बेहद ही बेकार है शाओमी का ‘मी एक्सचेंज प्रोग्राम’

इंडियन मोबाईल बाजार पर अपनी पकड़ और मजबूत करने तथा मी स्मार्टफोन्स की सेल को बढ़ाने के लिए दिग्गज़ कंपनी शाओमी ने ‘मी एक्सचेंज प्रोग्राम’ की शुरूआत की है, जिसमें पुराने फोन के बदले नए शाओमी फोन दिए जा रहे हैं। इस प्रोग्राम के लिए शाओमी ने कैशीफाई से हाथ मिलाया है, जिसमें कैशीफाई यूजर्स के पुराने स्मार्टफोन्स की वैल्यू लगाती है और शाओमी उस वैल्यू को नए स्मार्टफोन की कीमत से घटाती है।

एप्पल भी ला रहा है डुअल सिम वाला फोन, अगले साल होंगे लॉन्च

शाओमी के इस ‘मी एक्सचेंज प्रोग्राम’ के लिए सबसे पहले कैशीफाई पर जाकर अपने पुराने हैंडसेट की डिटेल्स देनी होगी, जिसके बाद कैशीफाई की टीम उस हैंडसेट की वैल्यू आंकते हुए उसकी कीमत तय करेगी।

xiaomi-mi-exchange-programme

कैशीफाई की ओर से ग्राहकों को यूनिक नंबर दिया जाएगा और पुराने फोन की वैल्यू शाओमी को बताई जाएगी। शाओमी स्टोर पर जाकर वह यूनिक नंबर शेयर करना होगा, जिससे बाद जब आप अपना पंसदीदा शाओमी फोन खरीदेंगे तो उसके प्राइज़ में से पुराने फोन की कीमत को घटा दिया जाएगा।

फिर प्ले स्टोर पर आया यूसी ब्राउजर, डाटा सुरक्षा का दिया भरोसा

हालांकि आपको बता दूं कि सुनने में यह जितना अच्छा लग रहा है असल में उपयोग के दौरान उतना ही निराश करता है। इस आॅफर के नाम पर आपके स्मार्टफोन कोड़ियो के दाम खरीदे जा रहे हैं। वहीं खास बात यह कही जा सकती है कि कई फोन को तो यह स्वीकर ही नहीं कर रहा है। इसमें कई सारे फिल्टर्स लगे हैं जिससे कि आप अपने फोन की कंडिशन बता सकें। यदि आपके फोन का कंडिशन अच्छा है बॉक्स और सेल पेपर है तो भी कीमत 30 फीसदी के आस पास दी जा रही है। जो कि अनुमान से बेहद कम है। यदि यही फोन ओएलएक्स पर बेचा जाए तो इससे लगभग दोगुनी कीमत मिलने के आसार हैं।

xiaomi-mi-6-glass

हमने भी शाओमी के इस ‘मी एक्सचेंज प्रोग्राम’ को जांचा और कैशीफाई के माध्यम से इस एक्सचेंज प्रोग्राम का लाभ उठाना चाहा तो 5 में से सिर्फ 1 ही फोन को कैशीफाई ने अप्रूव किया और वो भी बेहद ही मामूली की एक्सचेंज वैल्यू पर। लगभग 11,000 रुपये के फोन की कीमत 3,000 रुपये लगाई गई।

आॅनर 8 लाइट की कीमत में हुई 2,000 रुपये की कटौती

वहीं कई स्मार्टफोन्स की कंडीशन सही होने के बावजूद कैशीफाई ने फोन को स्वीकार करने से मना कर दिया। इन पुराने फोन्स में सोनी, सैमसंग और खुद शाओमी के स्मार्टफोन शामिल थे। लिहाजा यह कहा जा सकता है कि शाओमी की ओर से आयोजित ‘मी एक्सचेंज प्रोग्राम’ जरूरतमंद लोगों को उचित लाभ पहॅुंचाने में नाकाम साबित हो रहा है और आम यूजर के लिए घाटे का सौदा ही है।

कैशीफाई पर क्लिक कर आप भी अपने पुराने फोन की वैल्यू जान सकते हैं।