ऑनलाइन ठगी का एक और शिकार, अमेजन से मंगाया था Xiaomi Redmi 7, बिना फोन मिले ही बता दिया Delivered

xiaomi Redmi 7 online fraud fake delivery by amazon india
image courtesy: News18

कल ही एक खबर सामने आई थी जिसमें ऑनलाइन शॉपिंग साइट फ्लिपकार्ट से 27,500 रुपये का लैपटॉप मंगाने वाले शख्स को बॉक्स में ईंटे डिलीवर की गई। ऑनलाइन ठगी का शिकार वह व्यक्ति अभी तक अपने महंगे प्रोडक्ट के इंतजार में है, कि कब कंपनी उसे उसका लैपटॉप लौटाएगी। वहीं अब ऐसा ही एक और मामला प्रकाश में आया है जिसमें शॉपिंग साइट अमेज़न से Xiaomi Redmi 7 स्मार्टफोन मंगाने पर युवक के पैसे तो काट लिए गए, लेकिन फोन उसके पास डिलीवर ही नहीं हुआ। इस मामले में हालात तब और भी बदतर हो गए जब अमेज़न ने साफ कह दिया कि उनकी ओर से फोन डिलीवर किया जा चुका है और अब वह इस मुद्दे पर कोई भी मदद नहीं कर सकते हैं।

बदलते समय और ट्रेंड के साथ चलते हुए कोई व्यक्ति अपनी कमाई का कुछ हिस्सा सिर्फ इंटरनेट कनेक्शन से जरिये ऐसे लोगों को चुकाता है, जिनके बारें में वह कुछ जानता ही नहीं है। पैसे देकर आम आदमी अपने हक का सामान पाने का इंतजार करता रह जाता है परंतु न ही उसे उसका सामान मिलता है और न ही वह चुकाए गए पैसे। ऐसा ही फ्रॉड हुआ है हरियाणा के हिसार जिले के रहने वाले प्रवीन कुमार के साथ।

Xiaomi Redmi 7 खरीदना पड़ गया महंगा

प्रवीन कुमार ने Xiaomi के लो बजट स्मार्टफोन Redmi 7 को अमेज़न से खरीदा था। Xiaomi Redmi 7 की सेल में प्रवीन ने प्रीपेड पेमेंट करते हुए अमेज़न पर फोन ऑर्डर किया था। फोन खरीदते वक्त प्रवीन ने 5,399 रुपये चुकाए थे। पेमेंट होने के बाद अमेज़न की ओर से ऑर्डर सफल होने का मैसेज आ गया और डिलीवरी की तारीख बता दी गई। बता दें कि प्रवीन कुमार ने Xiaomi Redmi 7 का 32जीबी स्टोरेज वेरिएंट 3 अक्टूबर को ऑर्डर किया था जो 9 अक्टूबर को डिलीवरी होना था।

एक दिन पहले ही आ गया ‘Phone Delivered’ का मैसेज

नया Xiaomi Redmi 7 फोन 9 अक्टूबर को डिलीवर होना था, लेकिन एक दिन पहले ही यानि 8 अक्टूबर को प्रवीन के पास ईमेल आ गया कि, ‘आपका फोन सफलतापूर्वक डिलीवर हो गया है।‘ इस मैसेज को देखते ही प्रवीन के होश उड़ गए और उन्होंने अमेजन इंडिया के कस्टमर केयर नंबर पर कॉल की। अमेज़न की ओर से तसल्ली दी गई कि, ‘यह मेल गलती से भेजा गया है। इंतजार करें, आपका फोन 10 अक्टूबर को डिलीवर किया जाएगा।

मेल को गलती से सेंड हुआ बताकर अमेजन ने दो दिन बाद फोन डिलीवर करने की बात कही। लेकिन जब बताई गई तारीख पर भी Xiaomi Redmi 7 फोन नहीं आया तो ग्राहक ने फिर से अमेजन को फोन किया और तब उन्हें कहा गया कि, ‘14 अक्टूबर तक इंतजार कीजिए, हम मामले की जांच करेंगे।‘ और फिर जब 14 अक्टूबर की तारीख आई तो अमेजन की ओर से कबूला गया कि प्रवीन का फोन ‘गुम‘ हो गया है तथा कंपनी की ओर से 18 अक्टूबर तक उनके पैसे लौटा दिए जाएंगे।

मिली तारीख पे तारीख

फोन ऑर्डर करने के दो हफ्ते बीत जाने के बाद जब 18 अक्टूबर को पैसे वापिस नहीं आए तो प्रवीन ने अमेजन से फिर से बात की। इस बार उन्हें कहा गया कि, ‘आपको गलत जानकारी दी गई है, आपके पैसे 23 अक्टूबर तक आपके अकाउंट में क्रेडिट हो जाएंगे।‘ पैसों को इंतजार में 23 अक्टूबर का दिन भी निकल गया और फिर ग्राहक ने 24 अक्टूकर को फिर से अमेजन को कॉल किया। और इस बार अमेज़न का जवाब था, ‘आपका फोन 8 अक्टूबर को ही डिलीवर किया जा चुका है।

अमेजन ने प्रवीन कुमार को दो टूक जवाब दे दिया कि आपका फोन हमारी ओर से डिलीवर किया जा चुका है और हमारे पास डिलीवर डिटेल्स के साथ ही आपके हस्ताक्षर भी मौजूद है। प्रवीन को पहला झटका जहां इस बात का लगा कि उसके पैसे पानी में जा चुके हैं, वहीं दूसरा इस बात का कि बिना फोन प्राप्त हुए ही अमेजन के पास उसके हस्ताक्षर भी पहुॅंच गए। वहीं जब अमेजन से हस्ताक्षर दिखाने की बात कही गई जो कंपनी की ओर से साफ मना कर दिया गया है।

xiaomi Redmi 7 online fraud fake delivery by amazon india

Xiaomi इंडिया का सबसे बड़ा स्मार्टफोन ब्रांड है और Amazon इंडियन ई-कॉमर्स क्षेत्र की बड़ी कंपनी। Xiaomi स्मार्टफोन की डिलीवरी के नाम पर कंपनी की नाक नीचे गोरखधंधा चल रहा है, इस बात की जानकारी शायद खुद Xiaomi को ही नहीं है। लेकिन Amazon द्वारा ऐसे मामलों की गंभीरता को न समझना कंपनी के प्रति नकरात्मक सोच तो पैदा करती ही है तथा साथ ही ऑनलाइन शॉपिंग के नाम पर हो रही ऐसी धोखाधड़ी आम जनता की जेब पर चाकू चला रही है। बता दें कि Xiaomi Redmi 7 ऑर्डर करने वाले प्रवीन कुमार ने Amazon द्वारा किए गए इस फ्रॉड के खिलाफ उपभोक्ता अदालत में मामला दर्ज कर दिया है।

बहरहाल प्रथम दृष्टया यह मामला स्थानिय गड़बड़ी का ही माना जा रहा है। वहीं इस मुद्दे पर अमेजन के जवाब का इंतजार किया जा रहा है, जिसके मिलते ही दूसरे पक्ष का व्यू भी अपडेट किया जाएगा।

LEAVE A REPLY