Vivo Y Series ‘दो कदम आगे, चार कदम पीछे’, जानें कैसे

vivo-y-series-pros-cons-good-bad-benefits-specs-features-price-in-india

Vivo ने साल 2021 की शुरूआत काफी दमदार की है। अभी नए साल का एक महीना भी पूरा नहीं हुआ है और वीवो ने 4 नए स्मार्टफोन भारतीय बाजार में उतार दिए हैं। रोचक बात यह है कि ये चारों ही स्मार्टफोन ‘वाई सीरीज़’ में जोड़े गए हैं जिनमें Vivo Y12s, Vivo Y20G, Vivo Y51a और Vivo Y31 शामिल है। इन स्मार्टफोंस की कीमत 9,999 रुपये से शुरू होती है और 17,990 रुपये तक जाती है। वीवो वाई सीरीज़ की यह अच्छी बात है कि इसके स्मार्टफोन ऑनलाइन शाॅपिंग साइट के साथ ही ऑफलाइन रिटेल स्टोर पर भी सेल के लिए उपलब्ध रहते हैं।

यकिनन Vivo ने अपने फैन्स के सामने अच्छे-खासे ऑप्शन्स पेश कर दिए है जिससे नया स्मार्टफोन खरीदने से पहले चॉइस की लिस्ट लंबी होती है, लेकिन वहीं दूसरी ओर बहुत से ऐसे यूजर्स भी हैं जिन्हें Vivo Y series में कई कमियां नज़र आती है। हमनें भी कुछ ऐसे ही उपभोक्ताओं की राय जानने की कोशिश की और पाया कि ‘वाई’ सीरीज़ वीवो को दो कदम आगे तो लेकर जाती है कि लेकिन कुछ प्वाइंट्स की वजह से कंपनी चार कदम पीछे भी सरक जाती है।

1. डिजाईन में नहीं नयापन

स्मार्टफोन यूजर्स की शिकायत है कि Vivo Y series के स्मार्टफोंस की लुक अमूमन एक जैसी होती है और डिजाईन में कोई नयापन देखने को नहीं मिलता। इस महीने लाॅन्च हुए चारों स्मार्टफोंस की बात करें तो Vivo Y12s और Vivo Y20G का फ्रंट व बैक पैनल जहां एक जैसा नज़र आ रहा है वहीं Vivo Y51a और Vivo Y31 भी देखने में बेहद ज्यादा एक जैसे प्रतीत हो रहे हैं। डिसप्ले पर लगी ‘नाॅच’ से लेकर बैक पैनल पर फिट रियर कैमरा सेटअप तक, कुछ ऐसे स्टाईल हैं जिन्हें इस सीरीज़ में लगातार समान ही देखा जा रहा है और कंज्यूमर अब किसी नई लुक की तालाश में है।

2. स्क्रीन से समझौता

फोन डिसप्ले को लेकर मोबाइल यूजर्स ने वीवो वाई सीरीज़ के लेटेस्ट स्मार्टफोंस में सबसे पहली शिकायत यही की है कि इनमें आईपीएस पैनल का यूज़ किया गया है और फोन में वाॅटरड्राॅप नाॅच दी गई है। गौरतलब है कि वीवो ने इसे ‘Halo notch’ का नाम दिया है। वहीं दूसरी ओर इस रेंज में पंच-होल डिसप्ले के साथ फोन बाजार में उपलब्ध है और साथ ही उनमें इन-डिसप्ले फिंगरप्रिंट सेंसर भी यूजर्स को मिल जाता है। यह भी पढ़ें: TV स्क्रीन पर दिखने वाले इन नंबरों का क्या है राज, जानें क्यों करते हैं ये टीवी देखने का मजा खराब

3. प्रोसेसर पुराना

Vivo Y series के हालिया लाॅन्च वाई31 और वाई51ए स्मार्टफोन में क्वाॅलकाॅम का स्नैपड्रैगन 662 चिपसेट दिया गया है। यह चिपसेट खासतौर पर मिडरेंज स्मार्टफोंस के लिए ही बनाया गया है, लेकिन यूजर को जो बात अखर रही है, वह है एक साल पुराना प्रोसेसर। स्नैपड्रैगन 662 चिपसेट को क्वाॅलकाॅम ने पिछले साल लाॅन्च किया था और वीवो फैन्स चाहते हैं कि इस बजट के स्मार्टफोन में उन्हें एक साल पुराने चिपसेट की जगह कोई नया या फिर कम से कम स्नैपड्रैगन 700 सीरीज़ का अपग्रेडेड चिपसेट वाई सीरीज़ में डाल कर दिया जाए।

vivo-y-series-pros-cons-good-bad-benefits-specs-features-price-in-india

4. कैमरे में नज़र आती कमी

वीवो द्वारा इस महीने वाई सीरीज़ में लाॅन्च किए गए स्मार्टफोन मैक्सिमम ट्रिपल रियर कैमरा सपोर्ट करते हैं। Vivo Y51a और Vivo Y31 में जहां 48 मेगापिक्सल का प्राइमरी सेंसर दिया गया है वहीं Vivo Y12s और Vivo Y20G 13 मेगापिक्सल का प्राइमरी रियर कैमरा सेंसर सपोर्ट करते हैं। आज के क्वाॅड रियर कैमरा ट्रेंड ने यूजर्स का मिज़ाज भी बदल दिया है। उपभोक्ताओं का मानना है कि क्वाॅड कैमरे की तुलना में ट्रिपल कैमरा सेटअप में वाइड एंगल लेंस, डेफ्थ सेंसर और मैक्रो लेंस के साथ ही डिजीटल ज़ूम, ऑप्टिकल ज़ूम और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जैसे फीचर्स में से किसी न किसी के साथ समझौता करना पड़ता है। यह भी पढ़ें: सिर्फ 5 प्वाइंट में जानें अभी क्यों न लें सस्ता 5G स्मार्टफोन?

5. बैटरी बड़ी लेकिन बैकअप बकाया

Vivo Y series के लेटेस्ट स्मार्टफोंस में कंपनी ने 5,000एमएएच तक की बड़ी बैटरी दी है जिसके साथ 18वाॅट फास्ट चार्जिंग सपोर्ट मौजूद है। कहने को तो बड़ी बैटरी और चार्जिंग तकनीक दोनों ही बेहतर है, लेकिन वीवो फैन्स अन्य ब्रांड से इसकी तुलना करने पर कहीं न कहीं कम मानते हैं। कुछ यूजर्स का कहना है कि 18वाॅट से बेहतर होगा कि वीवो इन स्मार्टफोन में कम से कम 25वाॅट, 33वाॅट या 35वाॅट फास्ट चार्जिंग तकनीक दे और साथ ही चार्जर भी बाॅक्स में मुहैया कराए।

बता दें कि उपरोक्त प्वाइंट्स मोबाइल यूजर्स से की गई बातचीत और उनकी निजी राय के आधार पर सामने आए हैं। वहीं दूसरी ओर 91मोबाइल्स का मानना है कि किसी एक आस्पेक्ट के बिनाह पर किसी स्मार्टफोन या मोबाइल सीरीज़ का आंकलन या आलोचना नहीं की जा सकती है। सभी फीचर्स और स्पेसिफिकेशन्स एक साथ मिलकर ही स्मार्टफोन की परफाॅर्मेंस को तय करते हैं और ओवरऑल प्रदर्शन सामने लाते हैं।

LEAVE A REPLY