जानें क्यों न खरीदें 16जीबी इंटरनल मैमोरी वाला स्मार्टफोन

स्मार्टफोन खरीदारी के वक्त आपके दिमाग में यही चल रहा होता है कि फोन ऐसा हो जो कम से कम साल दो साल निकाल दे। पंरतु कुछ ही महीनों में आपका फोन आपको तंग करने लगता है और आप उसके साथ असहज महसूस करने लगते है। फोन हैंग होने लगता है और धीमा हो जाता है। आपने कभी सोचा है कि ऐसा क्यों होता है।

उसका कारण यह होता है​ कि प्लान के साथ फोन की खरीदारी नहीं करते। आप फोन की तुलना करते हैं लेकिन भविष्य का फोन समझकर नहीं खरीदारी करते। यदि ऐसा करते तो यह समस्या नहीं होती। एक फोन की खरीदारी के समय आप बेहतर प्रोसेसर, ताकतवर रैम और नया आॅपरेटिंग सिस्टम तो देखते हैं लेकिन इंटरनल मैमोरी 16 जीबी ले लेते हैं और यही गलती कर बैठते हैं।

आपका एंडरॉयड फोन हो रहा है गर्म जानें 10 आसान समाधान

आपको बता दूं कि जिस तरह से आज स्मार्टफोन की जरूरत बढ़ने लगी है वैसे में 16जीबी मैमोरी वाला यदि आप फोन ले रहे हैं तो बहुत बड़ी गतली कर रहे हैं क्योंकि कुछ ही दिनों आपके फोन की मैमोरी भर जाएगी और आप फिर से परेशानी में पड़ जाएंगे। हमने एक स्क्रीनशॉट शेयर किया है जिसमें आप देख सकते हैं कि इसमें न बहुत ज्यादा ऐप्लिकेशन इंस्टॉल है, न बहुत ज्यादा म्यूजिक और न ही वीडियो फिर भी फोन की मैमोरी खत्म होने के कागार पर है। चलिए बताते हैं उसका कारण क्या है? क्यों​ नहीं खरीदना चाहिए 16जीबी मैमोरी वाला फोन?

1. सबसे पहले आपको यह जानने की जरूरत है कि य​दि आप 16जीबी मैमोरी वाला फोन लेते हैं तो 6जीबी से ज्यादा मैमोरी ओएस और सिस्टम फाइल में चली जाती है और आपको सिर्फ 8-9जीबी स्पेस ही मिलता है।
smartphone-photography
2. यदि आप 13-मेगापिक्सल कैमरे से 2 मि​नट के 10 वीडियो भी बनाते हैं तो 1जीबी से ज्यादा स्पेस चली जाती है। ऐसे में आप ज्यादा वीडियो नहीं रख सकते।

जानें एंडरॉयड फोन से डिलीट फाइल को कैसे करें रिकवर

3. फोन में पहले से ही कई ऐप प्रीलोडेड होते हैं और यदि आप 5-7 ऐप और थोड़े गेम डाउनलोड कर लें तो अच्छी खासी मैमोरी चली जाती है। ऐसे में आप ज्यादा गेम और ऐप नहीं डाउनलोड कर सकते। हाई ग्राफिक्स वाले गेम तो बिल्कुल नहीं। यदि कर लिया डाउनलोड तो फिर कुछ भी नहीं बचेगा।

4. म्यूजिक का हर कोई दिवाना है। परंतु 16जीबी वाले फोन में थोड़े वीडियो और गेम डाउनलोड करने के बाद म्यूजिक के लिए बेहद ही कम स्पेस बचता है। बेहद कम म्यूजिक सुनने वालों के फोन में भी आपको 1—1.5जीबी तक का म्यूजिक स्टोर मिलेगा।

5. इन सबके अलावा फोन में ऐप डाटा भी अच्छा खासा स्पेस लेता है। जैसा आपका व्हाट्सऐप डाटा बहुत बड़ा हो जाता है। वहीं ब्राउजिंग और दूसरे ऐप के भी कैशे डाटा स्टोर होते हैं इन सब में भी मैमोरी चली जाती है। इतने के बाद फोन में कुछ बचता ही नहीं है।

एंडरॉयड फोन चोरी होने की स्थिति में ये 6 टिप्स होंगे बेहद उपयोगी

कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि यदि आप 16जीबी इंटरनल मैमोरी वाला फोन लेते हैं तो फिर खुलकर अपने स्मार्टफोन का उपयोग नहीं कर पाएंगे। ऐप के साइज बड़े हो गए हैं। कैमरा पहले से ज्यादा ताकतवर हो गया है जो काफी हैवी वीडियो और फोटो लेता है। म्यूजिक और वीडियो की क्वालिटी भी बेहतर हो गई है इस कारण फाइल हैवी हो गए हैं। ऐसे में आज जिस तरह से फोन का उपयोग बढ़ रहा है ऐसे में यदि 16जीबी इंटरनल मैमोरी वाला आप फोन लेते हैं तो महज छह माह में ही आपको इंटरनल मैमोरी खाली करने की जरूरत पड़ जाएगी। ऐसे में यदि आप आज कल कोई स्मार्टफोन लेने के बारे में सोच रहे हैं तो कम से कम 32जीबी इंटरनल मैमोरी वाला फोन लेना ही बेहतर है।