकर आगे का भी खाका तैयार किया है। नियामक का कहना है कि जनवरी 2020 तक इस शुल्क को पूरी तरह से खत्म कर दिया जाएगा।

गूगल तेज़ ऐप से इस तरह आप मुफ्त में कमा सकते हैं पैसे

हालांकि पूरानी दूरसंचार कंपनियां जैसे एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया ने इसका विरोध किया है। उन्होंने इस शुल्क को बढ़ाने की मांग की थी जबकि जियो ने इसे पूरी तरह से खत्म करने की मांग की थी और ट्राई का यह निर्णय जियो की तरह ही दिखता है।

यदि आपने बुक किया है रिलायंस जियोफोन तो इस तरह से करें ट्रैक

पूराने आॅपरेटर्स ने कॉल इंटर कनेक्शन शुल्क को बढ़ाए जाने तथा इसकी न्यूनतम लाभप्रद दर तय करने की मांग की थी। जबकि जियो ने इसे खत्म करने की बात कही ​थी जिससे कि यूजर को फायदा हो। ट्राई ने इस निर्णय के बारे में कहा कि तमाम हितधारकों से प्राप्त लिखित और मौखिक टिप्पणियों के आधार पर घरेलू मोबाइल टर्मिनेशन शुल्क की नई दरें तय की गई हैं। नए नियमों के अनुसार मोबाइल से मोबाइल के बीच कॉल पर टर्मिनेशन शुल्क की दर पहली अक्टूबर 2017 से 14 पैसे के बजाय छह पैसे प्रति मिनट होगी।

SHARE
Previous articleगूगल तेज़ ऐप से इस तरह आप मुफ्त में कमा सकते हैं पैसे
Next articleवनप्लस 5 होगा अब और भी स्टाइलिश, कंपनी ला रही है नया डिजाइनर ​एडिशन
टेक्नोलॉजी शौक नहीं इनका जुनून है और इसी जुनून ने इन्हें टेक जगत में आने के लिए प्रेरित किया। मुकेश कुमार सिंह उन चंद लोगों में से हैं जिन्होंने हिंदी में मोबाइल रिव्यू लिखने की शुरूआत की। अपने 15 सालों के प​त्रकारिता के सफर की शुरुआत इन्होंने हिंदी डेली से की और पिछले 13 सालों से ये मोबाइल तकनीकी क्षेत्र में सक्रिय हैं। अब तक ये मॉय मोबाइल मैगजीन और बीजीआर जैसे वेबसाइट के लिए कार्य कर चुके हैं। वहीं जागरण और नवभारत टाइम्स जैसे अखबारों में इनके लेख नियमित रूप से छपते रहते हैं।