UAN Activation: ऑनलाइन UAN नंबर ऐक्टिवेट कैसे करें, यहां जानें सबसे सरल तरीका

कर्मचारी UAN के ज़रिए अपने पीएफ अकाउंट की सर्विस जैसे - बैलेंस चेक, निकासी और EPFO की दूसरी सर्विस बिना परेशानी के एक्सेस कर सकते हैं।

Highlights
  • UAN को सिर्फ़ ऑनलाइन ही ऐक्टिवेट किया जा सकता है।
  • UAN का पूरा नाम यूनिवर्सल अकाउंट नंबर है।
  • EPFO मैंबर पोर्टल के जरिए PF अकाउंट की डिटेल चेक कर सकते हैं।

भारत में हर सैलरीड (वेतनभोगी) कर्मचारी जिसकी कंपनी कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) से जुड़ी हुई है, उनके लिए यूनिवर्सल अकाउंट नंबर या UAN ऐक्टिवेट करना ज़रूरी है। इसके ज़रिए कर्मचारी अपने पीएफ अकाउंट की सर्विस जैसे – बैलेंस चेक, निकासी और दूसरी सर्विस बिना किसी परेशानी के एक्सेस करने में मदद मिलेगी। कर्मचारी अपने UAN को ऑनलाइन भी ऐक्टिवेट कर सकते हैं। इस आर्टिकल में हम आपको UAN ऐक्टिवेट करने, ज़रूरी डॉक्यूमेंट और यूएएन नंबर के बारे में जानकारी दे रहे हैं।

UAN ऑनलाइन ऐक्टिवेट कैसे करें?

EPFO पोर्टल पर ऑनलाइन सर्विसेल का लाभ उठाने के लिए, आपको सबसे पहले अपना UAN रजिस्ट्रेशन या ऐक्टिवेट करना होगा। यहां हम आपको ईपीएफओ पोर्टल के जरिए UAN ऐक्टिवेट करने के बारे में स्टेप बाई स्टेप जानकारी दे रहे हैं। यह प्रोसेस स्टार्ट करने से पहले आपके पास अपना UAN नंबर और पीएफ मैंबर आईडी होना चाहिए।

अपने डिवाइस पर मौजूद वेब ब्राउज़र ओपन करें और EPFO मैंबर पोर्टल ओपन करें।

uan-1

वेबसाइट के डैशबोर्ड पर ‘Services’ ऑप्शन पर जाएं और ड्रॉप-डाउन मेनू से ‘For Employees’ चुनें।

uan-2

UAN मैंबर पोर्टल तक पहुंचने के लिए सर्विस सेक्शन में ‘Member UAN/Online Service (OCS/OTCP)’ पर क्लिक करना होगा।

uan-3

नए पेज के दाईं ओर कई महत्वपूर्ण लिंक होंगे, जिसमें आपको ‘Activate UAN’ विकल्प पर टैप करना है।

uan-4

आपको UAN, PF मैंबर आईडी, आधार कार्ड संख्या, नाम, जन्म तिथि, मोबाइल नंबर और कैप्चा कोड समेत आवश्यक जानकारी भरें। इसके बाद आपको रजिस्टर मोबाइल नंबर पर OTP प्राप्त करने के लिए ‘Get Authorization Pin’ बटन पर क्लिक करें।

अगले पेज पर आपको, ‘I Agree’ बॉक्स पर क्लिक करना है। अब आपको आधार से रजिस्टर मोबाइल नंबर पर ओटीपी मिलेगा इसे फिल कर ‘Validate OTP and Activate UAN’ पर क्लिक करना है।

आपके यूएएन एक्टिवेशन प्रोसेस पूरी हो गई है। आपको रजिस्टर मोबाइल नंबर पर एक पासवर्ड मिलेगा, जिसकी मदद से आप UAN मैंबर पोर्टल पर लॉग इन कर पाएँगे। लॉगइन कर आप अपने ईपीएफ अकाउंट की डिटेल जान पाएंगे।

नोट: UAN मैंबर पोर्टल पर मोबाइल नंबर पर मिले पासवर्ड को बदलने सकते हैं। इसके साथ ही अगर आप अपना पासवर्ड भूल गए हैं तो आप आसानी से रिसेट भी कर सकते हैं। हालांकि इसके लिए आपको UAN नंबर की आवश्यकता होगी।

UAN ऐक्टिवेट करने के लिए ज़रूरी डॉक्यूमेंट

अगर यह आपकी किसी रजिस्टर्ड कंपनी में पहली जॉब है तो आपको UAN नंबर के लिए अपनी कंपनी में कुछ डॉक्यूमेंट जमा करने होंगे। UAN नंबर सिर्फ़ एक बार ही जनरेट किया जाता है। इसके बाद अगर आप कंपनी बदलते हैं तो आपको UAN नंबर वही रहेगा। यहां हम आपको UAN नंबर के लिए आवश्यक डॉक्यूमेंट के बारे में जानकारी दे रहे हैं।

बैंक अकाउंट डिटेल्स : बैंक अकाउंट नंबर, IFSC कोड और बैंक की ब्रांच का नाम
आई प्रूफ : ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट, वोटर आई, आधार कार्ड या SSLC बुक
एडरेस प्रूफ : अपके नाम का बिजली, गैन या फोन का बिल, रेंट या लीज एग्रीमेंट, राशन कार्ड या अन्य तरह का आईडी प्रूफ जिसमें आपके वर्तमान पता मौजूद हो।
पैन कार्ड
आधार कार्ड

UAN नंबर कैसे पता करें?

UAN नंबर पता करने के दो तरीके हैं। आप अपनी कंपनी या फिर EPFO की ऑफिशियल वेबसाइट से पता कर सकते हैं।

EPFO पोर्टल से UAN नंबर जानें

EPFO मैंबर पोर्टल से UAN नंबर जानने के लिए हम आपको स्टेप बाई स्टेप जानकारी दे रहे हैं।

uan-5

सबसे पहले आपको EPFO मैंबर पोर्टल पर जाना है। यहां आपको Services > For Employees पर क्लिक करना है। इसके बाद आपको Member UAN/Online Service (OCS/OTCP) पर क्लिक करना है। ऐसा करने पर आप सीधा UAN पोर्टल पर पहुंच जाएंगे।

uan-6

यहां आपको महत्वपूर्ण लिंक सेक्शन में ‘Know Your UAN’ पर क्लिक करना है।

uan-7

अब आपको रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर और कैपचा कोड फिल करना है। अब आपको ‘Request OTP’ बटन पर क्लिक करना है।

uan-8

अब आपको मोबाइल पर मिले OTP का टाइप करना है और कैप्चा कोड एंटर करते हुए ‘Validate OTP’ पर टैप करना है।

अब एक नया पेज ओपन होगा, यहां आपको अपना नाम, डेट ऑफ बर्थ, आधार, पैन, मैंबर आी और कैप्चा कोड भरना है। इसके बाद आपको “Show My UAN” बटन पर क्लिक करना और आपको अगले पेज पर UAN नंबर दिखाई देगा।

UAN : FAQs

UAN क्या है और ये क्यों ज़रूरी है?

UAN, या यूनिवर्स अकाउंट नंबर, 12 अंको का यूनीक आइडेंटिफिकेशन नंबर है जो भारत सरकार के श्रम एवं रोजगार मंत्रालय की ओर से जारी किया जाता है। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) द्वारा हर रजिस्टर कंपनी के कर्मचारी जिसका EPF कटता है उसका UAN जारी किया जाता है। किसी भी कर्माचारी का UAN एक बार ही बनता है, चाहे वह कंपनी क्यों न बदल ले।

  • UAN की मदद से देश में काम कर रहे सभी कर्मचारियों का डाटा सेंट्रलाइज्ड करने में मदद मिलती है।
  • इसकी मदद से कंपनियाँ आसानी से अपने कर्मचारी का वेरिफ़िकेशन प्रोसेस पूरा कर सकते हैं।
  • UAN की मदद से कर्मचारियों के जॉब स्विच करने का रिकॉर्ड जमा किया जाता है।

UAN के लाभ

UAN के जरिए कर्मचारी आसानी से ऑनलाइन सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं।

  • अपने सभी EPF अकाउंट को चेक कर सकते हैं।
  • EPF पासबुक को देख और डाउनलोड कर सकते हैं।
  • PF निकाल सकते हैं।
  • PF बैलेंस को पुराने से नए अकाउंट में ट्रांसफ़र कर सकते हैं।
  • EPFO क्लेम का स्टेटस चेक कर सकते हैं।
  • KYC डिटेल और दूसरी बेसिक जानकारी अपडेट कर सकते हैं।

UAN के ज़रिए से कर्मचारी कंपनी की ओर से सही समय पर PF का भुगतान किया जा रहा है या नहीं ये भी चेक कर सकते हैं।

UAN कैसे जनरेट करें?

UAN कर्मचारी के पहली कंपनी द्वारा जनरेट किया जाता है। यूएएन जनरेट करने के लिए कंपनी में कर्मचारियों की संख्या 20 से ज्यादा होनी चाहिए। कंपनी UAN जारी करने के लिए कर्मचारी से कुछ जरूरी डॉक्यूमेंट मांगते हैं। कंपनी द्वारा ही कर्मचारी को EPF पोर्टल में मैंबर बनाया जाता है और नया UAN नंबर जनरेट किया जाता है। कर्मचारी के द्वारा एक कंपनी छोड़ कर दूसरी कंपनी में जाने के बाद भी UAN नंबर नहीं बदलता है।

क्या UAN नंबर को ऑफ़लाइन एक्टिव कर सकते हैं?

नहीं, UAN रजिस्ट्रेशन और ऐक्टिवेशन सर्विस की सुविधा ऑफलाइन मोड पर उपलब्ध नहीं है। कर्मचारी EPFO पोर्टल के जरिए ही UAN ऐक्टिवेट कर सकते हैं। इसके साथ ही Android फोन या iPhone यूजर्स Umang App के जरिए भी UAN ऐक्टिवेशन कर सकते हैं।

क्या कंट्रेक्चुअल कर्मचारी का UAN रजिस्टर होता है?

हाँ, ऐसी कंपनिया जहां 20 या उससे ज़्यादा कर्मचारी मौजूद हैं उन्हें कर्मचारियों (जिनका वार्षिक आय 15,000 रुपये से ज़्यादा) का UAN जनरेट करना आवश्यक है। ये कर्मचारी फ़ुल टाइम हो या कॉन्ट्रेक्चुअल सभी का UAN रजिस्टर करना आवश्यक है।

क्या UAN को आधार से लिंक करना आवश्यक है?

हां, ऐसे अकाउंट जिनका UAN आधार से लिंक नहीं होता है वह अपने PF फंड को ट्रांसफर या निकाल नहीं सकते हैं। इसके साथ ही ऐसे अकाउंट में कंपनियां आपका मंथली पैसा भी जमा नहीं कर पाती हैं। ऐसे में आधार कार्ड का UAN से लिंक होना अत्यंत जरूरी है।

क्या कंपनी बदलने के बाद UAN नंबर एक्टिवेट करना जरूरी है?

UAN को सिर्फ एक बार ऐक्टिवेट करने की जरूरत होती है। कंपनी बदलने के बाद यूएएन नंबर को रि-एक्टिवेट करने की ज़रूरत नहीं होती है।

क्या मेरे पास दो UAN हो सकते हैं?

नहीं, किसी भी कर्मचारी के पास एक से ज्यादा UAN नहीं होना चाहिए। अगर आपको किसी गलती के चलते दो UAN जारी हो गए हैं तो आपको अपनी कंपनी को इसके बारे में सूचित करना चाहिए। आप खुद भी uanepf@epfindia.gov.in को ईमेल लिखकर इसके बारे में जानकारी दे सकते हैं। वेरिफिकेशन के बाद आपको पुराना UAN ब्लॉक कर दिया जाएगा। इसके साथ ही आपको पुराने UAN में मौजूद बैलेंस को लेटेस्ट UAN में ट्रांसफर करने के लिए एप्लीकेशन देनी होगी।

LEAVE A REPLY