आपका फोन हो जाए चोरी तो जानें सबसे पहले क्या करें?

जिस तरह से मोबाइल चोरी की घटनाएं बढ़ रही हैं उसे देखते हुए आज आप कह ही नहीं सकते कि मेरा फोन कभी चोरी हो ही नहीं सकता। बस में, मेट्रो में, ट्रेन में यहां तक की सरे राह चलते हुए भी फोन चोरी हो जाता है। ऐसे में फोन को लेकर सजग रहने की तो जरूरत है ही, साथ ही आपको मोबाइल डाटा को लेकर भी थोड़ा सावधान रहने की आवश्य​कता है। इसके साथ ही यह भी जानने की जरूरत है कि यदि मोबाइल चोरी हो जाए तो सबसे पहले क्या करें। तो चलिए बताते हैं एक-एक स्टेप।

1. फोन को करें ट्रैक
मोबाइल चोरी होते या गुम होते ही आपके सामने दो तरह के सवाल होते हैं। सबसे पहला सवाल कि सिम लॉक करवाएं या फिर डाटा को बचाएं। मेरे हिसाब से आज सबसे पहला काम फोन के लोकेशन को देखना होना चाहिए।

फोन का कैमरा कर रहा है परेशान तो जानें 7 आसान समाधान

एंडराॅयड स्मार्टफोन में ट्रैक माई फोन का आॅप्शन होता है। इसके माध्यम से आप अपने फोन को ट्रैक कर सकते हैं। यदि फोन गुम हुआ है तो वह मिल जाएगा। वहीं यदि वह चोर के हाथ लग गया है और उसने आॅफ कर दिया है तो आप उसका लास्ट लोकेशन देख सकते हैं। ट्रैक माई फोन का विकल्प एंडरॉयड फोन में डिवाइस मैनेजर से मिलता है।
map-zoom
आज कल एंडरॉयड फोन में गूगल आईडी इंटीग्रेट करते ही यह फीचर आॅन हो जाता है। इसे आप सेटिंग में जा कर सिक्योरिटी से देख सकते हैं। यहां आपको डिवाइस एडमिनिस्ट्रेटर या फिर डिवाइस मैनेजर का विकल्प मिलेगा उसे आॅन होना चाहिए।

आपका सवाल यही होगा कि यदि फोन चोरी या गुम हो जाता है तो कैसे इस फीचर का उपयोग करें? तो आपको बता दूं कि इसका उपयोग आप किसी दूसरे डिवाइस या फिर वेब से भी कर सकते हैं। गूगल पर आप ट्रैक माई फोन लिखकर सर्च करने पर​ विकल्प आ जाएगा। इसके अलावा किसी दूसरे एंडरॉयड स्मार्टफोन में आप एंडराॅयड डिवाइस मैनेजर ऐप को डाउनलोड कर अपने फोन का पता लगा सकते हैं।

जानें क्या है कैशे मैमोरी और क्या हैं इसके फायदे व नुकसान

जैसे ही आप वेब या ऐप ओपेन करेंगे लॉगिन का विकल्प आएगा। यहां आपको उसी अकाउंट से लॉगिन करना है जिसे आपने अपने चोरी या गुम हुए फोन में इंटीग्रेट किया था। इसके साथ ही आपके सामने फोन ट्रैक का आॅप्शन मिल जाएगा और आप लास्ट लोकेशन देख सकते हैं।

2. तुरंत मिटाएं डाटा
यदि आपका फोन गुम हुआ है तो वहां रिंग का आॅप्शन होगा। इससे क्लिक करते आपका फोन रिंग करने लगेगा और यदि आपके आस पास है ​तो आप उसे ढूंढ़ सकते हैं। वहीं यदि फोन चोरी हो गया है तो ट्रैक माईफोन के बाद दूसरा स्टेप डाटा नष्ट करने का होना चाहिए। आप फोन के सभी डाटा को दूर से ही या यूं कहें कि किसी दूसरे पीसी या फोन से ही नष्ट कर सकते हैं। एंडरॉयड डिवाइस मैनेजर में आपको यह आॅप्शन मिल जाएगा।
data-3
जैसे ही किसी ​किसी दूसरे डिवाइस से एंडरॉयड डिवाइस मैनेजर में लॉगिन करेंगे। सामने ही इरेज डाटा का विकल्प मिलेगा। इरेज डाटा के माध्मय से फोन में उपलब्ध सभी डाटा को पूरी तरह से नष्ट कर सकते हैं। आप चाहें तो यहीं से फोन का पासवर्ड भी बदल सकते हैं।

10 काम जिसे कर सकता है आपका एंडरॉयड फोन लेकिन आप नहीं जानते

3. दे सकते हैं सूचना
हालांकि आप चाहें तो यहीं से अपने चोरी हुए या खोए हुए फोन पर सूचना भेज सकते हैं। यदि लगता है कि आपका फोन आपको वापस मिल सकता है तो आप मैसेज में वैकल्पिक नंबर भी दे सकते हैं जिससे वह आपसे कॉन्टैक्ट कर सके। यह फीचर आपको एंडरॉयड डिवाइस मैनेजर में मिलेगा।

4. सभी अकाउंट करें अनलिंक
फोन चोरी होने या गुम होने के बाद लेकेशन देखने और डाटा नष्ट करने के साथ ही आप एक और प्रक्रिया शुरू करें जो बेहद जरूरी है। यह कि आप अपने फोन में लिंक किए गए सभी अकाउंट को अनलिंक करें। फोन में जीमेल अकाउंट से ही आज ड्राप बॉक्स, गूगल ड्राइव और व्हाट्सऐप सहित कई दूसरे अकाउंट लिंक होते हैं आप उन्हें अन लिंक करें। इसके लिए आप वेबसाइट पर जाकर अनलिंक का​ विकल्प प्रोफाइल में सेटिंग में सिक्योरिटी में होता है। आप वेबसाइट से अपने जीमेल अकाउंट में लॉगिन करेंगे तो दाहिनी ओर फोटो पर क्लिक करने पर प्रोफाइल और प्राइवेसी का विकल्प मिलेगा। उस पर क्लिक करते ही एक्टिविटी पेज खुलेगा जहां से आप सभी अकाउंट और एक्टिविटी को अनलिंक कर सकते हैं।
google-play-password
5. बदलें सभी का पासवर्ड
हालांकि जिस तरह से आज डाटा सुरक्षा अहम मुद्दा बन गया है ऐसे में यह बताने की जरूरत नहीं है कि यदि आपका फोन खो जाता है या चोरी हो जाता है तो पासवर्ड बदलें। सिर्फ जीमेल अकाउंट ही नहीं बल्कि फोन में इंटीग्रेटेड सभी सोशल नेटवर्किंग और बैकिंग अकाउंट का पासवर्ड तुरंत बदलें।

6. सिम कार्ड कराएं ब्लॉक
उपर दिए गए सभी स्टेप को उठाने के बाद आप अपने सिम कार्ड को ब्लॉक कराएं। आप कस्टम केयर में कॉल कर या फिर स्टोर पर जाकर इसे ब्लॉक करा सकते हैं।

7. एफआईआर
हालांकि अधिकतर लोग फोन खो जाने की स्थिति में यह सोच कर एफआईआर नहीं कराते कि फोन तो मिलना नहीं है तो यह जहमत कौन पाले। परंतु आपको बता दूं किसी भी व्यक्ति की नियत यही होगी तो वह फोन चोरी ही नहीं करेगा। चोरी के फोन से वह कुछ भी कर सकता है जिसमें रजिस्टर्ड आईएमईआई नंबर आपका दिखाएगा। इसलिए फोन चोरी होने या गुम होने की स्थिति में जरूरी से एफआईआर कराएं। फोन एफआईआर में फोन का आईएमईआई नंबर भी जरूर डालें। यह फोन के बॉक्स पर और बिल पर लिखा होगा। यदि आईएमईआई नंबर नहीं पता तो आगे हमने तरीका बताया है। इससे खोए फोन में भी पता कर सकते हैं आईएमईआई नंबर। चोरी हुए एंडरॉयड स्मार्टफोन में कैसे पता करें आईएमईआई नंबर

SHARE
Previous article4जीबी रैम और 64जीबी ​मैमोरी वाला मीज़ु प्रो 7 जल्द हो सकता है लॉन्च
Next articleसिर्फ 999 रुपये में लॉन्च हुआ नोकिया फोन, क्या आप लेंगे इसे
टेक्नोलॉजी शौक नहीं इनका जुनून है और इसी जुनून ने इन्हें टेक जगत में आने के लिए प्रेरित किया। मुकेश कुमार सिंह उन चंद लोगों में से हैं जिन्होंने हिंदी में मोबाइल रिव्यू लिखने की शुरूआत की। अपने 15 सालों के प​त्रकारिता के सफर की शुरुआत इन्होंने हिंदी डेली से की और पिछले 13 सालों से ये मोबाइल तकनीकी क्षेत्र में सक्रिय हैं। अब तक ये मॉय मोबाइल मैगजीन और बीजीआर जैसे वेबसाइट के लिए कार्य कर चुके हैं। वहीं जागरण और नवभारत टाइम्स जैसे अखबारों में इनके लेख नियमित रूप से छपते रहते हैं।