व्हाट्सऐप के खिलाफ पेटीएम ने बोला हमला, जानें आखिर क्या है पूरा माजरा

whatsapp group video calling limit increased to eight people in lockdown covid 19 pandemic

देश में सबसे ज्यादा यूज़ की जाने वाली इंस्टेंट मैसेंजिंग ऐप व्हाट्सऐप अपने यूजर्स के लिए कुछ न कुछ नया करती रहती है। हाल ही में व्हाट्सऐप ने अपने भारतीय यूजर्स के लिए नया पेमेंट फीचर पेश किया है। व्हाट्सऐप का यह फीचर जहां आईओएस पर रोलआउट किया जा चुका है वहीं एंडरॉयड पर आना बाकि है। व्हाट्सऐप के इस नए फीचर को अभी सभी यूजर जान भी नहीं पाएं थे कि व्हाट्सऐप पेमेंट को लेकर इंडियन बाजार में हंगामा हो गया है। और यह हंगामा खड़ा करने वाला कोई और नहीं ब​लकि देश की प्रसिद्ध डिजीटल वॉलेट ऐप पेटीएम है।

व्हाट्सऐप पेमेंट फीचर यूजर्स को चैटिंग करने के साथ ही डिजीटल ट्रांजेक्शन करने की सुविधा भी देता है। डिजीटल वॉलेट के बड़े हिस्से पर कब्जा किए पेटीएम को शायद इस बाजार का नया प्रतिद्वंदी रास नहीं आया और पेटीएम ने व्हाट्सऐप पेमेंट फीचर की आलोचना करते हुई इसकी शिकायत नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) में करने की तैयारी कर ली है।

इकनॉमिक टाइम्स की खबर के मुताबिक पेटीएम का कहना है कि व्हाट्सऐप पेमेंट फीचर का इस्तेमाल भारतीय यूजर्स के लिए बेहद रिस्की है। पेटीएम के विजय शेखर के अनुसार व्हाट्सऐप पेमेंट फीचर यूपीआई सिस्टम पर काम करता है। यूपीआई एक भारतीय स्टैक है तथा व्हाट्सऐप पेमेंट फीचर के माध्यम से अमेरिकी कंपनी फेसबुक इसमें हस्तक्षेप कर रही है। पेटीएम का कहना है कि व्हाट्सऐप पेमेंट फीचर के खिलाफ वह यूपीआई तथा अथॉरिटी के वरिष्ठ ​अधिकारियों के समक्ष यह मुद्दा उठाएंगे।

पेटीएम ने कहा है कि भारत में व्हाट्सऐप का यूज़ करोड़ों लोगों द्वारा किया जाता है लेकिन देश में इस फीचर की टेस्टिंग सिर्फ पांच से दस हजार लोगों पर ही की गई है। गौरतलब है कि देश में लगभग 20 करोड़ से भी ज्यादा लोग व्हाट्सऐप का इस्तेमाल करते हैं और ऐसे में पेमेंट फीचर का आना पेटीएम जैसी कंपनियों के लिए बड़ा झटका है। खैर रिलायंस जियो के आने पर भी हम बाजार में ऐसी कोल्ड वॉर देख चुके हैं, अभी देखना यह है कि क्या व्हाट्सऐप पेमेंट फीचर देश में परवान चढ़ पाएगा या फिर पेटीएम का ताज सलामत रहेगा।