जानें क्या है कैशे मैमोरी और क्या हैं इसके फायदे व नुकसान

आप फोन का उपयोग कर रहे हों या फिर कंप्यूटर का। इस दौरान अक्सर आपको कैशे मैमोरी का जिक्र सुनने को मिलता होगा। कोई कहता होगा कि कैशे मैमोरी खाली कर दे तो कोई कैशे क्लियर करने को कहता होगा। उस वक्त आपको यही लगता होगा कि जब कैशे मैमोरी को क्लियर ही करनी होती है और बार—बार खाली ही करनी होती है तो इसकी जरूरत क्या है? क्यों यह हर कंप्यूटर और मोबाइल में होता है? तो चलिए हम बताते हैं आपको क्या है कैशे मैमोरी और क्यों है यह जरूरी?

क्या है कैशे मैमोरी
कैशे मैमोरी को आप सीपीयू मैमोरी भी कह सकते हैं। यह रैम मैमोरी है जो कंप्यूटर और मोबाइल के सबसे नजदीक होती है। साधारण रैम मैमोरी की अपेक्षा कैशे मैमोरी को कंप्यूटर काफी तेजी से एक्सेस करती है। कैश मैमोरी को आम तौर पर एक चिप के माध्यम से सीपीयू के अंदर या फिर किसी खास चीप में इंटीग्रेट कर अलग से बस के माध्यम से सीपीयू से इंटरकनेक्ट किया जाता है।

एंडरॉयड आॅपरेटिंग सिस्टम 7.0 नुगट की 5 बड़ी समस्याएं और उनका निदान

क्या हैं कैशे मैमोरी के फायदे
कैशे मैमोरी का मुख्य कार्य प्रोग्राम इंस्ट्रक्शन जिसे आप अनुदेश भी कह सकते हैं, को संग्रहित करना है। जिससे कि सॉफ्टवेयर उपयोग के दौरान उनका तेजी से उपयोग किया जा सके। कैशे मैमोरी में उपलब्ध डाटा के माध्यम से आप काफी तेजी से सॉफ्टवेयर और एप्लिकेशन का उपयोग कर सकते हैं। कैशे मैमोरी डिवाइस में प्रोसेसर और मैमोरी के रास्ते में होती है। डिवाइस उपयोग के दौरान माइक्रोप्रोसेसर डाटा प्रोसेस के लिए कैशे मैमोरी में उपलब्ध डाटा को सबसे पहले देखता है और उसे काफी तेजी से एक्सेस करता है। यहां वे डाटा उपलब्ध होते हैं जिनका अपने पहले से उपयोग किया हो। कैशे मैमोरी में उपलब्ध डाटा को उपयोग करने में ज्यादा समय नहीं लगता।

अपने चोरी हुए फोन का पता कर सकते हैं लोकेशन और आईएमईआई नंबर

कैशे मैमोरी साधारण मैमोरी की अपेक्षा काफी छोटा होती है। वहीं साधारण इंटरल मैमोरी की अपेक्षा कैशे मैमोरी को ऐक्सेस करने में भी काफी कम समय लगता है। प्रोसेसर द्वारा कैशे मैमोरी को ऐक्सेस करने का समय लगभग 100 नैनो सेकेंड है जबकि साधारण मैमोरी के लिए यह समय लगभग सात गुणा बढ़ जाता है। उसका समय लगभग 700 नैनो सेकेंड का होता है।

कैशे मैमोरी का फायदा यह होता है कि इसके माध्यम से आप काफी तेजी से मोबाइल और कंप्यूटर का उपयोग कर सकते हैं। जैसे आप कोई ब्राउजर खोल रहे हैं या फिर ​टाइपिंग कर रहे हैं तो कैशे मैमोरी में उपलब्ध डाटा से ही आपके पास सुझाव आते हैं जिससे के आप तेजी से इसका उपयोग कर सकें। कैशे डाटा ऐप्लिकेशन उपयोग के दौरान तैयार होते हैं। कैशे मैमोरी में टैंपरेरी फाइल सेव होते हैं।

क्या है कैशे मैमोरी का नुकसान
कैशे मैमोरी के फायदे बड़े हैं लेकिन इसका थोड़ा नुकसान भी है। सबसे पहले बता दूं कि यह मैमोरी काफी छोटी होती है ऐसे में बहुत तेजी से भर जाती है। प्रोसेसर और मैमोरी के रास्ते में होने की वजह से यह​ जैसे-जैसे भरने लगता है वैसे-वैसे डिवाइस को धीमा करना शुरू कर देता है। वहीं कैशे मैमोरी भरने पर फोन के बाद फोन हैंग भी करने लगता है।

SHARE
Previous article4जीबी रैम के साथ लॉन्च हुआ सैमसंग का यह शानदार फोन
Next articleसनसनी: ​इस वेबसाइट से हो रही है जियो यूजर्स की जानकारी लीक
टेक्नोलॉजी शौक नहीं इनका जुनून है और इसी जुनून ने इन्हें टेक जगत में आने के लिए प्रेरित किया। मुकेश कुमार सिंह उन चंद लोगों में से हैं जिन्होंने हिंदी में मोबाइल रिव्यू लिखने की शुरूआत की। अपने 15 सालों के प​त्रकारिता के सफर की शुरुआत इन्होंने हिंदी डेली से की और पिछले 13 सालों से ये मोबाइल तकनीकी क्षेत्र में सक्रिय हैं। अब तक ये मॉय मोबाइल मैगजीन और बीजीआर जैसे वेबसाइट के लिए कार्य कर चुके हैं। वहीं जागरण और नवभारत टाइम्स जैसे अखबारों में इनके लेख नियमित रूप से छपते रहते हैं।