अब बिना छुए ही चलेगा मोबाईल, टीवी और कम्प्यूटर, हॉलीवुड फिल्मों की टेकनीक होगी सच

अब तक आपने हॉलीवुड फिल्मों में देखा होगा कि हवा में उंगलियां घुमा कर किसी भी कम्यूटर पर काम किया जाता है और आस पास मौजूद मशीनों को कंट्रोल किया जाता है। लेकिन फिल्मों से निकल कर यह तकनीक जल्द ही आम लोगों की जिंदगी का हिस्सा बन सकती है। वै​ज्ञानिकों द्वारा एक ऐसी तकनीक का ईजाद किया गया है जिसमें अपने हाथ पर उंगलियों को चला कर घर के टीवी, एसी और कम्पयूटर पर काम किया जा सकता है, और वो भी उन्हें बिना छुए।

साइंस एडवांसिस ने इस नई तकनीक की जानकारी देते हुए एक लेख छापा है। इस आर्टिकल के मुताबिक वैज्ञानिकों ने एक कृत्रिम इलेक्ट्रॉनिक स्कीन तैयार की है, जिसे किसी टैटू की तरह हाथ या स्कीन पर चिपकाया जा सकता है। इस टैटू में सेंसर लगाए गए हैं जो मैग्नेटिक पावर से शरीर की मूवमेंट को ​महसूस करते हैं और जैसे-जैसे आप अपने हाथ की हिलाएंगे यह टैटूनुमा अल्ट्राथिन इलेक्ट्रॉनिक स्किन हाथों के जेस्चर के जरिये आपको गैजेट्स को कमांड देगी।

इस इलेक्ट्रॉनिक स्किन के जरिये गैजेट्स व इलेक्ट्रॉनिक डिवाईसेज़ जैसे टीवी, एसी, म्यूजिक सिस्टम, मोबाईल या लैपटॉप को भी कंट्रोल किया जा सकता है। इस तकनीक के साथ आप बिजली के उपकरण को बिना हाथ लगाए उसे ऑपरेट कर पाएंगे। यह स्किन बेहद ही पतली है जो किसी टैटू की तरह हाथ पर चिपक जाती है। इस स्किन में कई सैंसर लगे हैं जो मैगनेटिक फील्ड को ट्रेस करने का काम करते हैं। ये सैंसर इतने फ्लैक्सिबल हैं कि हाथ के मुड़ने, झुकने और खींचने पर ही बिना किसी नुकसान के हाथ पर चिपके रहते हैं।

इस शोध से जुड़े वैज्ञानिक के मुताबिक मैग्नेटिक पावर से यह स्कीन हाथों की हलचल को ट्रैक करती है। और आप जिस डिवाईस को यूज़ करने जा रहे हैं उस डिवाईस को मैग्नेटिक पावर से अपने आप ही कनेक्ट कर लेती है। और इस तरह आप सिर्फ अपना हाथ हिलाकर उस चीज को बिना छुए ही उसे चला सकते हैं।

SHARE
Previous article5 रियर कैमरे के साथ लॉन्च होगा नोकिया 10, बदल जाएगी स्मार्टफोन्स की दुनिया
Next articleआॅनर 9 लाइट
मेरे लिखने से आपके पढ़ने तक, सब तकनीक है।Kamal Kant का मानना है कि तकनीक नई हो या पुरानी हर रोज़ कुछ न कुछ नया ​दिखाती है, सिखाती है। टेक्नोलॉजी के प्रति इसी सोच ने कमल को तकनीक जगत में आने के लिए प्रेरित किया। पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने 10 साल के अनुभव के दौरान ये विभिन्न प्रतिष्ठित संस्थानों से जुड़ते हुए मीडिया के तीनों मंच - प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक्स और डिजीटल मीडिया पर कार्य चुके हैं।